पापा वल्ल चिट्ठी

 ”पापा, इह तां कदी सुपने विच ही नहीं सी सोचिआ कि तुसीं इंझ चले जाओगे, सानूं छड्ड के। बहुत अजीब लग्गदा है, तुहाडे तों बिनां किवें रहांगे, किस कोल दौड़िआ करांगे हर गल्ल दी सलाह लैण? कौण सानूं हौसला दएगा हुण-करो जो कुझ करना चाहुंदे हो, मैं तुहाडे नाल हां!”॥।
”जदों असीं छोटे-छोटे हुंदे सी, तुसीं आफ़िस तों थक्क के आउंदे, फिर वी साडे नाल बैठ के गल्लां करदे। कुझ सानूं दस्सदे, कुझ सानूं पुच्छदे। मैनूं आपणीआं सहेलीआं तों इह सुणना हमेशा अजीब लग्गदा कि उन्हां नूं आपणे पापा तों डर लग्गदा सी। सानूं तां हमेशा तुहाडे तों दोसताना ते हमदरदी वाला वतीरा मिलिआ। मंमी नाल मिल के दुद्ध विच ‘रोज़’ मिला के सानूं पिलाउंदे, आईसक्रीम वाली मशीन नूं घंटिआं गेड़ दिंदे, तंदूर विच ‘चिकन’ बणाउंदे, सरदीआं विच अंगीठी, सटोव ते गैस ‘ते (समें दे नाल) पंजीरी बणाउंदे तुसीं मैनूं वार-वार याद आउंदे हो।”॥।
”अज्ज-कल्ल्ह दी दुनीआ नूं देख के लग्गदा है, तुहाडे वरगा होणा कोशिश करके वी बहुत मुशकल है।”॥।
”आपणे किसे वी अहुदे दा कदे फ़ाइदा नहीं उठाइआ। दफ़तर दी गड्डी नूं छड्ड के मीलां पैदल तुर के घर पहुंच जांदे। किन्ने ही लोकां नूं मैं तुहाडी देवतिआं नाल तुलना करदे सुणिआ है। ॥।जिस नूं तुसीं पसंद करदे सी, उस लई आपा वारन नूं तिआर रहिंदे सी, पर जिहड़ा तुहानूं चंगा नहीं लग्गिआ, उस तों दूर भज्ज जांदे सी, लुक जांदे सी, पर झूठे ते औपचारिक सबंधां लई तुहाडे दिल विच कोई महत्तव नहीं सी।”
”मंमी कहिंदे ने जदों बच्चे छोटे सी, मैं कदे रात नूं नहीं उट्ठी, दुद्ध दी बोतल वी विरक साहिब तिआर करदे सी। मंमी इह वी कहिंदे हन कि मैं कदे बच्चिआं नूं नहीं चुक्किआ, विरक साहिब चुक्कदे सी। मैनूं वी याद है बहुते छोटे हुंदिआं तों कि जे मंमी औखे हुंदे जां ढिल्ले हुंदे, तुसीं झटपट उन्हां नूं चाह बणा के दिंदे। सानूं शोर ना मचाउण दिंदे।”
”असीं बच्चिआं नूं दिन विच दस वार कुझ करन तों वरजदे हां, उन्हां दीआं मंगां ते नांह कहिंदे हां, ते इह किवें होइआ होएगा कि असीं तुहाडे तों कदी नांह ही नहीं सुणी? तुसीं सानूं कोई कंम करन तों, कोई नवां कदम चुक्कण ‘ते (जिवें मेरा गुजरात जा के पड़्हन अते महाराशटर विच जा के पड़्हाउणा) कदे नहीं रोकिआ।”
”बहुत सुआद आउंदा है जदों कोई तुहाडीआं लिखतां दी तारीफ़ करदा है ते कहिंदा है कि विरक दी लेखणी विच जादू है। विरक करके पंजाबी कहाणी दुनीआ दी कहाणी दे पद्धर दी हो गई। जे कदे तुहाडे किसे प्रसंसक नूं असीं कहिंदे कि असीं तुहाडे बच्चे हां तां उह किन्ने हैरान हो के साडे वल्ल देखदे, जिवें साडे विचों तुहानूं लभ्भदे होण। मेरे कालज दी इक्क लड़की ने तुहाडीआं तसवीरां, तुहाडे बारे ख़बरां, तुहाडे लेखां दी सकरैप बुक्क बणाई होई सी। जिस दिन उस नूं पता लग्गिआ कि मैं तुहाडी बेटी हां तां उह किन्नी देर मेरे वल्ल देखदी रही ते फिर उस ने किहा-‘सच्चीं? तूं विरक साहिब दी सकी बेटी हैं?’ तुहाडी ‘सकी’ बेटी होण दा मैनूं बहुत फ़ख़र है पापा।”
”तुहानूं याद है इक्क वार मैं तुहानूं पुछ्छिआ सी कि जे मैं विदेश जा के पड़्हना चाहवां तां की तुसीं मैनूं माली सहाइता देवोगे तां तुसीं मैनूं किहा सी-”ी ालिल बुे ेोु टहइ ाोरलद।” मैनूं दुनीआ नहीं चाहीदी पापा, ना ही मैं रब्ब कोलों तुहानूं वापस मंग सकदी हां-उह जज़बाती गल्ल होवेगी ते तुसीं उस नूं पसंद वी नहीं करोगे। बस, मैं सिरफ़ इह मंगदी हां कि आपणी इन्नी उच्ची शख़सीअत विचों कुझ गुण मैनूं ज़रूर दे जाओ।”

Leave a Comment