विरक हुरां वरगा बंदा नहीं किसे बण जाणा मोहन भंडारी

 इक्क वेर कुलवंत सिंघ विरक मैनूं अचानक टक्कर गिआ। उह चंडीगड़्ह दे सतारां सैकटर दे इक्क सिनमे मूहरे खड़्हा छल्ली चब्ब रिहा सी। भुन्नी होई मक्की दी छल्ली। उह बाहे दाही कढ्ढे होए दाणे आपणी हथेली ‘ते निहारदा अते दबासट्ट फक्का मार लैंदा। उस समें पंजाब दे मुक्ख मंतरी दी प्रैस्स सकत्तरी अते मन्ने-दन्ने लेखक होण दा अहिसास उहदे नेड़े-तेड़े नहीं सी। दीन-दुनीआ दे झमेले पता नहीं कित्थे सन। बस, उत्थे उह सी, छल्ली सी अते भुज्जे होए दाणिआं दे फक्के सन।
आपणे-आप विच एना मगन मैं उहनूं पहिलां कदे नहीं सी देखिआ। मैं बिंद कु पैर मले अते उहनूं देखदा रिहा, पर उह तां किसे वल्ल वेख ही नहीं सी रिहा। मैनूं बिजली दे लिशकारे वांग खिआल आइआ, ”इहनूं इउं फक्के मारदा वेख के किसे वी भले माणस विच फक्का ना रहे!” मैं आपणे मूंह विच कच्ची मक्की दा कोसा-कोसा दुद्ध घुलदा महिसूस करदा लागले कौफ़ी हाऊस विच जा वड़िआ। अंदर भीड़ सी। दो-तिन्न रिटाइरी बंदे आपो-आपणी मेज़ ‘ते अग्गे बैठे सन अते पर्हां हट के इक्क मेज़ ‘ते काले कोटां वाले दो वकील अते तिन्न बुद्धीजीवी अंगरेज़ी दे लफ़ज़ चित्थ-चित्थ के बोलदे बहिस विच उलझे होए सन। मैं खूंजे विच खाली पिआ मेज़ मल्ल लिआ।
विरक अंदर आइआ। उह टिकवीं लंमी पलांघ पुट्टदा, आपणी सेध तुरदा मैथों सत्त-अट्ठ मेज़ दूर जा बैठिआ। ओसे छल्ली वाली मौज विच। मैं सोचण लग्गा, इहदी खब्बल कहाणी तां पाठकां दे मूंह चड़्ही होई है। टूणा कहाणी दी गल्ल किउं नहीं तुर रही, जिस विच इक्क जज्ज कालज दी सुंदर मुटिआर प्रोफ़ैसर ‘ते एना लट्टू हो जांदा है कि दिन-रात ओसे बारे सोचदा रहिंदा है। अख़ीर ‘ते कहाणी अचंभे भरिआ मोड़ कट्टदी ऐ। सिआणी उमर दा उह बंदा आपणे इक्क मित्तर नूं टैलीफ़ोन करके कोठी बुलाउंदा है। जज्जां वाला ओहला तिआग के उह कोठी दे खुल्ल्हे बरांडे विच ही काला कोट, पग्ग अते कमीज़ उतारदा है। फेर नौकर नूं बाहर ही विसकी लै आउण लई कहिंदा है अते मित्तर नाल पीण बहि जांदा है। फिर उहनूं दस्सदा है कि उस सुंदर मुटिआर दे आकरशण दी कुड़िक्की विचों किवें निकलिआ। 
उहनूं आपणे बचपन दी इक्क घटना याद आउंदी है। कीले नाल बन्न्ही होई, वग्ग तों पिच्छे रहि रही इक्क कट्टी दा उह रस्सा खोल्हण लग्गा। उहदा पैर रस्सा तुड़ा रही कट्टी दे पैर हेठ मिध्धिआ गिआ। मास छिल्लिआ गिआ। उह तड़फ़ण लग्गा। पीड़ सही नहीं सी जा रही। चीकां निकल रहीआं सन। उहदी मां ने समझाइआ, ”पुत्तर तूं वग्ग दे मगर जा के आपणा पैर उसे कट्टी दे बुल्ल्हां नूं छुहा। टूणा हुंदै।” उह इउं ही करदा है। कट्टी दे मूंह दी सिल्ल नाल उहदे पैर नूं आराम आ जांदा है।
फेर उस कुड़ी नूं मिलण दा सबब्ब बण जांदा है। इक्क निवेकले होटल विच बैठी उह इक्क बाहरले सूबे दे प्रोफ़ैसर नाल गल्लां कर रही हुंदी ऐ। जज्ज आप पर्हां हट के बैठा उहदीआं गल्लां सुणदा है। उहदीआं गल्लां सुणदा अते उहदे हिल्लदे बुल्ल्ह देखदा उह महिसूस करदा है, जिवें उहदा मन हौला हो रिहा होवे। जिवें काले बद्दलां दी लपेट विच आई धरती कणीआं पैण नाल बद्दलां दी पकड़ तों निकल जांदी है। कमाल दी सूख़म कहाणी ऐ।
विरक साहिब ने कौफ़ी दा घुट्ट भरिआ। सिद्धा झाकिआ। मैनूं देख के हत्थ नाल इशारा कीता, ”आ जा।” मैं वी मुसकरांदिआं हत्थ हिलाइआ, ”एथे ई आ जो।” उह बिनां हील हुज्जत दे आपणी पिआली चुक्क के मेरे कोल आ बैठा। मैनूं पता सी। उह बहुत घट्ट बोलण वाला शख़स ऐ, पर ओदण उह गल्लां दे रौं विच सी। सो, रुक-रुक के गल्लां शुरू हो गईआं।
”इह थां ठीक ऐ। हुणे भीड़ हो जाणी ऐ। एधर आउण-जाण वाले घट्ट होणगे।” मैं आखिआ।
”मेले विच आनंद माणी दा ए, भीड़ बारे नहीं सोचीदा।”
उहदीआं निक्कीआं-निक्कीआं अक्खां विच खुलासापण टहिकिआ। फेर कौफ़ी दीआं चुप्प घुट्टां विच लंमी चुप्प पसर गई। इस विचकार मैनूं आपणे इक्क पिआरे मित्तर दी विरक बारे दस्सी पते दी गल्ल याद आई। उह अते विरक उदों दिल्ली नौकरी करदे सन। उहने जद वी विरक नूं टैलीफ़ोन करना तां अग्गों उत्तर सुणना, ”मैं विरक बोलनां!” फेर चुप्प। कोई गल्ल पुच्छणी तां अति संखेप उत्तर मिल जाणा। मेरे मित्तर अंदर बड़ा चिर खिझ भरिआ रोस जिहा रिहा, ”हद्द होगी, इह बंदा खुल्ल्ह के गल्ल ई न्हीं करदा।” फेर इक्क दिन दोसतां दी निघ्घी महिफ़ल विच आपणी रौं विच आइआ विरक बड़ी सहिजता नाल कहि रिहा सी, ”पता नहीं लोक टैलीफ़ोन ‘ते लंमीआं गल्लां किद्दां कर लैंदे ने।” इह गल्ल सुण के मेरे मित्तर दा रोस काफ़ूर हो गिआ।
”की बणदा ए”, विरक दे बोल मेरे कन्नीं पए।
”नौकरी करीदी ऐ।” मेरा वी इक्क सतरी जवाब सी।
”उह तां करने ई आं”, उह मुच्छां विच मुसकराइआ।
चुप्प फेर पसर गई। उहदी उह कहाणी, जिस दा ज़िकर मैं उप्पर कीता है, फेर मेरे दिमाग़ विच घुंमण लग्गी। चुप्प दा टूणा तोड़दिआं मैं किहा, ”तुसीं, गुलज़ार सिंघ संधू अते गुरबचन सिंघ भुल्लर डंगरां दे माधिअम नाल बड़ी वधीआ बात पा लैंदे ओ।” उह तुरंत बोलिआ, ”असीं डंगर जु होए।” मैनूं एने तिक्खे प्रतीकरम दी आस नहीं सी।
मनुक्ख दे बोलां दी खेड निआरी हुंदी ऐ। मूंहों निकल के पता नहीं इह की रंग दिखा देण। आपणे वल्लों मैं सही सां। नीत वी नेक सी। फेर ग़लती कित्थे होई? हो सकदा है, मेरी टोन विच विअंग होवे जां फेर ‘डंगरां’ शबद ‘ते ज़ोर दित्ता गिआ होवे। मैं उस वल्ल अहुल हो के देखिआ। उह सिद्धा सतोर बैठा सी। अडोल। उस विच तणाअ वरगी कोई चीज़ मैनूं दिखाई ना दित्ती। चिहरे ‘ते टिकाओ दा पारावार सी, पर उहदीआं निक्कीआं-निक्कीआं अक्खां इस गल्ल दी गवाही नहीं सन भर रहीआं।
बिंदे-बिंदे सज्जी अक्ख फरकी जावे। फेर खब्बी विच तारा चमकिआ, जिवें कहि रिहा होवे, ”मैनूं जाणनैं?” मैं कहिण ई वाला सां, ‘विरक जीओ, कोई ग़लतफ़हिमी हो गई लग्गदी ऐ। मैं जट्टां नूं जाणदां। मेरे बहुते लेखक मित्तर जट्ट ने।’ पर उह तां पहिलां ही बोल पिआ। सहिजे-सहिजे। ”जिस वातावरण विच उमर हंढाई होवे, उसे दीआं गल्लां करनीआं हुंदीआं ने।”
”ते हुण?” मैं निक्के बालके वांग उस वल्ल तक्कण लग्गा।
”हूं” उह सोचदा-मुसकराउंदा अते मुच्छां फ़रकाउंदा गंभीर हो गिआ, ”हुण ते उह गल्लां ई नहीं रहीआं। समें नाल पुराणा अनुभव पेतला पै जांदा ए।”
मैं उहदा किते लिखिआ-पड़्हिआ सी,
”मेरे शहिर विच रहिणा, मेरी नौकरी, साडे पिंड दा उज्जड़ जाणा ते इस पासे कोई पुराणा पिंड ना होण करके किधरे जड़्हां ना लग्गणीआं, इह सभ गल्लां हुण दे पेंडू जीवन चितरन विच रुकावटां हन। जिस गल्ल दी मेरा दिल साख़ी ना भरे, उह मैं लिखण तों संकोच करदा हां।”
उह कौफ़ी पी के वी मैनूं थक्किआ-थक्किआ लग्गिआ, पर निस्सल होइआ बैठा रिहा। जिवें होर गल्लां करनीआं-सुणनीआं चाहुंदा होवे, नहीं तां मुक्ख मंतरी दा प्रैस्स सकत्तर की अते एदां दी विहल की आखे। मेरा की सी। निक्की नौकरी दी वड्डी मौज विच बैठा सां। जे कोई पुच्छ-पड़ताल करदा वी तां आख देणा सी, ”चीफ़ मनिसटर साहिब दे सकत्तर साहिब ने बुलाइआ सी।” सानूं दफ़तरां विच बैठे लेखकां नूं उहदा सिख़र दे डंडे ‘ते बैठे होण दा इहो लाभ बहुत सी। देवी दे दरशन, नाले मुंज बगड़ दा सौदा। एस गल्ल दा वी बड़ा माण सी कि मेरे कोल ‘धरती हेठला बौल्हद’, ‘दुद्ध दा छप्पड़’, ‘मुढ्ढों-सुढ्ढों’, ‘नमसकार’ अते ‘मिन्नी दी सलेट’ वरगीआं कहाणीआं दा लेखक बैठा है। निक्के आकार दे शाहकारां दा वड्डा लेखक। कोई उहनूं मूडी, ख़ुशक, गुझ्झा अते मसकीन कहे, कोई फ़रक नहीं पैंदा। मचले जट्ट दी मिसल तां मशहूर है ही। कहिंदे ने इक्क विदिआरथी ने उहदीआं कहाणीआं ‘ते पी।ऐच्च।डी। करनी सी। उह विरक कोल गिआ। समस्सिआ दस्सी। कुझ दस्सो जी? अग्गों दो टुक्क जवाब मिलिआ, ”लाइब्रेरीआं विच जाओ। मैटर लभ्भो।”
फेर मेरी आस तों अते विरक दी चुप्प बिरती तों उलट गल्ल होई। उह कहिण लग्गा, ”पंजाबी दी किस पुसतक ने सभ तों वद्ध प्रभावत कीता?” मेरे लई इह अणीआला तीर सी।
”जंग अते अमन, मां, बुद्धू ते डान वहिंदा रिहा।” मैं कई रूसी किताबां गिणा दित्तीआं। रूसी साहित उहनीं दिनीं लेखकां दे दिमाग़ ‘ते छाइआ होइआ सी।
”मैं पंजाबी दी पुसतक आखनां”, ऐतकीं उह हस्सिआ।
”पंजाबी वालिआं कोल किहड़ा शाहकार ऐ दिखाउण वाला?” मैं तुणका मारिआ।
”हीर ए वारिस दी”, उह बोलिआ।
”उस पिच्छों की हो गिआ साडी प्रतिभा नूं?” मैथों उच्ची सुर विच कहि हो गिआ।
उहने मेरे मोढे ‘ते हत्थ रख्खिआ अते उट्ठदा होइआ बोलिआ, ”मायूसी वाली किहड़ी गल्ल ए। साडे विच प्रतिभा दी कमी नहीं।”
उह तां थोड़्हे समें विच बहुता सुआद लै के चलिआ गिआ। नौकरी बारे आखे उहदे शबदां, ‘उह तां करने ई आं’ विचले दरद नूं कोई करोड़ी मल्ल की जाणे। उहदी रीड़्ह दी हड्डी तां मोहरां दी बांसली हुंदी है। ख़तरे दी तलवार तां नौकर दे सिर ‘ते लमकदी हुंदी ऐ अते प्रैस्स सकत्तरां दे तां चत्तो पहिर लमकदी रहिंदी ऐ।
काश, तुसीं कदे हासरस दे कवी सूबा सिंघ दीआं गल्लां सुणीआं हुंदीआं। इक्क दिन दोसतां दी महिफ़ल विच बैठा आखण लग्गा, ”इह! बचारे ‘साहिब’ दे मत्थे ‘ते तिउड़ी देख के गुड़ दी रिउड़ी वांग ई पिचक जांदे ने। एस डरों असीं तां आपणा तख़ल्लस ए ‘साहिब’ रक्ख लिआ।” इह तेज़ तरार टिप्पणी सुण के हासा तां मच्चणा ई सी, दो-तिन्न बंदे वी मच्च गए। इस भिअंकर मनो-दशा दा नकशा भूशन धिआनपुरी ने इन्हां सतरां विच खिच्च के रहिंदी-खूंहदी कसर पूरी कर दित्ती:-
असीं हर-हर नहीं करदे,
असीं हर तों नहीं डरदे।
असीं सर-सर करदे हां,
सरकार तों डरदे हां।
लओ, ख़तरे वाली घड़ी वी आ गई। ‘उतर काटो मैं चड़्हां’ वाली सथिती हो गई। गिआनी ज़ैल सिंघ दी हकूमत गई, नाले सूबा सिंघ वी चला गिआ। मुक्ख मंतरी बण बादल आइआ। उहने सूबा सिंघ दी थां कुलवंत सिंघ विरक बुलाइआ। जदों विरक साहिब सज गए तां इक्क सिआणे-बिआणे फत्तो के यार ने आपणे वल्लों टिच्चर वरगी सिफ़त कीती, ”विरक हुरी तां जी जट्टां दे सूबा सिहुं ने।” तदे कोल बैठे इक्क सज्जण ने मेरे कन्न विच मलकड़े आखिआ, ”कर ‘ती ना लिद्द!”
जे इहो जिहे हासे मज़ाक ना होण तां दफ़तरां विच कंम करन वाले लोकां दी ज़िंदगी दुभ्भर हो जावे। 
उह दोवें वक्खो-वक्ख सुभाअ, बिरती अते सोच वालीआं शख़सीअतां सन। दोवें हरमन पिआरे अते सतिकारे सज्जण पुरश। एसे वासते लेखक उन्हां कोल ढुक्क-ढुक्क बैठणा लोचदे सन। शौक अते ज़ौक दे धनी होण करके उह टिच्चर, मशकरी अते मज़ाक दा आनंद लैंदे। भावें इह उन्हां ‘ते ही किउं ना कीता गिआ हुंदा। सही माअनिआं विच लेखक होण दी पछाण होर की हुंदी ऐ? लेखक होण दे होर गुणां बारे साडे आलोचक बथेरीआं गल्लां दस्सदे रहिंदे ने। तुसीं बस अनित भगत बण, मन-चित्त लाके श्रवण करिआ करो। तथा असतू कहो। बीबे राणे बण के ग्रहिण करोगे तां नौं निधीआं अते बार्हां सिद्धीआं दी प्रापती होवेगी। बोलो साचे दरबार की जै!
देखो, मैं कित्थों कित्थे पहुंच गिआं। आपां तां अज्ज विरक साहिब बारे गल्लां करनीआं ने। उन्हां ने फ़रमाइआ सी कि लेखक पतल-चंमा हुंदा है। जाणी कोमल-चित। संवेदनशील। किन्नी कमाल दी उपमा है। पर मुशकल उदों पैदा हो जांदी ऐ, जदों विचों कोई खट्टल-चंमा निकल आउंदा है! निक्की-निक्की गल्ल ‘ते कौड़-म्हैंस वांग झाकण लग्ग पैंदा है। उस वेले महिसूस हुंदा है, दुआ करीए, ‘हे सच्चे पातशाह! सुमत्त बख़श। सानूं लेखकां नूं गैंडे दी चमड़ी प्रदान करी, नहीं तां साडी सरकार आपणी मिहर नाल ही अपाहज करके रक्ख देवेगी। इह चुपके-चुपके एनी गुझ्झी मार मारदी ऐ कि पता तक्क नहीं लग्गण दिंदी। असीं भुल्लणहार, होरनां नूं तां भुल्ले ई सी, विरक नूं वी भुल्ल गए। उह सुचेत बंदा सी। साहित दी बारीक अते सूख़म तंद। पर इहो जिहे माहौल बारे फ़ैज़ अहिमद फ़ैज़ ने कुझ इस तर्हां सपशट किहा सी, ‘इह जनून दा दफ़तर है।’ अते इह वी, ‘तेरीआं गलीआं ‘ते कुरबान जावां, ऐ वतन! जित्थे दी रसम है कि कोई सिर उठा के ना चल्ले।’
मझ्झां चारन दी चंगी जाच वाला, उन्हां नूं शौक नाल चरदिआं देख, जिस दे कालजे बहुत ठंड पैंदी सी, आपणे हत्थीं बीज पा फुल्ल उगाउण, घोड़ीआं नूं मछरा के उन्हां नूं पैलीआं दे विचों दी उसताद सवारां वांग भजाउण वाला विरक जनून दे इस दफ़तर विच जदों आण बैठा होऊ तां उहदे मन दी हालत पिता-पुरख़ी दफ़तरशाही की समझे। इह गल्लां उहने आपणीआं किरतां राहीं दस्सण दी कोशिश ज़रूर कीती ऐ। इह सतरां उहदे मन दी हालत दा सीशा ने: ‘कित्थे दिल्ली दे दफ़तर विच अफ़सरां दे भार थल्ले बैठे रहिणा ते कित्थे लुधिआणे धुप्प नहाते बज़ारां विच आदर माण नाल फिरना।’
कोई इक्को कहाणी दा कीरतन करदा-करदा बुढ्ढा हो गिआ। कोई किसे इक्को सिक्केबंद पड़चोलीए तों आपणीआं लिखतां दा कीरतन करवाउंदा रिहा। इक्क ऐना इकरस अते बोर हो गिआ कि लोक अक्क गए। सुणदे होए वी सुणनों हट गए। कन्नां विच कुरकुरी होण लग्गी तां कानाफूसीआं होद लग्गीआं, ”पहिलां ई पता सी, इहने की कहिणै।’ किसे ने कई दहाके पहिलां ही ऐलान कर दित्ता सी कि उस दीआं कहाणीआं नूं लोक इक्कीवीं सदी विच समझणगे। संगीतक कुरसीआं दे इन्हां खिडारीआं दा साहितक तमाशा देख विरक मुसकरा छड्डदा सी। जदों बोलण दी लोड़ होई तां उह बोलिआ। बड़े घट्ट लफ़ज़ां विच। बेझिजक हो के। द्रिड़्हता भरी दलेरी नाल। ”एथे पड़्हिआ गिआ परचा मेरी समझ विच नहीं आइआ। इस ‘ते होई बहिस वी नहीं।” उस समें उहदेशबदां अते लहिज़े विच रीण मातर ग़रूर नहीं सी। 
उहदीआं आपणे बारे कीतीआं टिप्पणीआं बड़ीआं दिलचसप अते महत्तवपूरन ने। उह कहिंदा, ”जदों कोई गल्ल लिखण लई मैनूं ठीक शबद ना लभ्भे तां मैं इह चितारदा कि मेरे पिता इस गल्ल नूं किन्हां शबदां विच कहिंदे ते मेरा कशट मुक्क जांदा। निरक्खर होण करके उन्हां दी बोली ‘ते कोई बाहरला असर नहीं सी। औखे तों औखा खिआल वी उन्हां पेंडू पंजाबी विच ही निभाउणा हुंदा।”
मुनशी प्रेम चंद वांग उहदी सरल अते सपशट बोली पाठकां दे धुर अंदर लहि जांदी है। उह आपणा दिल कढ्ढ के कागज़ ‘ते रक्ख दिंदा है ते फेर इक्क निपुन्न सरजन वांग उहदी चीर-फाड़ करदा है जां आखो,उह सरल अते निरछल किसान है। आपणे कित्ते अते कसब दा माहर। उहनूं पता है कि सिआड़ कढ्ढणा बड़ा टेढा कंम है। शाइद इहो-जिहे बंदिआं बारे ही अहिमद नदीम कासमी ने इह शिअर लिखिआ होएगा:-
सुब्हा के नूर से भीगे
हूए खेतों में किसान,
हल चलाते हैं तो
फ़नकार नज़र आते हैं।
तुहानूं इक्क गल्ल सुणाउंदा हां। बड़ी मज़ेदार ऐ। साडे दोवां नाल इक्क हादसा वापरिआ। उह जर गिआ। मैं ठर गिआ। द्रिश देखो ज़रा: मैं पंजाब सिवल सकत्तरेत दे अट्ठवें फलोर ‘ते खड़्हा हां। लिफ़ट दे ऐन साहमणे। कारीडोर विचों दी तुरिआ आउंदा उह इकदम मेरे साहमणे आ खड़्हा हुंदा है। इक्क बांह बन्न्ही होई ऐ। दूजी बांह हेठ फाईल। इक्क अफ़सरनुमा बंदा उहदे नाल ऐ। मैं टुट्टी होई बांह वेख घबरा जानां। उहदे होर नेड़े हो मैं लरज़दी आवाज़ विच पुच्छदा हां, ”विरक साअब, आह की! की होइआ? ॥॥ उंझ ही।” उह दो शबद बोलदा है ते बस। ना रुक्खे, ना मिट्ठे। अफ़सरनुमा बंदा भरवट्टे रता कु उतांह चुक्कदै, ”कौण एं?” उह भरवट्टिआं नूं उतर दिंदा है, ”पंजाबी लेखक ए।” एने नूं ‘अफ़सरां लई’ लिफ़ट दा दरवाज़ा खुल्ल्ह जांदा है अते उह दोवें चक्कमें पैरीं अंदर जा वड़दे ने। दरवाज़ा बंद। लिफ़ट हेठां नूं सरकी। मैं खड़्हे दा खड़्हा रहि गिआ। मैनूं अचानक महिसूस होइआ, जिवें मैं कट्टिआ होइआ पतंग होवां, कंडिआली किक्कर ‘ते अटकिआ होइआ, जिस दी डोर पता नहीं किहड़े शरारती मुंडे दी जेब्ह विच होवेगी।
दोबारा मिले तां उह पहिलां वाला विरक सी। नहाती धोती धरती वरगा, जिस उत्तों काले बद्दल दी पकड़ ढिल्ली पै गई होवे।
कहाणी लिखण दा समां अते ढंग लेखकां दा आपो-आपणा हुंदा है। विरक साहिब दी मंग सी, सुखावां समां। ‘कहाणी जुड़दी किवें है’ विचों इक्को टोटा हाज़र है: ”कहाणी दा ढांचा सोचण नालों कहाणी लिखण लई होर वी सुखावां समां चाहीदा है। कई लोक इस नूं अलहाम जां रब्बी प्रेरना दा समां कहिंदे हन। मेरी लोड़ इस तों बहुत घट्ट है। बस सारा दिन आपणा होए तां जो किसे वेले वी घड़ी वल्ल ना वेखणा पए। रात तक्क किसे दे घर आउण दा डर ना होवे। कोई सज्जरी बेइज़ती ना होई होवे, वहुटी नाल लड़ाई ना होवे, नौकरी तूं कोई नवां ख़तरा ना पिआ होवे तां समझो इस ‘अलहाम’ लई वातावरण अनुकूल है। मेरे लई किसे खिआल तों कहाणी दा बण जाणा इक्क फुल्ल दे खिड़न वांग है।”
देखो इस निक्के जिहे टोटे विच लेखक ने किन्नीआं गल्लां गिणा दित्तीआं। इन्हां विचों ‘वहुटी नाल लड़ाई ना होवे’ ख़तरनाक इकबालीआ बिआन है। परिवार दे दुक्ख-सुक्ख, उहदे दुक्ख-सुक्ख, पतनी इस गड्डी दा बराबर दा पहीआ। लिखण लई अमन, चैन अते सकून दी लोड़ विच उह पती नूं वद्ध तों वद्ध सहियोग दिंदी है, अकसर इही सुणींदा है। फेर पंगा किउं पै जांदा है? किते ना किते गड़बड़ तां हुंदी ही होऊ। महान रूसी लेखक तालसताए नूं बिरध अवसथा विच घरों निकलणा पिआ सी। सवेरे पंज वजे। आपणी पतनी तों चोरी-चोरी। उहनूं तां लोक महातमा कहिंदे सन। कारन? अखे, ‘जी मेरी बीवी मेरीआं सभ हरकतां, सभ शबदां ‘ते निगरानी रक्खदी ऐ। दिन-रात।’ उह उस तों एना डर-त्रहि गिआ कि सफ़र विच इक्क रेलवे सटेशन ‘ते मरिआ। उहदा हुकम सी ‘बीवी’ आपणा मूंह ना दिखावे। आख़री घड़ी वी। बूहा बंद करवा लिआ। फेर वी उहनूं लग्गदा रिहा कि बाहर दरवाज़े कोल खड़्ही कोई औरत उस ‘ते निगरानी रक्ख रही ऐ।
कहिंदे ने सोफ़ीआ आंदरेयेवना, तालसताए दी पतनी डाइरी लिखदी हुंदी सी, जिस विच पती दीआं नितां-प्रती हरकतां दा ज़िकर हुंदा। मिसिज़ विरक साहिबा बारे इहो जिही गल्ल सुणनी/पड़्हनी तां की, सोची वी नहीं जा सकदी। छोटीआं-मोटीआं लड़ाईआं तां घरां विच हुंदीआं ई रहिंदीआं ने। कहावत है ना घर विच दो भांडे तां खड़कणगे ही। खड़के दी टोन तों पता लग्ग जांदा है कि गड़बड़ किन्नी कु गंभीर है।
कुझ अरसा होइआ किसे सज्जण दा इक्क भुलेखा-पाऊ अते डरपोक जिहा बिआन पड़्हिआ सी, ” ‘टूणा’ उस दी उह कहाणी है, जिस ने उस नूं मगरली उमर विच सभ तों वद्ध प्रेशान कीता।” किउं बई? किस गल्लों?
‘शीशा’ कहाणी दा लेखक गुरदेव सिंघ रुपाणा खड़पैंच बणिआ मैनूं अते भूशण धिआनपुरी नूं दिल्ली आपणे इलाके विच मटरगशती करवा रिहासी। तुरदिआं-तुरदिआं उह इकदम रुकिआ, कोठीआं दी इक्क कतार वल्ल उहने बांह खड़्ही कीती अते फक्कड़ लहिज़े विच बोलिआ, ”हौथे रहिंदी ऐ, विरक दी माशूक। सवेरे साझरे उट्ठ दारू दे दो पैग्ग लाउंदी ऐ। फेर निपट गाऊन पहिन के विरक नूं लभ्भण तुर पैंदी ऐ। कदे भापे दी दुकान ‘ते, कदे कनाट पलेस अते कदे कौफ़ी हाऊस।”
उहदीआं हस्सदीआं, नच्चदीआं अते टप्पदीआं अक्खां दीआं पुतलीआं देख के लग्गिआ, ‘जट्ट जक्कड़ मार रिहै।’ इहदे नाल ही विरक वरगे लंमे-झंमे प्रसिद्ध रूसी लेखक मैकसीको गोरकी नाल वापरे इक्क हादसे दा खिआल आइआ। इक्क वेरां संघरश दे दिनां विच उहनूं इक्क जरनैल दा विधवा मोटी जिही फ़रांसण औरत दे बाग विच माली दा कंम करना पै गिआ। उह सवेरे-सवेरे दारू पीणी शुरू कर दिंदी। गोरकी दे आले-दुआले गेड़े मारी जांदी। इक्क दिन उत्थे रहिंदीआं दो कुड़ीआं नूं उस औरत ने बाग दे गेट ‘ते घेर लिआ। गोरकी ने लंघ जाण लई किहा तां उह बिफ़र पई। मूंह विचों झग्ग छड्डदी उह बकण लग्ग पई, ”मैनूं पतै। तूं रात नुं ताकी विचों दी इन्हां नूं मिलण जानैं।” फेर गाउन दा अगला पल्ला चुक्क के चीकी, ”मैं इन्हां सुक्कीआं जिहीआं चूहीआं तों किते वध के आं!” इह देख गोरकी नूं एना गुस्सा चड़्हिआ कि उस मोटी फ़रांसण दी कमर तों रता कु हेठां तिन्न-चार पुट्ठे बेलचें जड़ दित्ते। उस पिच्छों आपणी गठड़ी चुक्क जदों उह उत्थों निकल तुरिआ तां पिच्छों औरत हाकां मारे, ”आ जा, मुड़ आ, मैं पुलिस नहीं बुलाउण लग्गी।” इह घटना जदों उहने तालसताए नूं सुणाई तां उहदीआं बाछां खिड़ गईआं। उह आपणे संत सिंघ सेखों वांग हस्से अते किलकारीआं मारे। नाले कही जावे, ”अछ्छिआ! तैं उस थां मारजे बेलचे! ऐन उसे थां!” ज़रा खिआल करो। इस हालत विच जे कोई किसे पंजाबण नूं मारदा तां उहने सिद्धी गाल्ह कढ्ढणी सी, ”फहुड़ा मारिआ कसूती थां ‘ते।”
रेडीओ प्रसारण लई विरक साहिब दी इंटरविऊ लैणी सी। इस कंम लही मेरा गुणा पिआ। रेडीओ सटेशन जलंधर दा अमला फैला गड्डी विच चंडीगड़्ह पुज्ज गिआ। उन्हां दी कोठी अंदर मैं अते जसवंत दीद ने काफ़ी लंमा समां उन्हां नूं सवाल कीते। उन्हां ने बड़े ठर्हंमे नाल उत्तर दित्ते। जदों बीबी हरबंस कौर, जिस नूं उस दे लाडले दिओर बंसी भाबी कहिंदे ने, दी इंटरविऊ दी वारी आई तां विरक हुरीं उट्ठ के अंदरले कमरे विच चले गए। बीबी बड़ीआं मिट्ठीआं अते आदर भरीआं गल्लां करदी-करदी इकदम भावक हो के बोली, ”इन्हां दीआं कहाणीआं दीआं जिहड़ीआं इसतरी पातर ने, जदों मैं पड़्हनी आं, उह मेरे साहमणे आ खड़्हीआं हो जांदीआं ने। मैं जाणनीआं, पछाणनीआं उहनां नूं।”
इह उन्हां दी आख़री इंटरविऊ सी, जो इस गल्लों यादगारी हो निभी। थोड़्हा समां बीतण पिच्छों उन्हां नूं दिल दा दौरा पै गिआ। पी।जी।आई। लै के गए। पता लग्गण ‘ते मैं वी पहुंच गिआ। उह सुरत विच नहीं सन। सिरहाणे खड़्हा गुलज़ार सिंघ संधू धाहां मार रिहा सी, ”हाइ ओए मेरी भाबी॥। मेरा बाई ओइ।”
दरवाज़े कोल बैठी बीबी हरबंस कौर डुसकदी-डुसकदीह मेरे वल्ल देख हउका लैंदी बोली,”भंडारी जी, विरक हुरां वरगा बंदा नहीं किसे बण जाणा।”

Leave a Comment