मेरा हमदम रणधीर सिंघ चंद

  
 कुलवंत सिंघ विरक नूं मैं पिछले सतारां वर्हिआं तों जाणदा हां। भावें मेरी ते उसदी उमर विच पिओ-पुत्तर जिन्ना फ़रक है। पर कोई चौदां सालां तों मेरी उस दी आपणी किसम दी दोसती है, जिस विच कदे उतावलापन नहीं आइआ। इस सारे समें विच मैं अनुभव कीता है कि बहुत सारे लोकां तों उलट विरक दी दोसती दा राह बड़ा पद्धरा ते वल-वलेविआं रहित है। दोसतां नाल आपणे सबंधां नूं उह इस सलीके ते संजम नाल उसारदा है कि उह ना तां किसे नूं डींग मारन दा अवसर दिंदा है ते ना ही गिले-शिकवे दा।
विरक नूं मैं कदे अचंभित हुंदिआं नहीं देखिआ। वड्डी तों वड्डी गल्ल नूं उह साधारन रूप विच लैंदा है। कई महीनिआं बाअद मिलण पिच्छों वी उह तुहानूं इस तहम्मल भरी नेड़ता नाल मिलदा है, जिवें कल्ल्ह ही जुदा होइआ होवे।
विरक दी गुफ़तगू विच हद्द दरजे दा संकोच है। उह बड़ी ढुकवीं ते सपशट गल्ल करन दा आदी है। दूजे शबदां विच उह गल्ल विचली ‘गिरी’ नूं फड़न दा इच्छुक है। इह संजम विरक दी लिखत विच वी प्रतक्ख रूप ‘च झलकदा है। उह कहाणी विच इक्क फिकरा वाधू लिखण तों संकोच करदा है। विरक वांग सपशट ते इणउचट लोक मैं बहुत घट्ट देखे हन। आपणे संपरक विच आउण वाले लोकां नूं निक्की-निक्की गल्ल ख़ातर लटकाउण दा उह बिलकुल आदी नहीं। उह ‘ठाह’ जवाब विच यकीन रक्खदा है। 
विरक दीआं तिक्खीआं ते निक्कीआं अक्खां विचली शोखी दूजे विअकती दे धुर अंदर तक्क पुज्जण दी समरथा रक्खदी है। पचवंजा-छपंजा साल दी उमर विच वी उस दी चुसती-फुरती काबले रशक है। उस दे चिहरे ‘ते थकावट जां अकेवें दे चिन्न्ह नहीं लभ्भदे। लंमा सफ़र ते उह वी इकल्लिआं करके उह बड़ा खुश रहिंदा है। सफ़र ‘ते जाण लग्गिआं साथी लभ्भण दी गल्ल उस नूं बचकाना जापदी है।
विरक जट्ट है-वरतों-विहार ते चज्ज-आचार विच वी। जट्ट होण दा उस नूं माण है, अभिमान नहीं। उस ने आपणे अंगरेज़ी लेखां दुआरा जट्ट-लेखकां दी चंगी जाण-पछाण करवाई है, पर उस ने किसे जट्ट दी कदे अयोग सहाइता नहीं कीती। 
उह मिट्ठा बोला नहीं ते ना ही कठोर-चित्त है। दूजे दी गल्ल नूं उह बिनां झिजक कट्ट देण दा उतशाह रक्खदा है ते इस गल्ल विच उस नूं सुआद वी आउंदा है। शाइद इक्क कारन इह वी है कि उस दे नेड़े चापलूस लेखक घट्ट ही ढुकदे हन। उस दी तारीफ़ करके कोई कुझ नहीं खट्ट सकदा। इक्क वार इक्क प्रोफ़ैशनल रेखा-चित्तर लेखक नूं उस ने आपणे घरों इस लई भजा दित्ता सी कि उस लेखक ने उहदे घर आ के बेजा तारीफ़ करनी शुरू कर दित्ती सी।
कुलवंत सिंघ विरक आपणे सभ्भिआचारक विरसे प्रती पूरी तर्हां सजग्ग है ते इस नूं भली प्रकार पछाणदा है। पाकिसतान ते पुरातन विरसे बारे जिन्हां नूं कोई जाणकारी जां नेड़ता दा अनुभव नहीं, उन्हां लोकां दे पाकिसतान प्रती भावुक मोह नूं विरक कदे पसंद नहीं कर सकिआ।
विरक दा लिखण ढंग वी निराला है। सभ तों पहिलां उह इस बारे सपशट हो लैंदा है कि उस ने की लिखणा है। किसे कहाणी नूं लिखण तों पहिलां उह उस दा सारांश अंगरेज़ी विच झरीट लैंदा है, फिर किसे विहल वाले दिन उस नूं पंजाबी विच लिख लैंदा है। लिखण उपरंत उह उस नूं बहुता सुआरन जां पालिश करन नहीं लग्ग जांदा।
विरक शाह-ख़रच है। उस ने पैसे बारे ना कदे बहुता सोचिआ है ते ना ही इस दी प्रवाह कीती है। वाह लग्गदी नूं आपणी मौजूदगी विच उह किसे होर नूं रैसतोरां दा बिल्ल जां बस्स टिकट आदि दे पैसे नहीं ख़रच दिंदा। शाइद इसे कारन जलंधर कौफ़ी हाऊस विच विरक वाली टेबल ‘ते लेखकां दा जमघटा लग्गिआ रहिंदा सी। 
विरक यारां दा यार है। उहदे बारे इह लतीफ़ा प्रसिद्ध है कि उह आपणे यार दी किताब दी बिनां पड़्हिआं साहित अकादमी दे इनाम लई सिफ़ारश कर सकदा है। जिन्हां नूं उह आपणा करीबी मित्तर समझदा है, उन्हां विच स।स। मीशा, गुलज़ार संधू, अतर सिंघ, प्रेम प्रकाश, भोगल, सुरजीत हांस ते गुरनाम सिंघ तीर हन। 
विरक, संत सिंघ सेखों नूं सिक्खां दा सभ तों वद्ध सिआणा आदमी मन्नदा है ते मेरी जाचे विरक जट्टां दा सभ तों वधीआ क्रीएटव राईटर है।
विरक दा जीवन प्रापतीआं दा जीवन है। उस नूं बहुता कुझ बिन मंगे प्रापत होइआ है। उह वडेरीआं प्रापतीआं दे समरत्थ है अते वधेरे माण वाली गल्ल इह कि इन्हां दे योग है।


Leave a Comment