बेमिसाल कहाणीकार

वरिआम सिंघ संधू



 जद वी कदे पंजाबी कहाणी दी गल्ल तुरी है तां मुड़-घिड़ के गल्ल कुलवंत सिंघ विरक ‘ते आ टिकदी रही है। की पंजाबी कहाणी विरक दी कहाणी तों अग्गे गई है जां नहीं?- इह प्रशन अकसर बहिस दा मुद्दा बणदा रिहा है। 
निरसंदेह, कुलवंत सिंघ विरक पंजाबी कहाणी दा आदरश सी, मापदंड सी। पंजाबी कहाणी दा माण सी। उह इक्को-इक्क कहाणीकार सी, जिस नूं आलोचक ते सभ नवें-पुराणे कहाणी लेखक सरवोतम कहाणीकार कहिंदिआं कदे वी नहीं सन हिचकचाए, सगों उस दी उत्तमता दा ज़िकर करदिआं गौरव महिसूस करदे सन। उह एना उच्चा सी कि उस नाल कोई ईरख़ा कर ही नहीं सकदा। ईरख़ा तां ‘उन्नी-इक्की’ दे फ़रक वालिआं विचकार हो सकदी है। उस दी बुलंदी ‘ते तां बस्स माण कीता जा सकदा सी। 
उह इक्को-इक्क अजिहा पंजाबी कहाणीकार सी, जिस ने केवल ते केवल कहाणीआं लिख के एना सनमानयोग थां हासल कीता ते उन्हां आलोचकां दे सिधांत अग्गे सवालीआ निशान ला दित्ता, जिहड़े निक्की कहाणी नूं मनुक्खी भावां दे प्रगटा दा सीमत साहित रूप मन्नदे हन ते कहिंदे हन कि कोई लेखक नावल लिख के ही महान हो सकदा है।
पर बतौर कहाणीकार विरक दी महानता सरव प्रवानत है।
विरक दे आउण नाल पंजाबी कहाणी ने इक्क नवीं करवट लई। उह बोलदा गिआ, असीं कीलीदे गए। उहदे शबदां विचली लिशक साडे अंदर ही चानण दी लीक बण के ना फैली, सगों उह चानण साडे दिल-दिमाग़ विचों गुज़रदा होइआ, साडे आले-दुआले बैठे लोकां दे अंतर मन दे हनेरिआं नूं वी रुशनाउण लग्गा। ज़िंदगी दी धड़कदी रौंअ साडे अंदरले ते बाहरले जगत दे आर-पार चल्लणी शुरू हो गई ते उस दी कहाणी पड़्हदिआं साडे मनां अंदर समाजक मनुक्खी जीवन नूं पहिलां नालों वद्ध तीबरता नाल जानण दी रुची पैदा हो गई।
विरक ने जदों कहाणी लिखणी शुरू कीती, उदों प्रगतीवाद दा बोल-बाला सी ते प्रतीबद्ध लेखकां दीआं बहुतीआं कहाणीआं निशचत सिधांत जां विचार नूं सिद्ध करन लई लिखीआं गईआं। कहाणी विच पेश विचारां नूं पातरां दे जीवन अते उन्हां दे परसपर सबंधां दे सहिज रूपां विचों सहिजे ही प्रगट अते प्रकाशत करन दी थां उन्हां ‘ते थोपिआ प्रतीत हुंदा सी। इंझ वड्डी मातरा विच लिखी जा रही कहाणी ‘सिरजणा’ दी थां ‘घाड़त’ महिसूस हुंदी सी। इह कहाणीआं ‘कलाक्रितां’ नालों ‘प्रचार क्रितां’ वधेरे लग्गदीआं सन।
पर विरक नूं साहित विच इह शोरीला प्रचार पसंद नहीं सी। उस नूं कहाणी राहीं प्रचार करना इस तर्हां लग्गदा सी, ”जिवें कोई हवाई जहाज़ अग्गे ढग्गे जो के उस नूं तूड़ी ढोण लई वरते ते इस तर्हां इक्क शकतीशाली मशीनरी नूं नकारा कर देवे। कलाकार नूं समाज दी उन्नती विच आपणा हिस्सा बतौर कलाकार दे ही पाणा चाहीदा है, बतौर प्रचारक नहीं।”
इंझ विरक दी विलक्खणता उस नूं इस गल्ल दी समझ होण विच सी कि लेखक कहाणी दे विच होवे जां कहाणी, लेखक दे विच। इंझ उह कहाणी दे वस्स विच हो के कहाणीआं लिखदा रिहा है। प्रगतीवाद दे वहिण विच रुड़्हन दी थां इक्क पासे खलोण दा भाव इह नहीं सी कि उह अगांहवधू नहीं सी। उह कला दे समाजक अरथां तों भलीभांत सुचेत सी ते लेखक नूं ‘पतल चंमा’ ते ‘समाज दा कंड मन्नण वाला भाग’ कहिंदा सी। उस अनुसार लेखक हमेशा ग़रीबां दा साथी हुंदा है, किउंकि होर लोकां नालों उस नूं ग़रीबी दा अहिसास ते दुक्ख ज़िआदा है। श्रेणी वंड अते लुट्टे थुड़े लोकां दे दुक्खां-सुक्खां, आशावां-निराशावां दा चित्तर उस ने बड़ी कलातमकता नाल खिच्चिआ है, पर किधरे वी प्रचार दा अंश नहीं। ‘मुढ्ढों-सुढ्ढों’, ‘बिगानी चीज़’, ‘पंजाह रुपए’, ‘इक्क फेरी’, ‘कशट निवारण’, ‘नौकर’, ‘मावां-धीआं’, ‘साबण दी चिप्पर’, ‘लक्खां-करोड़ां रुपईआ’ आदि अनेकां अजिहीआं कहाणीआं हन, जिन्हां विचों ग़रीब लोकां प्रती उस दी हमदरदी प्रगट हुंदी है। उह उन्हां नाल हो रही बेइनसाफ़ी दे विरुद्ध है। पर उस दा इह प्रगटा निरोल कहाणीकार दा सहिज संतुलित ते कलातमक प्रगटा है-होरनां प्रगतीवादीआं वांग उपभावक, शोरीला ते प्रचारक प्रगटा नहीं। 
इंझ विरक किसे पारटी नाल नहीं बझ्झदा, सगों सिद्धा मनुक्खता नाल आपणा नाता जोड़दा है। निरंतर विकास दी प्रकिरिआ दा हाणी हो के उह लुट्टे थुड़्हे लोकां दे पक्ख विच खलोंदा है। अणगौले लोकां नूं अति भावुकता ते अतिकरुणा तों निरलेप हो के साहनुभूती ते सुहिरदता नाल चितरदा है। इक्क मानववादी कहाणीकार दे तौर ‘ते उस ने मनुक्खी दुक्खां दरदां नूं पछाणिआ है। मनुक्ख दी पीड़ अनुभव करन ते प्रगटाउण विच उह कामयाब रिहा है। ‘धरती हेठला बौल्हद’, ‘सांझ’, ‘खब्बल’, ‘उल्हामा’ आदि कहाणीआं विच उस ने आपणा पातरां दी पीड़ नाल डूंघी सांझ पा के उन्हां नूं इस ढंग नाल पेश कीता कि पाठक मन ‘ते इस दरद दा अति गहिरा प्रभाव पिआ।
मानववादी सुभाअ कारन उस ने मनुक्ख नूं नाइक जां खलनाइक दे रूप विच पेश नहीं कीता, सगों साधारन विअकती दे तौर ‘ते उहदे गुणां, औगुणां, कमज़ोरीआं अते ख़ूबीआं समेत समुच्चे रूप विच अधिऐन दा विशा बणाइआ। ‘तूड़ी दी पंड’, ‘उजाड़’, ‘मासटर भोला राम’ आदि कहाणीआं दे मुक्ख पातरां दे विचारां नाल विरक सहिमत नहीं, पर उह उन्हां प्रती नफ़रत जां गुस्सा प्रगट करन दी थां सिरफ़ उन्हां ‘ते मुसकराउंदा है; जिवें कोई नौजवान आपणे किसे बज़ुरग दी ज़माने तों पछड़ी गल्ल सुण के मुसकरा छड्डे ते कहि छड्डे, ”हुण तुहाडा ज़माना लंघ गिआ है।”
इस तर्हां बदलदे समाजक-आरथक प्रबंध विच जगीरू कीमतां दी अणउपभोगता नूं उन्हां कीमतां दा समरथन करदे पातरां राहीं ही सिद्ध कर विखाउणा ते उन्हां पातरां नाल नफ़रत वी ना होण देणी, उहदी विलक्खणता है।
जिहड़ी सभ तों वड्डी गल्ल विरक दी कहाणी विच है, उह है कहाणी विचला इनसान। भावें उह श्रेणीआं दी गल्ल कर रिहा होवे, भावें लिंग सबंधां दी ते भावें पेंडू जां शहिरी जीवन दे किसे अनुभव दी, उहदी कहाणी विचों ‘मनुक्ख’ कदे खारज नहीं हुंदा अते उहदी नज़र मनुक्ख दे बाहर ही नहीं, उस दे अंदर वी टिकदी है। इह संतुलन रक्खण करके ही उह मनुक्खी वतीरे नूं यथारथक ढंग नाल प्रगटाउंदा होइआ ‘मनुक्खी वतीरे’ दा लेखक बणदा है। मनुक्खी वतीरा पल-पल बदलदा वी रहिंदा है, शख़सीअत बदलदी रहिंदी है। मनुक्खी वतीरे दे पिच्छे कंम कर रहे प्रेरकां दा अधिऐन करना लेखक लई ज़रूरी हो जांदा है। विरक इन्हां प्रेरकां ‘ते प्रकाश पाउंदा है। ‘रज्ज ना कोई जीविआ’ विच जिवें किवें इक्क औरत दा पिआर जां उहदी सुंदरता दा अहिसास मनुक्खी वतीरे विच परिवरतन लिआउंदा है। इंझ ही ‘दो आने दा घाह’, ‘शिंगार’, ‘छाह वेला’, ‘मेम दी कहाणी’, ‘एकस के हम बारिक’, ‘इह दुद्ध तेरा’ आदि कहाणीआं मनुक्खी वतीरे दा बरीकी नाल अधिऐन पेश करन वालीआं कहाणीआं हन। प्रवानित सदाचार दी उलंघणा करन वाले पातर वी साडे पिआर अते हमदरदी दे पातर ही रहिंदे हन। विरक ने विअकती दे दिल दे खूंजे विच बैठे जज़बिआं नूं प्रगटाउण विच वन्नगी पैदा कीती है। उह एना अकलमंद है कि इन्हां लुके-छिपे जज़बिआं नूं जाणदा है। ‘ओपरी धरती’ दा हज़ारा सिंघ चोर होण करके वी साडी नफ़रत दा पातर नहीं बणदा। इंझ ही ‘पती’ दी नाइका मिन्नी भ्रिशट होण दे बावजूद पती दे ग्रिफ़तार हो जाण पिच्छों आपणे अंदरला निघ्घ ते मनुक्खीपन विखा के साडे पिआर अते हमदरदी दा पातर बण जांदी है। ‘पौणा आदमी’ जां ‘मैनूं जाणनै?’ कहाणी दे पातर जो ओपरे वेखण वाले नूं हीणे ते घिनाउणे लग्गदे हन; असल विच पाठक दी हमदरदी दे पातर ही रहिंदे हन। 
अजिहे पातरां प्रती हमदरदी रक्खण पिच्छे विरक दी सुहिरदता कंम करदी है। सुहिरदता विरक दीआं कहाणीआं दा मुढ्ढ तों ही लच्छण रिहा है। ‘दुद्ध दा छप्पड़’ विच चाचे-ताए दे पुत्तर भरा दुशमणी दी लीक नूं उत्थों तक्क जा छूंहदे हन कि डर लग्गण लग्गदा है कि सथिती हुण वी फटी कि फटी। पर विरक दी ते उस दे राहीं उहदे पातरां दी सुहिरदता हुंदी-हुंदी लड़ाई नूं टाल दिंदी है ते सानूं जापदा है, जिवें साडे आपणे नाल वापरन वाला कोई दुखांत टल गिआ होवे, ‘धरती हेठला बौल्हद’ विच माझे दे ही नहीं, सारे संसार दे किरसानां दी पीड़ नूं जर जाण दी शकती नूं दरसाइआ है। 
जीवन दे तलख़ अते कुरख़्ख़त रूप नूं वी विरक ने चितरिआ है। जित्थे ‘तूड़ी दी पंड’ ते ‘उजाड़’ नां दीआं कहाणीआं खेरूं-खेरूं हो रहे पेंडू भाईचारे नूं विअकती दे अनुभव विच आ रिहा पेश करदा है, उत्थे ‘मैनूं जाणनैं?’, ‘छाह वेला’ ते ‘चाचा’ विच अत्रिपत कामनावां दे मनुक्खी चरित्तर लई घातक पक्खां नूं उघाड़दा है। उहदीआं कहाणीआं दी इह विलक्खणता है कि उह मौत ते ज़िंदगी विचली सदीवी कशमकश नूं टिका विच निशचत कर सकण दे यतन विच है तां कि इस जद्दो-जहिद दी कहाणी सांझी हार दी कहाणी ना बण जावे। वंड नाल सबंधत कहाणीआं विच उह मनुक्ख नूं निरा चरित्तर करन वाले पक्ख नूं उघाड़ के जीवन दी जिऊंदे रहिण दी लालसा ते समरत्था नूं प्रगटाउंदा है। इस भिआनक दुखांत विचों वी उहने सारथकता लभ्भण दा उपराला कीता। इसे करके उहदे पातर जिऊण जोगे ते करमशील हन। उह निराशा दीआं खड्डां विच नहीं डिग्गे रहिंदे, सगों ‘खब्बल’ कहाणी दी नाइका वांग अति दे भिआनक ते विरोधी हालतां विच वी ज़िंदगी नाल जुड़े रहिण दी रीझ दा प्रतीक बण निब्बड़दे हन।
विरक दी विलक्खणता इस गल्ल विच वी है कि जिहड़े निक्के-निक्के खिआल, घटनावां जां तत्थ असीं आम तौर ‘ते अणगौले ही छड्ड जांदे हां, विरक बरीक नज़रां नाल उन्हां नूं वेखदा है, पछाणदा है ते पकड़ लैंदा है, जिवें मिकनातीस लोहे नूं आपणे वल्ल खिच्च लैंदा है। साधारन विअकती लई उह सभ भावें महत्तवपूरन ना लग्गे, पर विरक दी कलम दी पारस छूह नाल सभ चमक उट्ठदा है। ‘बिगानी चीज़’ विच मनोरमा दा कुड़ी हत्थों पैनसल रखाउणा, ‘नवें लोक’ विच मकान-मालक औरत नाल प्रोफ़ैसर ते उहदे मित्तर दी गल्लबात, ‘शेरनीआं’ विच रात नूं कुड़ीआं दी पारक विच साइकल चलाउणा आदि गल्लां तां भावें निक्कीआं-निक्कीआं जापदीआं हन, पर विरक दी विशेशता इह सी कि उह इन्हां विचों अरथ वड्डे-वड्डे कढ्ढ लैंदा सी।
विरक दी इक्क विशेशता इह वी सी कि उह यथारथ तों दूर नहीं सी जांदा। उहदी कहाणी पड़्ह के असीं इंझ नहीं कहि सकदे कि इह गल्ल हो ई नहीं सकदी। पर इस दा भाव इह नहीं कि विरक ज़िंदगी दी दिस्सदी असलीअत नूं हूबहू पेश कर दिंदा सी। उह लेखक नूं फ़ोटोग्राफ़र दी थां ते चित्तरकार नाल तुलना दिंदा सी, जिहड़ा कि ज़िंदगी ‘चों प्रापत यथारथ नूं आधार बणा के कलपना दी बुरश छूहां नाल उह यथारथ दी भरवीं ते सामग्गर तसवीर पेश करदा है। 
पिआर अते लिंग सबंधां प्रती उहदा रवइ्इीआ ताज़गी भरिआ सी। बदलदे पदारथक हालतां दे प्रसंग विच पिआर अते लिंग सबंधां प्रती बदलदे संकलप उस ने पंजाबी पाठकां साहमणे पेश कीते। पिआर अते लिंग सबंधां दा ज़िकर करदिआं उह बहुत घट्ट उलार होइआ। उस अनुसार औरत दे साथ दी लोड़ बड़ी सुभावक है। औरत दे साथ विचों प्रापत होए पिआर दे हुलारे (छाह वेला, उसे करके, रज्ज ना कोई जीविआ) ते बिनां साथ तों पैदा होई अत्रिपती (चाचा, छाह वेला) नूं बिआन करदिआं विरक काम इच्छा दी सुभावक पूरती दे हक्क विच आवाज़ उठाउंदा है। उह समझदा सी कि जिहड़ी गल्ल लक्खां दिलां विच धड़कदी है, उहनूं साहित विच पेश करना मन्हां नहीं होणा चाहीदा। पिआर सबंधी उहदा नज़रीआ आदरशवादी नहीं। उह नवीं सभ्भिअता दी गल्ल करदा है, जिस विच प्रेमी जां प्रेमिका कुझ दिनां लई ही जां कुझ घड़ीआं लई ही इक्क-दूजे दे हन ते फिर नवें पहिने लिबास वांग कोई नवां पिआर प्रवान करन लई तिआर हो जांदे हन। ‘साबण’, ‘दिल्ली दी कुड़ी’, ‘सौकण’, ‘घुंड’, ‘ऊठ’, ‘माखिओं दी छल्ली’, ‘सागर ते निरमला’ आदि पिआर ते लिंग वतीरे नूं प्रगटाउंदीआं कहाणीआं हन। पर पिआर ते लिंग दा ज़िकर करदिआं उह विअकती नूं उलार होण तों वी बचाउंदा है। ‘कुत्ता ते हड्डी’, ‘चोंभड़’, ‘मच्छर’ आदि कहाणीआं विच उह अत्रिपती दे वहाअ विच रुड़्हदे जांदे विअकतीआं ‘ते सूख़म विअंग वी करदा है। 
विरक दी कहाणी दा सभ तों उघ्घड़वां ते महत्तवपूरन पहिलू विरक टप्पे दे पिंडां दे माधिअम राहीं समुच्चे पंजाब दे पिंडां दा इक्क भरवां ते कलातमक चित्तर पेश करना है। पेंडू लोकां दी मानसिकता दी डूंघी समझ ते सूख़म छूहां नाल उस दी पेशकारी बेमिसाल है। मेरे नज़दीक जे विरक दी कहाणी दी महत्तता है तां पिंड नाल सबंधत उस दीआं चिरंजीवी कहाणीआं सिरजण करके ही है। पंजाब दा पिंड उहदी रूह विच सिरजिआ होइआ सी। पिंड विच पलण दा उस दे लिखण ढंग ‘ते वी बड़ा गूड़्हा असर पिआ। एसे करके उस दी कहाणी विच ‘कलाकारी’ दे बनावटी खलेपड़ नहीं हुंदे। धीमे बोलां विच उचेचता तों बिना उह बड़े सहिज ढंग नाल कहाणी लिखदा सी। उहदे सिरजे पातर सानूं आपणे सके-सबंधी लग्गदे सन, साडे आपणे अंदर दा कोई टोटा जापदे सन। विरक ने इन्हां पातरां अते उन्हां दी ज़िंदगी नूं डाढे मोह नाल, डूंघी नीझ नाल नेड़े हो के वेखिआ ते समझिआ। उह भोले-भाले जट्टां वाली सादगी नाल गल्ल शुरू करदा, चुसत पड़्हिआं-लिखिआं वाली बरीक सूझ दी नशतर नाल मनुक्खी मन अते ज़िंदगी दीआं पिड़ीआं उधेड़दा तुरिआ जांदा। मनुक्खी मन ते ज़िंदगी नूं एनी सादगी नाल समझण ते समझाउण दी कला ‘ते काबू होण करके उह होरनां तों निवेकला ते उच्चा खड़ोता है।
पिंड बारे एनीआं ख़ूबसूरत कहाणीआं लिख के वी अजे उहनूं रज्ज नहीं सी आइआ। उह इस दे बारे इक्क भरपूर नावल लिखणा चाहुंदा सी। असीं बड़ी तीबरता नाल उडीक करदे, पर ‘अचिंते बाज़’ आ पैण करके सानूं उह नावल प्रापत ना हो सकिआ।
देश दी वंड तों पिच्छों वी उस ने आपणीआं कहाणीआं दा आधार आपणे पुराणे पिंड नूं उस लई ही बणाई रख्खिआ, किउंकि उह पिंड दे जीवन अते बोली नूं नेड़िओं जाणदा सी। उस दे रूपक अते उपमावां सभ पेंडू जीवन विचों ही आउंदे सन। उस ने ‘सेखों’ वांग पेंडू जीवन दीआं सिरफ़ आरथक समस्सिआवां ही नहीं लईआं, सगों मुकंमल रूप विच पेंडू भाईचारे नूं चितरण दा यतन कीता। पेंडू लोकां दी सुहिरदता, निरभैता ते मानववादी निघ्घ नूं उस ने पेश कीता। पिंड दे संगठित भाईचारे नूं चितरिआ, जिस विच जात-बरादरी, आपणा पिंड ते बिग़ाना पिंड आदि दे झगड़े वी सन, पर फिर वी सारा पिंड इक्क परिवार वांग रहिंदा सी। फेर नवीआं पूंजीवादी कीमतां दे प्रवेश नाल तिड़कदा भाईचारा, पेंडू सहिणशीलता, छड़िआं, चोरां ते हलवाहकां दा जीवन बिआन करदिआं उहने उन्हां ‘ते हुंदे ज़ुलम दा नकशा वी खिच्चिआ। ‘तूड़ी दी पंड’, ‘उजाड़’, ‘धरती हेठला बौल्हद’, ‘छाह वेला’, ‘दुद्ध दा छप्पड़’, ‘ओपरी धरती’, ‘खब्बल’, ‘उल्हामा’, ‘चाचा’ आदि अनेकां अजिहीआं कहाणीआं हन, जिन्हां विच पिंड दा दिल धड़कदा है।
आपणीआं बरीक अक्खां नाल उहने ज़िंदगी दीआं बरीकीआं नूं वेखिआ ते चितरिआ। इह चित्तर अमर हो गए। विरक वी अमर हो गिआ।
निरसंदेह, नवीं पंजाबी कहाणी विच अनुभव दी विशालता अते पेशकारी दी नवीनता है। पर विरक साडी पंजाबी कहाणी दी पक्की, मज़बूत अते माणयोग नींह है ते चंगी नींह बिनां कदे चंगे महिल नहीं उसरदे। जे अज्ज कोई उच्चा दिस्स वी रिहा है तां उस दे पैरां हेठां विरक दे हत्थ हन। उह साडी कहाणी हेठला ‘बल्हद’ सी।

Leave a Comment