कुलवंत सिंघ विरक(कुड़ीआं दा कहाणीकार)


हरप्रीत सिंघ प्रीत 

”सुहप्पण दा जिन्ना वाधा पिआर कुड़ी नूं बख़शदा है, मुंडे ते उस दा पासकू वी नहीं आउंदा। कुड़ी दीआं मुसकड़ीआं डुल्ल्ह-डुल्ल्ह पैंदीआं सन। भावें उस नूं इन्हां दे मुक्क जाण दा कोई डर नहीं सी तां वी इन्हां नूं ऐवें खिलारना नहीं चाहुंदी सी। इस लई दब्ब-दब्ब घुट्ट-घुट्ट के रक्खदी, पर जदों किसे नवीं शैअ वल्ल उस दा धिआन जांदा तां उह मुसकरा ही पैंदी। पहिलां उह आपणी सीट वेख के मुसकराई, फिर उह उत्थे बैठ के मुसकराई, फिर आपणे घर वाले दे बैठण ‘ते मुसकराई ते फिर नीवीं जिही अक्ख नाल पिछलीआं सवारीआं वल्ल वेख के।
‘विरक’ आपणी कहाणी ‘पटिआले दी सवारी’ विच इह शबद नौजवान हुसीन कुड़ी वासते लिखदा है। ‘विरक’ इक्क मद्ध श्रेणी दा कहाणीकार है। इस दीआं कहाणीआं विच कुड़ीआं दा इक्क ख़ास रोल हुंदा है जां इंझ कहि लवो कि विरक कुड़ीआं दे पातरां नूं बड़े सवाद नाल, बड़े गहु नाल ते चसके लाल-ला के चितरदा है। 
‘विरक’ सुंदरता दा पुजारी है। जे कोई होर उस दा साथी सुंदरता वल्ल तक्के तां उस दा सवाद किरकिरा हो जांदा है। उस दे ‘दुद्ध विच कांजी’ घुल जांदी है। उह शिकाइत लिखणा चाहुंदा है।
साहमणे बोरल लग्गा होइआ सी-‘सवारीआं दीआं शिकाइतां लिखण लई किताब कंडकटर कोल है, पर किसे सुंदर इसतरी नूं वेख के उस दी सुंदरता दा असर ना कबूलणा ते उस दी शकल नूं मनो उतार देणा शाइद कोई शिकाइत वाली गल्ल नहीं सी।”
‘विरक’ दी पेश ना गई, नहीं तां उह उस विचारे कंडकटर दी शिकाइती ज़रूर करदा, जो उस दी कहाणी ‘दुद्ध विच कांजी’ ‘च है।
उह ‘ऊठ’ विच लिखदा है, ”मैं बिमार हां, बहुत दिलां तों। पहिलां तां बहुत सां, पर हुण कुझ घट्ट। पता नहीं राज़ी होण विच किन्ने दिन लग्गणगे। ख़ौरे राज़ी होवांगा कि नहीं।” ‘विरक’ इस करके बिमारी है कि उस नूं काम नहीं मिल रिहा। पर ‘ऊठ’ वांग उह पुराणी जिंद विच जीअ के कुझ राज़ी हो रिहा है। उह लिखदा है, ‘तपदे सरीरां नाल शाम दीआं सरा, सारा-सारा दिल लारंस बाग दे बैंचां ‘ते बहि के गल्लां करदे रहिणा, उस दा घबरा-घबरा के रुस्सणा, ‘तूं मैनूं किन्ना कु पिआर करदा हैं?’ इह सारा कुझ होइआ सी। उस वेले वी ते अज्ज वी मेरा विशवास है कि इस तों वद्ध पिआर किसे बंदे नूं नहीं कीता गिआ। की मैं उस रज्जवें पिआर दे आसरे रहिंदा। सारा जीवन-पंध नहीं मुका सकदा? रोज़ थोड़्हा-थोड़्हा पिआर उडीकण दी की लोड़ है? (दुद्ध विच कांजी)।
किसे कुड़ी नूं वी रात नूं किते खड़्हिआं वेख के विरक दे मन विच शक्क उपज पैंदा है। उह माडल टाऊन दे पारक विच कुड़ीआं नूं वेख के सोचदा है।” (शेरनीआं) पर इस वेले जदों माडल टाऊन दे शुकीन ते बहुती देर तक्क जागण वाले लोक वी सौण नूं फिरदे ने, इन्हां कित्थे जाणैं?
”कई खराब थां ई होणी एं। एथे किसे दी उडीक कर रहीआं होणगीआं ते फिर उस दे नाल किद्धर जाणगीआं।”
”आपणा साइकल लै के मैं चोरी-चोरी इन्हां कुड़ीआं दे पिच्छे ना लग्ग जावां। हेठली दुनीआ दी कोई झाकी वेखण नूं मिलेगी।”
‘विरक’ आप तां अजे सैर करन आइआ है ते दूजिआं बारे लिखिआ है कि बहुती देर जागण वाले वी सौण दी तिआरी कर रहे सन। इह भाव प्रगटाउण दा उस दा सिरफ़ इही पक्ख है कि उह कुड़ीआं बहुत रात गुज़र चुक्कण ‘ते उत्थे खड़्हीआं सन। ‘विरक’ दा वी उन्हां दे पिच्छे जाण नूं दिल करदा है, पर डर पता नहीं किस तों जांदा है।
भावें उस दे कोल किसे कुड़ी दे बैठण नाल उस नूं खुशी हुंदी होवे, पर जदों उह इह सोचदा है, ”गड्डीआं, बस्सां विच ज़नानीआं लई आपणे हाण-मेल दे किसे दे नाल बैठणा मिहणा हुंदा है। पर जे नाल बैठण वाली मरदावीं सवारी बहुत छोटी जां वडेरी जिही होवे तां कोई हरज़ नहीं गिणिआं जांदा।” (बाबू राम सरूप) तां हुण उस नूं आपणे बुढापे दी निशानी दिस्सण लग्ग पैंदी है।
कुड़ीआं दे नंगे सरीर नूं वेखण दी चाह वी किन्नी प्रबल हुंदी है। ‘विरक’ वी आपणी इह चाह प्रगट करन तों नहीं रहि सकिआ। उह ‘चोंबड़’ विच लिखदा है:-
‘उहो कमीज़ तेपुट्ठी पै गई।’ जीतां ने सलवार पाण तों पहिलां कमीज़ दीआं सीऊणां वेख के किहा।
”लाह के सिद्धी कर लै।”
”लाहवां किस तर्हां? अच्छा तूं पर्हां नूं वेखदा रव्हीं, मैं झट्ट-पट्ट लाह के सिद्धी कर लैंदी हां।”
भगवंत ने ‘चंगा’ ते आखी दित्ता, पर मौका ताड़ के झट्ट ही बचन तोड़ दित्ता।
फिर ‘चार चिट्ठीआं’ लिखी के थकेवां दूर करदा है। ”मैं तुहाडा थकेवा लाह दिआंगी, तुहानूं पीले तों फिर लाल कर दिआंगी। मेरीआं नाड़ां विच किन्ना ख़ून है ते मेरे वाळ किड्डे काले हन। मैं शामां नूं तुहानूं मोटर विच बाहर सैर करन लै जाइआ करांगी।”
कुड़ीआं दीआं गल्लां करदा जांदा है ते फिर नाल-नाल मुक्करी वी जांदा है। ‘गज़रे’ विच कहिंदा है, ”कई कुड़ीआं ते आपे ही दस्स दिंदीआं हन कि उह कित्थों तक्क तुहानूं आपणे नाल लै जाणा चहुंदीआं हन। इक्क वार इक्क कुड़ी मेरे बुल्ल्हां ‘ते धकोज़ोरी सुरख़ी लाउण दे बहाने मेरे नाल चंबड़ गई सी। इक्क होर कुड़ी मेरी घड़ी वेखण लई फड़ के फिर दिंदी नहीं सी ते उस घड़ी नूं खोंहदिआं-खोंहदिआं साडी आपो विच दी सारी संग लत्थ गई सी। इक्क वार होर इक्क कुड़ी कोलों अक्खां विच दारू पुआ के मीटीआं अक्खां नाल मैं उस नूं घुट्ट लिआ सी, जिस तर्हां इह सभ कुझ भुलेखे नाल ही हो गिआ होवे। उस तर्हां वी किसे कुड़ी दे कोल बैठ के गल्लांबातां करदिआं इह दस्स सकीदा है कि उह तुहाडे नाल कित्थों तक्क जाण लई तिआर है। जिस तर्हां जट्टीआं बग़ैर कुज्जे विच झाती मारन दे इह दस्स सकदीआं हन कि अंदर पिआ मक्खण किन्ना कु पघ्घर गिआ है। पर उस कुड़ी बारे ते कुझ पता ही ना लगा सकदा सी।”
कई थां आपणी जात नूं बहादर दस्सदा होइआ जिवें ”लक्खां करोड़ां रुपिआं” दा पिंड ए, जिहड़ा गिआ, उस परत के कोई नहीं आउणा। इक्क होर थां ‘मुकतसर’ विच लिखदा है”, मेरा विशवास है कि पंजाब विच विरक सभ तों दलेर ते ताकतवर कौम है, पर आप तां कुड़ीआं कोलों डर जांदा। किसे कुड़ी दी इस नाल पिट्ठ लग्ग जाए तां उह घाबर जांदा है। उस दा भार नहीं सहि सकदा। ‘पाशो’ विच लिखदा है; ”बई पाशो आपणे भार किहां कर, उत्ते की डिग्गी रहिनी ए।” बोल उट्ठदा ए।
‘विरक’ कहाणीकार है तां होरना चीज़ां नालों कुड़ीआं दा कहाणीकार पहिलां है। इस दीआं बहुतीआं जां घट्ट तों घट्ट सौ विचों पचन्नविआं विच तां ज़रूर कुड़ीआं हन, उन्हां दे चित्तर हन। उन्हां दा पिआर है। उन्हां दी सुंदरता है ते उन्हां दा मिट्ठा जां कौड़ा सुभाअ है।

Leave a Comment