Hindi

असतबाज़ी

शराब मुकदी जा रही सी पर अजे तीक गल्ल कोई चंगी तर्हां टुरी नहीं सी। कई वार इस तर्हां हो जांदा है। बैठो रहो, पींदे रहो, विचों कुझ वी नहीं निकलदा। इहो जही कोई गल्ल ही नहीं हिलदी जिहड़ी कोल बैठे दे मन विच उतर के उस दी सोच जां भाव नूं जगावे ते उस …

असतबाज़ी Read More »

अली बाबा ते कासिम

”पर मासटर जी तुहानूं अली बाबे दी कहाणी पसंद किउं नहीं? मैनूं ते एडी सोहणी लगदी ए।” निंदी आपणे मासटर नाल कहाणीआं बारे कहि सुण रही सी।”कहाणी ते बड़ी चंगी ए, पर इस विच इक गल्ल माड़ी ए जिहड़ी मुंडे कुड़ीआं दे कन्नां विच नहीं पैणी चाहीदी। कासिम दा गार विच खज़ाना वेख के ठर …

अली बाबा ते कासिम Read More »

ऐतवार सवेरे

ऐतवार सवेरे सूदां दा टब्बर कोठी दे बाहर धुप्पे बैठा सी। सारिआं वासते ‘बैठे’ कहिणा, शाइद ठीक ना होवे किउंकि बच्चे ते सारे खेड रहे सन। केवल सूद साहिब ते उन्हां दी पतनी ही धुप विच बैठे सन। वड्डा विनोद पर्हां विकटां गड के साहमणे बैट लै के खड़ा सी ते इक गवांढीआं दा मुंडा उस …

ऐतवार सवेरे Read More »