मेरा पती, मेरा लेखक कुलवंत सिंघ विरक


हरबंस कौर विरक 

 विरक दे लिखण दा अंदाज़ आपणा ही सी। उन्हां नूं कदे कोई ख़ास जग्हा, इकल्ल दी लोड़ नहीं पैंदी सी। ना ही कदे शराब दा सहारा लैण दी लोड़ पैंदी। बच्चे रौला पाउंदे रहिण, रेडीओ चल्लदा रहे जां असीं टी।वी। देख रहे हुंदे। उह सभ कासे तों निरलेप आपणे कंम विच रुझ्झे रहिंदे सन। लिख के कदी सर्हाणे थल्ले, कदी गद्दे थल्ले अते कदी गलीचे थल्ले रक्ख छड्डदे। उह लिख के मैनूं दे दिंदे तां जु मैं उस नूं चंगी तर्हां पड़्ह के अते दुबारा लिख दिआं। कहाणी लिख के उह सभ तों पहिलां मैनूं पड़्हन लई दिंदे सन। उह मैनूं आपणी साथण ते अच्छी आलोचक समझदे सन। उह कहिंदे हुंदे सन कि तेरे जिन्नी कहाणी दी सूझ बहुत घट्ट लोकां नूं हुंदी है। 
उन्हां दी नावल लिखण दी बड़ी प्रबल इच्छा सी, जो कुदरत नूं मनज़ूर नहीं सी। काफ़ी कुझ लिख के वी उह नावल पूरा ना हो सकिआ। इक्क वारी मैं, गुलज़ार ते सुरजीत दिल्ली करोल बाग गए तां मैनूं सुझ्झिआ कि किउं ना विरक हुरां नूं इक्क टेप रिकारड खरीद दित्ता जावे तां जो उह यू।पी। जा के आपणे पुराणे पिंड दे बज़ुरगां नाल पिछलीआं गल्लां टेप विच बंद करके घर लै आउण, जो वी विचों चुगणा चाहुण, लिख लैण। रब्ब दी करनी जदों वी हौसला करके उह यू।पी। आपणे पिंड गए, जिस बज़ुरग तों उन्हां ने कुझ हासल करना हुंदा, रब्ब नूं पिआरा हो चुक्का हुंदा अते उह निराश हो के मुड़ आउंदे। कुझ आप वी शरमाकल सन अते हौसला नहीं सी करदे कि टेप रिकारडर किसे दे साहमणे आन करदे, उह कहिंदे सन कि लोक पता नहीं इस गल्ल नूं किस तर्हां लैण। कुझ लोक उन्हां दे करनाल वी सन, पर हर वारी इक्को भाणा वरतदा रिहा। बस, कुझ शरम कुझ वकत ना कढ्ढ सकण करके उन्हां दी सभ तों वड्डी ख़ाहिश अधूरी रहि गई।
बहुत घट्ट लोकां नाल उह खुल्ल्हदे सन। कई रिशतेदारां वाकफ़ां दा उन्हां नूं घर आउणा चंगा नहीं लग्गदा सी। आम लोकां नूं उह कदे घर नहीं लिआउंदे सन। जिहनूं पसंद नहीं सन करदे, उस दे मूंह ‘ते ही कहिण लग्ग जांदे, इस ने कदों मगरों लहिणा है। जिस नाल दोसती हुंदी, उह भावें जान मंग लए, उस लई जो नहीं कर सकदे सी, करन नूं तिआर। बहुता बोलदे नहीं सन, पर आपणे दोसतां नाल ख़ूब हस्सदे ते गल्लां करदे।
कई वारी कुझ सोचदे तुरे आउणा ते आपणे घर तों अग्गे लंघ के किसे होर घर दा बूहा खोल्ह के अंदर जा वड़ना ते जदों अगले दे घर दीआं चीज़ां ‘ते निगाह जाणी तां समझ आउणी कि इह तां मेरा घर नहीं ते चुपके जिहे उस घरों निकल के आपणे घर आ जाणा।
आपणी गल्ल नूं समझणा कि जो मैं कहि दित्ता है, उह गल्ल ही सही है। इक्क वारी ऐस्स।ऐस्स। बल्ल हुरां दे सहुरा साहिब दे भोग ‘ते असीं शंकर गए। वापसी ‘ते असीं चंडीगड़्ह लई बस्स फड़नी सी। ओपरा जिहा अड्डा मैं किहा, विरक साहिब बस पुच्छ के चड़्हना, किहड़ी चंडीगड़्ह जांदी है। कहिण लग्गे, ऐसे बस्स विच बहि जा, मैं फिर गल्ल दुहराई तां कहिण लग्गे, तैनूं जो किहा है बहि जा। मैं बस्स विच बैठ गई। बस्स चल्ल पई। चार कु मील ‘ते इक्क पिंड बस्स खड़ोती तां इन्हां नूं समझ आई कि बस्स तां होर किधरे जा रही है। असीं उत्थे ही उतर के रिकशा फड़ी ते मुड़ अड्डे आ पहुंचे। मैं बस्स विच बैठ के कई वारी सवारीआं तों पुछ्छिआ कि की इह चंडीगड़्ह जा रही है। वार-वार पुच्छण ‘ते मसां तसल्ली होई।
मैं विआही जलंधर आई सी। कुझ देर बाअद चीज़ां खरीदण लई बाज़ार जाणा शुरू कीता। इक्क वारी मैं इक्क रेहड़ी तों आलू खरीदे। मैं उस तों लिफ़ाफ़ा मंगिआ तां उस ने लिफ़ाफ़ा ना दित्ता ते मैं आलू छड्ड के घर आ गई। सरसरी तौर ‘ते इन्हां नूं मैं घर आ के दस्सिआ कि किन्ना भैड़ा बंदा हो सकदा है कि लिफ़ाफ़ा ना देण पिच्छे आपणे आलू वी रक्खणे पए। थोड़्हा चिर पिच्छों कहिण लग्गे, मैं हुणे आइआ। गल्लां-गल्लां विच उन्हां ने उस रेहड़ी वाले दा हुलीआ ते थां पुच्छ लई। बाज़ार विचों इक्क चाकू लिआ ते जा उस दे दवाले होए। उस नूं बहुत धमकाइआ। कहिण लग्गे, तेरी ऐनी जुरत किवें होई कि मेरी सरदारनी नूं तूं लिफ़ाफ़ा ना देवें। उह विचार इन्ना डर गिआ कहे, सारे लिफ़ाफ़े लै जाओ, सारे आलू लै जाओ, मेरी मजाल है जु अग्गे तों मैं लिफ़ाफ़ा ना देवां। मैं बीबी हुरां दा ख़ास खिआल रक्खांगा। घर आ के सारी गल्ल मैनूं दस्सी। मैनूं लड़ाई-झगड़े तों डर लग्गदा सी। मैं किहा, ऐवें ग़रीब आदमी नूं तंग कीता। विचों मैं खुश सां कि इन्हां दे हुंदिआं मैनूं कोई ख़तरा नहीं।

Leave a Comment