Hindi

विरक दे ‘नवें लोक’ संत सिंघ सेखों

कुलवंत सिंघ विरक हंढिआ होइआ कहाणीकार है, जिस ने पंजाबी कहाणी दी कला नूं आपणीआं पहिलीआं किरतां विच ही इक्क उन्नत पड़ाअ ‘ते पुचा दित्ता सी। ‘नवें लोक’ पुसतक दा शीरशक केवल इन्हां कहाणीआं दे नवीआं होण दा ही सूचक नहीं। इन्हां दे पातर वी विरक दे विचार विच साडे देश दे नवें, आधुनिक रुचीआं …

विरक दे ‘नवें लोक’ संत सिंघ सेखों Read More »

मानववाद

कुझ साल होए जदों विरक अंबाले रहिंदा सी तां दसंबर दीआं छुट्टीआं विच दुग्गल ते मैं उस पास गए होए सां। उत्थे साहित चरचा दे दौरान विच मेरा प्रिय सिधांत कि साहित विच समाजक सारथिकता होणी चाहीदी है आम आ जांदी सी ते दुग्गल ते विरक दोवें इस दी आवश्शकता नूं मन्नण तों झिजकदे सन। …

मानववाद Read More »

सिद्धी लकीर दी जटिलता प्रो। महिंदर सिंघ चीमा

  जगत प्रसिद्ध आदरशवादी दरशन-वेता ते चिंतक सी।ई।ऐम्म। जोड आपणे दरशन दा निचोड़ इस प्रकार कढ्ढदा है।दुनीआ विच हर इक्क मंज़ल नूं सिद्धा राह जांदा दिस्सदा है, पर तिन्न चीज़ां अजिहीआं हन, जिन्हां नूं सिद्धा मारग नहीं जोड़दा, सगों जे इन्हां नूं प्रापत करना होवे तां टेढा राह लभ्भणा पवेगा। इह तिन्न विशे हन:- 1। …

सिद्धी लकीर दी जटिलता प्रो। महिंदर सिंघ चीमा Read More »

महीन सूझ वाला पिआरा कहाणीकार-विरक प्रो। पिआरा सिंघ भोगल

  मैं संत सिंघ सेखों दीआं ‘समाचार’ विचलीआं कहाणीआं ‘पेमी दे निआणे’, ‘भत्ता’ ते ‘अनोख सिंघ दी वहुटी’ पड़्ह चुक्का सी, जिन्हां राहीं सेखों ने साधारन मनुक्ख नूं उस दे नित्त दे जीवन दे रूप ‘च, पंजाबी साहित दे इतिहास ‘च पहिली वार पेश करके दिखाइआ सी, जदों मैनूं कुलवंत सिंघ विरक दीआं कहाणीआं पड़्हन …

महीन सूझ वाला पिआरा कहाणीकार-विरक प्रो। पिआरा सिंघ भोगल Read More »

निघझघा मनुकझख ते उतझतम कहाणीकार-कुलवंत सिंघ विरक

  प्रो। पिआरा सिंघ भोगलकुलवंत सिंघ विरक नहीं रहे। विरक दा तुर जाणा साडी निजझजी ज़िंदगी विच वी ते पंजाबी साहित विच वी ना पूरा होण वाला खपझपा है। विरक बहुत निघझघा मनुकझख सी ते बहुत वधीआ कहाणीकार। हर किसे नूं मितझतर नहीं सी बणाउंदा, पर जिस नूं बणाउंदा सी, आपणी तिकझखी बुदझध ते आपणी …

निघझघा मनुकझख ते उतझतम कहाणीकार-कुलवंत सिंघ विरक Read More »

विरक दीआं कहाणीआं दीआं दो विशेशताईआं प्रो। अतर सिंघ

  निक्की कहाणी साधारन मनुक्ख दी साधारनता विच पेश करन दी लोचा तों उपजी है। विशेश जां वचित्तर मनुक्ख निक्की कहाणी दा मज़मून नहीं। निक्की हुनरी कहाणी दा अजिहा संकलप पंजाबी विच संत सिंघ सेखों दीआं ‘पेमी दे निआणे’, ‘मुड़ विधवा’, ‘अनोख सिंघ दी वहुटी’, ‘हळ-वाह’ आदिक कहाणीआं राहीं प्रविशट होइआ है। कुलवंत सिंघ विरक …

विरक दीआं कहाणीआं दीआं दो विशेशताईआं प्रो। अतर सिंघ Read More »

पंजाब दे शांत महांसागर नूं इक्क बड़ा जाती माण-पत्तर नरिंदरपाल सिंघ

की लग्गदा है मेरा कुलवंत सिंघ विरक? मैं नहीं जाणदा, की लग्गदा हां मैं उहदा। मैनूं शक्क है उह वी नहीं जाणदा।यार? नहीं। बिलकुल नहीं। आपां मिल के कदी किसे ‘चुबारे’ नहीं गए। दारू वासते कदी इकट्ठे नहीं होए, किस नूं इकठ्ठिआं गाल्हां नहीं कढ्ढीआं। किसे दी रल के निंदिआ वी नहीं कीती।फिर? मित्तर। नहीं। …

पंजाब दे शांत महांसागर नूं इक्क बड़ा जाती माण-पत्तर नरिंदरपाल सिंघ Read More »

नेड़िओं तक्किआ विरक

 कुलवंत सिंघ विरक नूं मैं कालज दे टाइम तों जाणदा हां। उह बहुत नेक इनसान सी। दोसतां दे कंम आउंदा सी। बहुत सच्चा सी-झूठ नहीं सी बोलदा-भावें पता हुंदा कि सुणन वाले नूं बुरा लग्गेगा। बहुत अच्छा कहाणीकार सी। महीना, दो महीने कहाणी नूं घोलदा रहिंदा ते फिर फटाफट लिख दिंदा सी। उह कहिंदा सी …

नेड़िओं तक्किआ विरक Read More »

कुलवंत सिंघ विरक दी विलक्खणता टी।आर। विनोद (डा।)

कुलवंत सिंघ विरक पंजाबी दी आधुनिक निक्की कहाणी दा विलक्खण वरतारा है। पंजाबी विच उस वरगीआं कहाणीआं तां बहुत मिलदीआं हन-उस तों पहिलां दीआं ते, उहदे समकाल दीआं। पर उहदे जोड़ दा होर कोई कहाणीकार नहीं है। इह गल्ल मैं 1964 विच लिखी आपणी किताब ‘कहाणीकार कुलवंत सिंघ विरक’ विच सथापत करन दा यतन कीता …

कुलवंत सिंघ विरक दी विलक्खणता टी।आर। विनोद (डा।) Read More »

मैनूं सिआल चंगा नहीं लग्गदा!

 सिआल विच मैं केवल ओहीओ कंम करदा हां, जिहड़े मैनूं करने ही पैंदे हन-तरजमा करना, परूफ़ पड़्हने, दफ़तर हाज़री देणी, किसे उच्ची थां दे साक नूं सटेशन तों लैण जाणा जां अग्ग सेकणी। वधीआ तों वधीआ नशा, तिक्खे तों तिक्खा शोशा, रौचक तों रौचक वारता, सुहणी तों सोहणी हुसीना, निघ्घे तों निघ्घे दोसत-सिआल विच मैनूं …

मैनूं सिआल चंगा नहीं लग्गदा! Read More »