कुलवंत सिंघ विरक समकालीआं दी नज़र ‘च

 ”जो कुझ दुग्गल ने उत्तरी पंजाब दी उपभाशा दा इसतेमाल करके प्रापत कीता है, उहो विरक ने लाहौर ते उस दे आसे-पासे दी भाशा नूं वरत के कीता। भावें दुग्गल दा प्रभाव उस दीआं कहाणीआं ‘ते प्रतक्ख देखिआ जा सकदा है, पर विरक दे विशे ‘ते पातर पंजाब दे बहुत जोशीले हिस्से विचों लए गए हन, सिट्टे वजों उस दी लेखणी वधेरे मरदऊपुणे वाली ते कोई उपभावकता तों रहित है।”
-खुशवंत सिंघ, ‘पंजाबी साहित’, समकाली भारती साहित 
विरक अजिहे अखौती मानववादीआं विच शामल नहीं कीता जा सकदा ते ना ही उह इन्हां विच शामल कीता जाणा पसंद करेगा, पर उह सपशट भांत समाजवादी वी नहीं। उस दा समाजवाद नूं अपनाउण वल्ल संकोच किसे करूची दा परिणाम नहीं, इह केवल इक्क भावक संकोच है, उस खेतर विच माली गड्डण दा जिस दा उस ने भलीभांत सरवेखण ते अधिऐन नहीं कीता है। विरक दे सूख़म भावां ते उस दी तीबर बुद्धी ने आधुनिक पूंजीवादी-खेतरीवादी प्रबंधां दीआं कीमतां नूं घातक सिद्ध कर लिआ है, पर हाली नवीआं कीमतां बारे निरणै नहीं कीता। इस लई उस दा सिधांत समाजवादी भावें नहीं बणिआ, पर इस विच सुहिरदता दी घाट नहीं ते उस दी सूझ दे इतिहासक पक्ख तों पक्की होण करके इह सुहिरदता सपशट रूप विच अगरगामी है, अरथात विरक दा कला सिधांत अगरगामी मानववाद है। 
-संत सिंघ सेखों
कुलवंत सिंघ विरक आपणी पीड़्ही दा सिरकढ्ढ कहाणीकार सी। बेशक्क इह पड़ाअ ‘ते आ के उस कहिणा शुरू कर दित्ता कि उह हुण होर कहाणीआं कदे नहीं लिखेगा, पर विरक वरगे कहाणी लेखकां तों कहाणी आपणे-आप नूं लिखवा लैंदी है, बेशक्क उह कहाणी ना लिखण दा मन बणा लैण।
बहुत घट्ट लोकां नूं अजोके युग्ग विच कहाणी दी उतनी समझ है, जिहो-जिही विरक नूं सी। उस दे ना रहिण नाल मेरे विचले कहाणी लेखक दा इक्क सूझवान पाठक गुआच गिआ है। कई कहाणीआं मैं विरक वरगे दोसत-पाठकां लई लिखिआ करदा हां।
विरक पंजाबी कहाणी ‘ते इक्क अमिट्ट छाप छड्ड गिआ है। ‘खब्बल’ वरगी कहाणी लिखण वाला कहाणीकार कदे मरिआ नहीं करदा। 
-करतार सिंघ दुग्गल
कुलवंत सिंघ विरक कहाणीकार वजों आपणे समकालीन कहाणीकारां दे टाकरे ते अदभुत्त विलक्खणता दा सुआमी है। इस दा कारन ना तां उस दी उच्ची विद्दिआ है (पंजाबी दे बहुते कहाणीकार उच्च विद्दिआ प्रापत करन उपरंत ही इस पिड़ विच उतरे हन) अते ना ही उस दी दूजे कहाणीकारां वांग किसे विशेश विचारधारा प्रती वचनबद्धता है (उह जीवन भर इस गल्ल दी शिकाइत करदा रिहा कि उस नूं खाह-मखाह प्रगतीशील टोले विच शामल कीता जांदा रिहा है)। उस दी विलक्खणता इस गल्ल विच है कि सथान, समें अते वायूमंडल दी तिकोण विचले संघणे निज्जी अनुभव दी टेढी लकीर खिच्च के जीवन बारे नवें ज़ावीए उघाड़ सकिआ है। उस दी सफ़लता इस गल्ल विच है कि उह नवें ज़वीए उघाड़दा होइआ सथान, समें ते वायूमंडल दी तिकोण दी सारथकता नूं घट्ट नहीं होण देंदा।
उस नूं पेंडू जीवन दा जिहड़ा अनुभव है, उह उस दे चेते दा अनिक्खड़वां भाग है अते जदों उह शहिर आ वसिआ तां उस ने इसे चेते नूं आपणे चिंतन दुआरा अजिही नुहार दित्ती कि उस दीआं कहाणीआं त्रैपक्खी (उच्चाई, चौड़ाई अते लंबाई) दे नाल-नाल गहिराई दा चौथा पक्ख वी उघाड़ सकीआं। चाचा, तूड़ी दी पंड, शेरनीआं, ते धरती हेठला बौल्हद आदि दे अधिऐन तों मेरे दाअवे दी भली प्रकार पुशटी कीती जा सकदी है। सेखों दी कलातमकता प्रचारातमक छिदरां सदका उस दी सिरजणातमक फुलकारी दा पुट्ठा पासा वी सुझाउंदी है। गुलज़ार सिंघ संधू दा दबेगपुणा, कदे-कदे अक्खड़पुणा हो निब्बड़दा है। वरिआम सिंघ संधू दा वेरवा कहाणी दीआं तंदां नूं गंडीला दरसांदा है। विरक दी कलातमकता इन्हां औगुणां तों मुकत है। टिप्पणी अते सिट्ठणी नूं उह उत्तम पुरख़ी ढंग नाल पेश करन दी थां विअंगमई प्रतीकां राहीं जीवन दे सच्च नूं सति बणा के पेश कर सकदा है। इस विच उस दी विलक्खणता है अते इस विशेश खासे कारन पंजाबी निक्की कहाणी दे पिड़ विच उस दा बोल-बाला है ते सदा रहेगा।
-सुरिंदर सिंघ नरूला
कुलवंत सिंघ विरक पंजाबी दो पोटिआं ‘ते गिणे जाण वाले वड्डे कहाणीकारां विचों इक्क है। उस दी प्रसिद्धी केवल उस दीआं कहाणीआं ‘ते काइम है। कई होरनां लेखकां वांग उस ने साहित दे इक्क तों वद्ध रूपां ‘ते हत्थ नहीं अज़माइआ।
कुलवंत सिंघ दा जनम विरक-टप्पे दे फुलावन्न पिंड विच होइआ सी। बचपन ते लड़कपन दी उमरे उस ने पेंडू जीवन नूं वेखिआ ते माणिआ सी। होर वड्डा हो के उस ने उस जीवन नूं डूंघी नीझ नाल देखिआ सी। इस दा सबूत उस दीआं बहुत सारीआं कहाणीआं विचों मिलदा है।
मेरी जाचे उह प्रगतीवादी लेखक सी, भावें उह इस पासे बहुत तिक्खा नहीं। इह उस दे सुभाअ दा इक्क अंग सी। उह मित बोलड़ा ते मिट्ठ बोलड़ा सी।
‘तूड़ी दी पंड’ आउण वाले समें दी कहाणी है, जदों जातां-पातां दे बंधन टुट्ट जाणगे। इसतरी ते इसतरी विद्दिआ बारे उस दे विचार शेरनीआं विचों सपशट हुंदे हन। उस ने मनोविगिआनक गहिराई वालीआं कहाणीआं वी ख़ूब लिखीआं हन। ‘दुद्ध दा छप्पड़’ ते ‘खब्बल’ इस गल्ल दीआं कुझ इक्क मिसालां हन। ‘धरती हेठला बौल्हद’ पड़्हन वाले कदे नहीं भुल्ल सकदे।
कहाणी दी बणतर बारे उह बड़ा सचेत सी। पंजाबी भाशा ‘ते उस दा पूरा आबूर सी। पातर उस दे जिऊंदे-जागदे हुंदे सन, जिहड़े आपणे इलाके ते सथिती अनुसार बोलदे सन।
उस दा असली समारक उस दीआं रचनावां हन, जिन्हां दा थां पंजाबी साहित दे इतिहास विच सदा काइम रहेगा। आम जीवन विच उह उच्चे दरजे दा इनसान सी अते उच्चे दरजे दा इनसान ही उच्चे दरजे दा साहित रच सकदा है। उस दीआं रचनावां नूं नमसकार!
-प्रिं। सुजान सिंघ
वंड बारे कुलवंत सिंघ विरक दीआं कहाणीआं पड़्ह के इह प्रभाव पैंदा है कि विरक उहो कुझ पूरे सति रूप विच कहि रिहा है, जो उस ने सच्चमुच्च वापरदा वेखिआ। उस नूं साडे देश दी वंड दे दुखांत दा पूरा-पूरा अनुभव प्रापत है। जिन्हां दिनां विच मनुक्ख दी रूह अते उस दे आले-दुआले फिक्क, कुड़त्तण ते निरासता घुल गई सी, उस नूं पेश करन विच उस दी कहाणी ‘उल्हामा’ सभ तों वधीआ कहाणीआं विचों इक्क है। विरक नूं मनुक्ख दी सुहिरदता विच विशवास है।
-हरबंस सिंघ
विरक दी हर कहाणी दा आपणा इक्क निज्जतव है। हरेक कहाणी विच अभिविअकती होइआ लेखक अनुभव निवेकला ते निक्खड़वां ते आपणे वरगा आप है, पर निक्खड़वां वखरेवां केवल उस रूप दा है, जिस विच कोई विशेश तजरबा किसे घटना जां किसे विअकती राहीं विरक नूं प्रापत होइआ है, पर विरक ने उस अनुभव नूं प्रगट करन लग्गिआं चोण दा जो आधार अते पेशकारी दा जो रवइ्इीआ अपणाइआ है, उह सारीआं कहाणीआं विच सांझे हन।
उस दी दूजी विशेशता है उह सहानुभूती, जिस नाल उह आपणे पातरां नूं पेश करदा है। उह आपणे पातरां नाल डूंघी निज्जी सांझ पा के उन्हां नूं इउं पेश करदा है कि उन्हां दीआं थोड़्हां, तरुटीआं ते हारां दे बावजूद सानूं उन्हां नाल पिआर पाणों संकोच नहीं हुंदा।
-अतर सिंघ
‘देश दी वंड नाल सबंधत कहाणीआं विच इक्क तां कुड़त्तण दा लेप बहुत गाड़्हा नहीं ते दूजे कुड़त्तण जिन्नी वी है, आपणे नेड़े दे वरतमान चरित्तर प्रती है। उदाहरन वजों कुवलंत सिंघ विरक दी ‘खब्बल’ कहाणी तां उस्सरी ही पाकिसतानी परत उप्पर अते देश दी वंड तों कुझ ही चिर बाअद, पर उह समें ते सथान दे तुअसब तों असलों पाक है।’
-डा। हरिभजन सिंघ, अधिऐन ते अधिआपन
कुलवंत सिंघ विरक निशचत तौर ‘ते पंजाबी दा हुण तक्क दा सरवोतम कहाणीकार है। प्रिं। संत सिंघ सेखों तों लै के वरिआम सिंघ संधू तक्क अद्धी सदी तक्क दी पंजाबी कहाणी दे खेतर विच किन्ने ही कहाणीकार अजिहे हन, जिन्हां कई-कई बहुत ही वधीआ ते महत्तवपूरन कहाणीआं लिखीआं हन। पर सिरफ़ विरक ही अजिहा कहाणीकार है, जिस दी कोई मामूली लग्गदी कहाणी वी अक्खों परोखे नहीं कीती जा सकदी। उहदा महत्तव उत्तम ‘कहाणीकार’ वजों है-इह नहीं कि उहने (कुझ) चंगीआं कहाणीआं लिखीआं हन।
उह साडा बेजोड़ कहाणीकार है।
-गुरदिआल सिंघ
इह पेशीनगोई करन दी जुरअत कर रही हां कि सैंकड़े वर्हिआं मगरों वी पंजाबी अदब दा जदों इतिहास पड़्हिआ करनगे ते विरक दीआं इह कहाणीआं पड़्हनगे तां उन्हां नूं इही लग्गेगा कि इह गल्लां तां उन्हां दे आपणे नाल कल्ल्ह-परसों जां पिछले-पिछलेरे वर्हे वापरीआं सन, इहो जिहे लोक तां उन्हां आंढ-गुआंढ वसदे वी तक्के होए ने। बस, सिरफ़ इन्हां कहाणीआं दे किरदारां दी मासूमीअत तवारीख़ी गल्ल बण चुक्की होवेगी। 
-अजीत कौर
कुलवंत सिंघ विरक दे जीवन ते करतव्व बारे कुझ वी लिखण लग्गिआं मेरा हत्थ थिड़क जांदा है। पहिलां एदां नहीं सी हुंदा।
उह बड़े ठंडे सुभाअ दा बंदा सी। लिखण लग्गिआं सोच-सोच के अक्खर पाउंदा सी। उडीक भावें टांगे दी होवे, मित्तर दी जां अक्खर दी उस नूं अलकत नहीं सी हुंदी। रेल दे पुल दीआं पौड़ीआं चड़्हन जां तुरी जांदी बस्स नूं भज्ज के फड़न तों सिवा मैं उस नूं कदे कोई काहली करदिआं नहीं सी वेखिआ। उह बहुत घट्ट डोलदा सी। उस दी लंबी बिमारी पिच्छों होई मौत ने उस दे चाहुण वालिआं नूं डुलाअ दित्ता है। मेरे हत्थ थिड़कण दा होर कोई कारन मैनूं नहीं सुझ्झ रिहा।
मेरे मन दी थिड़क दा मुढ्ढ नवयुग्ग प्रैस्स वल्लों छापे गए उस दीआं कुल्ल कहाणीआं दे संग्रहि तों पैदा होइआ। जदों भापा प्रीतम सिंघ ने विरक तों पुसतक दा नां रक्खण लई सुझाअ मंगिआ तां उस ने किहा, ”सिद्धी गल्ल है-मेरीआं सारीआं कहाणीआं-मैं नहीं होर लिखणीआं”, इह किन्ना दुक्खदाई ते निरदई सच्च सी। उस ने होर कुझ वी नहीं लिखिआ।
ते फेर छेती ही पिच्छों जिस दिन डाकटर ऐम्म।ऐस्स। रंधावा दे चल्ल वसण दी ख़बर मिली तां विरक मेरे कोल ही सी। ”बड़ी वधीआ मौत है। अधरंग दे रोगीआं वांग लाचार हो जांदा तां किन्नी माड़ी गल्ल सी। लाचारी हंढाउणी किन्नी औखी हुंदी है।” ते इस तों उन्हीवें दिन विरक नूं अधरंग हो गिआ। तुरना-फिरना तां इक्क पासे, गल्ल वी इशारे नाल ही समझा सकदा सी। कहाणी साडे हत्थों निकल चुक्की सी। रब्ब दे हत्थों वी। मेरी थिड़कण दा कारन मनुक्ख ते रब्ब विचले पाड़े नाल वी सबंधत है।
उपरोकत गल्लां तां केवल रब्ब ‘ते गुस्सा कढ्ढण लई ही हन। समां पा के भुल्ल जाणगीआं। साडे कोल इक्क चानणा नुकता वी है, जिहड़ा उस दी हर कहाणी विच किधरे छुपिआ बैठा है। शबदां दी बुक्कल विच मघदे अंगिआर वरगा। दुद्ध दा छप्पड़, धरती हेठला बौल्हद, तूड़ी दी पंड, खब्बल, दो आने दा घाह, नमसकार कई कहाणीआं इस नूं संभाली बैठीआं हन। 
विरक दी शाइद ही कोई नवीं रचना हुंदी, जिस बारे उस नूं रसते विच खल्हिआर के वाह-वाह कहिण नूं जीअ ना करदा। उस दीआं कहाणीआं दी गल्ल पड़्हन-सुणन वालिआं विच एदां तुरदी, जिवें भेत वाली गल्ल सकैंडल/फटा-फट। वाहो-दाह। धरम युग्ग ते इल्लसट्रेटड वीकली तों वी दूर सोवीअत देश तक्क। विरक शाइद पहिला पंजाबी लेखक है, जिस दीआं कहाणीआं दा पूरा संग्रहि रूसी विच दो दहाके पहिलां छपिआ सी-बिनां किसे नूं कहिण-सुणन दे।
चुसती भरे जीवन ते चुसत कहाणीआं दा चुसत लेखक कुलवंत सिंघ विरक यारां दा यार सी। मैनूं इस गल्ल दा माण है कि उस ने मैनूं इस लड़ी विच शामल कीता होइआ सी।
-गुलज़ार सिंघ संधू
कुलवंत सिंघ विरक दी पंजाबी कहाणी नूं विलक्खण देण है। उहदीआं कहाणीआं पंजाबी जीवन ते सभ्भिआचार दे मूल तत्थ ते पक्ख उघाड़दीआं हन। इह मूल तत्थ ते पक्ख विशेश करके पेंडू माहौल दे संदरभ विच उघ्घड़दे हन, भावें विरक ने शहिरी वातावरण नूं आपणी लेखणी दी पकड़ विच लिआंदा है। 
वैसे तां पेंडू जीवन बारे पंजाबी दे बहुत कहाणीकारां ने लिखिआ है, पर विरक दी कलम ने इस जीवन नूं बुद्धीजीवी पिछोकड़ नाल रंगिआ है, जो होर बहुते कहाणीकार नहीं कर सके। किसे इक्क समाजक ते आरथक सथिती दी हूबहू तसवीर जां नकशा खिच्च देणा होर गल्ल है, पर उस माहौल नूं डूंघे भाव-अरथ देणे होर गल्ल। इह भाव-अरथ करते दी विदविता, तजरबे, निशचे, फिलासफ़ी ते उहदे आदरशां ‘ते निरभर हुंदे हन।
विरक ने बेशक्क कोई ख़ास फिलासफ़ी जां राजनीतक नज़रीआ नहीं अपणाइआ, पर उहदा निज्जी तजरबा ते उहदे विचारां दी डूंघाई हैरानीजनक सी, विरक फ़ौज विच वी रिहा सी। जिहनूं चाह ते उतेजना होवे, उह सैनिक जीवन विचों बहुत कुझ ग्रहिण कर सकदा है। इस जीवन विच हर पक्खों तीबरता दा इनतहा सामरतख़ साहमणे आउंदा है। लड़ाई ते मौत दे परछावें विच दिन बिताणे आसान नहीं हुंदे। खुशी-ग़मी, नफ़रत, पिआर ते होर सभ मनुक्खी वलवलिआं ते तरंगां बड़ी शिद्दत नाल हंढाईआं जांदीआं हन। प्रतक्ख रूप विच नहीं, पर विरक दीआं लिखतां विच इस विशाल अनुभव दी तरजमानी है। 
विरक दा सुभाअ विकोलित्रा सी, उह आपणीआं लिखतां बारे बहुती गल्ल नहीं सी करदा, उन्हां बारे फड़ मारनी जां उन्हां दा विशलेशण करना कित्थे रिहा।
उहदी लिखत ते उहदी शख़सीअत बारे अजे बड़ा कुझ लिखिआ जाणा चाहीदा है। उमीद है विरक यादगार कमेटी एधर वी धिआन देवेगी।
-नरिंदर पाल सिंघ
‘सतिकारयोग सरदार कुलवंत सिंघ जी विरक अजिहे प्रतिभाशील आधुनिक कहाणीकार सन कि उन्हां दी साहितक किरत किसे वी वरतमान युग्ग दी अते किसे वी देश दी साहितक किरत दे मुकाबले ‘ते पेश कीती जा सकदी है। उन्हां दी मौलिकता अमर रहेगी।’
-प्रीतम सिंघ सफ़ीर
कुलवंत विरक होरीं आपणी ज़िंदगी विच वी उने ही सहिज, सुहिरद, साफ़गो ते शफ़ाफ़ सन, जिन्ने आपणी कथा-रचना विच। कोई विंग-वलेवां ना उन्हां दे तन विच सी ते ना ही मन विच।
विरक होरां दीआं कहाणीआं दे प्रमाणिक होण दा राज उन्हां दे सुत्ते-सिद्ध कला-कौशल तों बिनां बुनिआदी तौर ‘ते इस नुकते विच हन कि उह अनुभव दी जिस ज़मीन विचों उदे हुंदीआं हन, उह विरक ते उहदे पातरां लई किताई ओपरी नहीं, सगों उन्हां दी नहुं-नहुं आपणी ते पोटा-पोटा गाही होई है। इसे करके आपणी कहाणी पाउण लग्गिआं विरक दा उने ही आतम-विशवास ते उमाह नाल पैर उट्ठदा है, जिन्ना उहदी ‘ओपरी धरती’ दे हज़ारा सिंघ दा आपणे ‘टप्पे’ विच।
-साधू सिंघ
जे पंजाबी साहित नूं कुझ थंम्हां ‘ते उसरी इमारत नाल तुलना देणी होवे तां निरसंकोच किहा जा सकदा है कि कुलवंत सिंघ विरक पंजाबी कहाणी दा इक्क अति मज़बूत थंम्ह है, निवेकली मीनाकारी नाल सुसज्जित। उस ने आपणीआं कहाणीआं विच परिवरतनशील पंजाबी मानसिकता दे विभिन्न पक्खां नूं चित्त्रत कीता ते इस दी डूंघी पछाण करवाई है। पर उस दी गलप रचना दा खेतर केवल पंजाबी मानसिकता तक्क ही सीमत नहीं, सगों हर प्रकार दीआं सीमावां तों पार जा के मनुक्खी दिलां दी थाह पाउण तक्क फैलिआ होइआ है। आपणे खित्ते दे सभ्भिआचार दी गल्ल करदिआं इस नूं पूरी मनुक्खता दे सरोकारां नाल जोड़ देणा ही उचेरी प्रतिभा दा प्रमाण है अते कुलवंत सिंघ विरक निरसंदेह पंजाबी दा उचेरी प्रतिभा वाला महान लेखक है।
उह पूरन रूप विच ते असल अरथां विच कहाणीकार है। उस दीआं कहाणीआं तों अजिहे लेखक दी प्रतिभा झलकदी है, जिहड़ा मनुक्खी ज़िंदगी दे अरथां नूं उन्हां दे समाजक संदरभां विच समझाउण लई रचनाशील रिहा है। उस दी तुलना मोपासां, ओ। हैनरी ते चैख़व नाल करन विच मैनूं कोई झिजक महिसूस नहीं हो रही। विरक पंजाबी कहाणी साहित ते सभ्भिआचार दा माण है।
-हरभजन हलवारवी
कुलवंत सिंघ विरक कोल बैठ के उस दीआं गल्लां सुणनीआं इक्क वडमुल्ला अनुभव हुंदा सी। उह इक्को समें बहुत दिलचसप, प्रमाणिक, संखेप ते मौलिक गल्ल करन दे समरथ सी। उस ने ज़िंदगी नूं, किताबां नूं ते आपणे अनुभवां नूं रला के कशीद कीता होइआ सी, इसे लई उस दीआं गल्लां दा इक्क कतरा ही मनुक्ख नूं रौशन करन लई काफ़ी हुंदा सी।
कुलवंत सिंघ विरक दीआं कहाणीआं नूं मैं वार-वार पड़्हिआ है। उस दे अनेकां वाक, तुलनावां ते उपमावां मैनूं शेअरां वांग याद हन। उह पहिले दरजे दा कहाणीकार सी-पर किते बहुते गहिरे, बहुत गहिरे, बहुत ही गहिरे, उह शाइर वी सी। उस दी कहाणी, ‘किन्नी नेड़े किन्नी दूर’, ‘सागर ते निरमला’, ‘गल्लां’ ते ‘टूणा’ पड़्ह के मैनूं इह महिसूस होइआ।
उह बहुत निग्गर, सुच्चा ते खोट-रहित सी, आपणी रचना ते जीवन विच वी। उस दे मसतक दा तेज़ चानण बहुत छेती खोट ते असल नूं निखेड़ लैंदा सी। पर उस दी सुहबत ते सिरजणा विच सिरफ़ चानण ही नहीं, निघ्घ वी सी।
-सुरजीत पातर
कुलवंत सिंघ विरक दा मेरे पास आउणा-जाणा आम रहिंदा सी। अकसर आ के चुप्प-चुपीते मेरे पास खब्बे पासे पए सोफ़े ‘ते बैठ जांदे। इक्क दिन कहिण लग्गे, स। जीवन सिंघ इह वेखो किन्ने लोक लंगड़े पैर घसीटदे तुरदे-फिरदे ने। इन्हां बाबत मेरा सहुरा साहिब डा। करम सिंघ गरेवाल किहा करदे सन कि वेले सिर इन्हां लोकां दा इलाज हुंदा तां अप्रेशन पिच्छों इन्हां ने नरोआ जीवन बताउणा सी ते नच्चदे-टप्पदे फिरना सी।
इस तों बाअद अचानक उट्ठ खलोते ते तुर पए। मैं कई वार सोचदा हां कि विरक हर इक्क कहाणी बाबत सबूत ते हर इक्क कहाणी नूं रोग मुकत रिशट-पुशट रक्खदा सी। किसे कहाणी विच कोई विंग-टेढ नहीं सी हुंदा। पूरन कलातमकता दा सरूप सन। जिवें फुरने वांग उट्ठ के चले जांदे सन अते मुलाकाती संभावनावां बारे सोचदा रहिंदा सी। इन-बिन विरक दी हर इक्क कहाणी अचानक सुणन ‘ते नवें कवाड़ खोल्हदीआं संभावनावां सुझांदी है। 
विरक दी कहाणीकार वजों वड्डी विशेशता उसदा सफ़ल पातर चितरण है। उस दा बचपन बार दे विरकां दीआं पत्तीआं विच बीतिआ सी अते विरक ने सिआणी उमर दा हो के वी आपणी जगिआसू बाल रीझ नूं बरकरार रख्खिआ।
इस दा सदका उस ने खुल्ल्ह दिले सुभाअ वाले लड़ाकू बिरती वाले अते जद्द नूं ज़िद्द वांग निभाउण वाले पातर चितरे।
सेखों दी कहाणी ‘पेमी दे निआणे’ इक्क अमर रचना है। टैगोर दे काबली वाला वांग इन्न-बिन्न विरक दीआं कहाणीआं चाचा, दुद्ध दा छप्पड़, तूड़ी दी पंड, खब्बल आदि अमर कहाणीआं हन, जिवें कि पंजाब दे जिऊंदे-जागदे लोक हन। दलेर, दुबंग, दरिआ दिल , रौशन अक्खां वाले ते सिदकी। 
जदों विरक बादल साहिब दे प्रैस्स सकत्तर सन तां उन्हां नूं अकसर सरकारी पबलीसिटी लई संचार समग्गरी दी लोड़ रहिंदी सी। उह अकसर टैलीफ़ोन ‘ते मेरे कोलों जाणकारी प्रापत करदे सन। इक्क वार मैं उन्हां नूं आखिआ, तुसीं महान कोश अते दो-चार रैफ़रैंसबुकस रक्ख लवो, पर उन्हां आखिआ, जीवन सिंघ तूं मेरा डंग टपा देणा है। मैनूं किसे कोश दी लोड़ नहीं। इक्क वार जदों उह मैनूं चंडीगड़्ह मिले तां कहिण लग्गे, आ तैनूं बादल साहिब नूं मिला दिआं। बादल साहिब पास जा के विरक कहिण लग्गा कि इह स। जीवन सिंघ लाहौर बुक्क शाप वाले हन। मैं जदों वी चाहुंदा सी तां टैलीफ़ोन राहीं सारी जाणकारी लै लैंदा सां। मैं अवाक विरक वल्ल देख रिहा सी किन्ना ख़रा बंदा सी, निहकलंक, सच्चा ते सुच्चा , विशाल हिरदे वाला।
-जीवन सिंघ
पंजाबी सुभाअ, बोली, मुहावरा अते समुच्ची पंजाबीअत दा माण स। कुलवंत सिंघ विरक 1987 विच पंजाबी कहाणी दे सनेहीआं तों बांह छुडा अछोपले जिहे तुर गिआ। स। कुलवंत सिंघ विरक दी पारख़ू नज़र सदा आपणीआं कहाणीआं लई उन्हां मौकिआं दी भाल विच रही, जो साडी सभ्भिअता दीआं नवीआं रुचीआं दे लखाइक हन। पिंड दा जंमपल होण करके उस ने पेंडू सभ्भिआचार दा डूंघा ते भरपूर चितरण कीता। पेंडू जीवन दीआं थुड़्हां दे नाल-नाल पेंडू सुभाअ विच सहिजे-सहिजे आ रही तबदीली प्रती पेंडू पातरां दे प्रतीकरम नूं उघाड़न दा यतन कीता। विरक साधारन ते निक्कीआं-निक्कीआं गल्लां विचों मतलब दी गल्ल कढ्ढण वाला, निरे जज़बातीपुणे तों कोरा, अतिकथनी तों परे, यथारथ दी दुनीआ विच विचरन वाला, सुभावक अते सरफ़े नाल गल्लां करन वाला कलाकार सी। स। संत सिंघ सेखों दी तर्हां भावें उह किसे चिंतन नाल बझ्झिआ होइआ नहीं सी, पर इक्क मानववादी लेखक सी, जिस ने थुड़े होए ते दुखिअरे लोकां बारे कहाणीआं लिखीआं। मानवी समस्सिआवां नूं लै के समाजक बेइनसाफ़ीआं दा ज़िकर करदीआं उस दीआं निक्कीआं कहाणीआं निघ्घे मनुक्खी दरद नाल लबरेज़ पच्छमी ते पंजाबी हुनरी कहाणी विच पुल बण के मनुक्ख नूं वधेरे सभ्भिअ बणन लई प्रेरदीआं हन।
-प्रो। देविंदर कौर
स। कुलवंत सिंघ विरक मेरे साथी ही नहीं, मेरे मित्तर वी सन। नां दे ही मित्तर नहीं, सही अरथां विच मित्तर सन। इक्क-दूजे दे दुक्ख-सुक्ख दे भाईवाल अड़े-थुड़े वेले इक्क-दूजे दी सहाइता करन वाले। सवरगी हमदरद जी दा इक्क शेअर है:-
फ़रिशते दा रुतबा वी उच्चा सही पर
फ़रिशते तों उचै मुकाम आदमी दा।
इह शेअर विरक साहिब ‘ते पूरा ढुकदा है। मेरा इह मत्त है कि जिहड़ा चंगा मनुक्ख नहीं, उह चंगा लेखक वी नहीं बण सकदा। इह वक्खरी गल्ल है कि किसे दूजे दे आसरे कई साहितकारां ने इस कथन दी उलंघणा वी कीती है, पर अंत उन्हां दा पाज खुल्ल्ह गिआ।
विरक इक्क वधीआ मनुक्ख पहिलां सी अते वधीआ कहाणीकार बाअद विच। उह पूरे पंज साल भारत सरकार दे पत्तर सूचना दफ़तर जलंधर विच मेरे नाल रहे। इस समें दीआं कई मिट्ठीआं यादां दिमाग़ विच अजे वी ताज़ा हन। 
पी।ए।पी। लाईनज़ जलंधर दे लागे शहिर वल्ल दे पासे अजे वी चार-पंज इकट्ठीआं कोठीआं हन, जिन्हां विच अंबां दे दरख़त लग्गे होए हन। इन्हां विचों ही इक्क कोठी विरक ने नवीं किराए ‘ते लई सी। कमरे ता थोड़्हे सन, पर दुसहिरी अंबां दे दरख़त काफ़ी सन। मौसम आउण ‘ते इह दरख़त अंबां नाल लद्दे जांदे सन। अंब वी मिशरी वरगे मिट्ठे सन जां इउं कहि लओ कि इन्हां विच विरक दी शख़सीअत वरगी मिठास। जिवें बच्चिआं नूं टाफ़ीआं दा लालच पै जांदा है, उवें ही सानूं वी इन्हां अंबां दा सवाद पै गिआ सी। असीं रोज़ ही छुट्टी होण ‘ते विरक दे बिन-बुलाए महिमान बण जांदे। कोठी विच काफ़ी जग्हा खाली पई सी। इक्क दिन विरक कहिण लग्गा, ”मैं इत्थे गां, मझ्झ तां नहीं रक्ख सकदा, हां मुरगीख़ाना ज़रूर खोल्ह सकदा हां।” फेर उन्हां ने मैनूं किहा, यार तूं खुड्डा ही बणवा दईं। मेरे गुआंढ विच इक्क मिसतरी रहिंदा सी, इस लई मैं हां कर दित्ती। विरक ने मैनूं 100/- रुपए दा नोट दित्ता अते वद्ध-घट्ट दा वाअदा कर लिआ। मैं गुआंढी मिसतरी नूं सद्द के 100/- रुपए ऐडवांस दे दित्ता अते विरक दे दस्से साईज़ अनुसार खुड्डा बणवाउण लई कहि दित्ता। इह मिसतरी कारीगर तां वधीआ सी, पर सी अमली।
मिसतरी ने रुपए फड़ लए अते इक्क हफ़ते विच खुड्डा बणाउण दा वाअदा कीता। इह हफ़ता लंघ जाण तों बाअद जदों मैं उस नूं खुड्डे बारे पुछ्छिआ तां उस ने कंम दे होर होण दा बहाना कीता अते इक्क हफ़ता होर मंग लिआ। इक्क होर हफ़ता वी लंघ गिआ। फेर जदों मैं पुछ्छिआ तां उस ने फेर टाल दित्ता। इउं पूरा इक्क महीना लंघ गिआ। विरक वी काहला पिआ होइआ सी। मेरा वी दुसहिरी अंबां दा नुकसान हो रिहा सी, किउं जो खुड्डा ना मिलण करके जवाब तलबी दे डर तों मेरा वी उस कोठी जाणा रुक गिआ सी। मैं इस दौरान कई वार मिसतरी दे घर दे चक्कर मार चुक्का सां, पर उह नहीं सी मिलिआ ते फेर पूरा इक्क महीना लंघ गिआ। खुड्डा फिर वी ना बणिआ। इक्क दिन मिसतरी मैनूं राह विच मिल गिआ। उह नशे विच धुत्त सी। मैं उस नूं उसे तर्हां ही फड़ के उस दे घर उस दी जनानी कोल लै गिआ। उस दी पतनी विचारी तां पहिलां ही दुखी सी। उह की करदी, उस ने हत्थ जोड़ के मैनूं किहा, ‘भरा जी तुसीं इस दा खहिड़ा छड्डो। इस ने ना खुड्डा बणाउणा सी ते ना ही बणा के देणा है। तुसीं किसे होर तों बणवा लओ। तुहाडे पैसे मेरे सिर ‘ते करज़ा रिहा। मैं इह छेती ही चुका दिआंगी। तुहाडी बड़ी मिहरबानी होवेगी।” ”मैं की करदा? चुप्प करके मुड़ आइआ ते फेर मैं किसे होर तों खुड्डा बणवा के जदों विरक दी कोठी ‘ते गिआ तां उह बाहर ही सिर ‘ते मुट्ठ कु वाळां दा जूड़ा बन्न्ही नंगे सिर कुरसी ‘ते बैठा सी। खुड्डा वेख के हस्स पिआ ते कहिण लग्गा, ”मैनूं पता सी अज्ज तूं आवेंगा। इह वेख मैं तेरे लई हुणे ई पाणी दी बालटी विच अंब पा के रक्खे हन। ते फिर जदों मैं उस नूं खुड्डे दी सारी गाथा सुणाई तां उह हस्स-हस्स के दोहरा हो गिआ अते फेर उह विअंग नाल कहिण लग्गा। ‘पैसे मेरे ते जनानी तेरी अहिसानमंद, तूं चंगा दोसत एं। हुण तक्क तां मुरगीआं ने खुड्डे दी कीमत तों वी वद्ध दे आंडे ही दे देणे सन।
अजिहा मिलापड़ा, हस्समुख, वैर विरोध तों दूर दोसत भावें सरीरक तौर ‘ते साथों विछड़ चुक्का है, पर उस दीआं कहाणीआं ने उस नूं पंजाबी साहित विच अमर बणा दित्ता है।”
-अजीत सैणी
कुलवंत सिंघ विरक नूं इक्क प्रमुक्ख कहाणीकार वजों तां सारे पंजाबी जाणदे सन, पर बहुत घट्ट लोकां नूं पता है कि उह इक्क सफ़ल लोक संपरक अधिकारी अते पत्तरकार वी सी। डा। महिंदर सिंघ रंधावा जदों पंजाब ऐगरीकलचरल यूनीवरसिटी दे उप कुलपती सन तां उन्हां विरक नूं यूनीवरसिटी विच जाइंट डाइरैकटर संचार अते सूचना नियुकत कीता। इस अहुदे ‘ते उह 1970 तों 1983 तक्क रहे। विचों कुझ समें लई प्रकाश सिंघ बादल दे प्रैस्स सकत्तर वजों कंम कीता। खेती साहित नूं लोकां ‘च हरमन पिआरा बणाउण विच उन्हां दा वड्डा हत्थ है। उन्हां ने इत्थों दे संचार केंदर दी रूप-रेखा तिआर कीती, जिहड़ा कि सारे विकासशील देशां विचों सभ तों वधीआ कंम कर रिहा है। इत्थों दी नौकरी उस ने बड़ी शान अते मड़क नाल कीती। इक्क तां उस नूं आपणे-आप ‘ते भरोसा सी। दूजे पिट्ठ पिच्छे डा। रंधावा दा हत्थ होण करके उस बिनां किसे दी प्रवाह कीतिआं जो उस नूं चंगा लग्गा, उहीओ कीता।
जिवें उह आपणी कहाणी विच कोई फालतू गल्ल नहीं करदा, इसे तर्हां उह आपणी गल्लबात अते लिखत विच वी बहुत संखेप सी। उह बहुत घट्ट बोलदा सी, पर जदों बोलदा सी तां ठोस अते दो हरफ़ी गल्ल करदा सी। उह आपणी सटाफ़ मीटिंग कुझ मिंटां विच ही पूरी कर लैंदा सी, जदों कि दूजीआं मीटिंगां कई घंटे चल्लदीआं रहिंदीआं हन। उस नूं पंजाबी अते अंगरेज़ी दोवां भाशावां विच मुहारत हासल सी। उह विगिआनीआं दीआं लिखीआं लंबीआं रिपोरटां नूं कट्ट के इक्क पन्ने विच सारा कुझ बिआन कर दिंदा सी।
यूनीवरसिटी विच उह बहुत घट्ट बंदिआं नाल मिलदा-गिलदा सी, पर लेखकां लई उस दे दरवाज़े हमेशा खुल्ल्हे रहिंदे सन। जिहड़ा लेखक उस नूं पसंद होवे, उस दी आओ भगत वी ख़ूब करदा सी, कई वार दारू वी पिआ दिंदा सी। इक्क वार जे कोई उस नूं पसंद आ जावे, फिर उस दे बहुत नेड़े आ जांदा सी। उह दुनीआदारी तों दूर भज्जदा सी अते आपणे-आप विच मसत रहिंदा सी। भावें उस नूं यूनीवरसिटी तों कार मिली होई सी, पर उह दफ़तर हमेशा पैदल आउंदा सी। जदों उह दफ़तर तों कई किलोमीटर दूर हाऊसिंग बोरड दी कालोनी विच रहिंदा सी, उदों वी पैदल ही आउंदा सी। उस ने आपणे राह वी निवेकले ही लभ्भे होए सन। सड़को-सड़क तुरनों वी संकोच करदा सी। मैं उदों पड़्हाई ख़तम करके नवां-नवां नौकरी लग्गा सी। रंधावा जी विदिआरथी जीवन विच ही मेरे चंगे जाणू हो गए सन। जदों उह लुधिआणे हुंदे तां शाम दी सैर लई कई वार मैनूं बुला लैंदे। उत्थे ही विरक साहिब नाल मुलाकात होई। रंधाावा साहिब दी सैर बड़ी लंबी हुंदी सी। विरक ने मैनूं किसानां लई लिखण वल्ल प्रेरिआ।
उह बहुत घट्ट किसे होर साथी दे दफ़तर जांदा सी। रंधावा साहिब कोल जां आपणे दफ़तर जदों कदे-कदाईं उह मेरे कोल आ जांदे तां मेरे लई इह बड़े माण दी गल्ल हुंदी सी कि पंजाबी दा इक्क महान लेखक मैनूं मिलण आउंदा है। कुझ समें पिच्छों मैं पी।ऐच्च।डी। करन लई छुट्टी लै लई अते होसटल विच रहिण लग्गा। इक्क दिन उह मैनूं लभ्भदे होसटल आ पुज्जे। मेरे लई इह हैरानी अते खुशी दी गल्ल सी। उह आखण लग्गा, ‘रणजीत मैं इकल्ला नहीं आइआ, मेरे नाल दो होर महिमान हन ते उस ने पिच्छे खड़्हीआं दो फ़ैशनदार औरतां नूं बुला लिआ। होसटल दे कमरे विच कुरसी वी इक्को मैं बड़ी जको-तको विच पै गिआ। उदों तक्क मैं नाल दे कमरे विचों इक्क होर कुरसी लै आइआ।’ आखण लग्गे, ‘इह अजीत कौर है ते नाल इन्हां दी धी अरपना सिंघ। मेरे लई खुशी दी गल्ल वी सी ते हैरानी दी वी।’ मेरी जाण-पछाण करवांदिआं आखिआ, ”अजीत इह रणजीत सिंघ है खेती सबंधी इस तों वधीआ कोई नहीं लिख सकदा।” अजीत कौर ने आखिआ, ”मैं इक्क हफ़तावार मैगज़ीन ‘नवां पिंड’ शुरू कीता है, मैं चाहुंदी हां कि तुसीं इस लई लिखो।” अजीत कौर अते विरक आप चल्ल के मेरे कोल आउण, इस तों वड्डी गल्ल होर की हो सकदी है। मैं ‘नवां पिंड’ लई बहुत लिखिआ। पिच्छों उह परचा बंद हो गिआ।
उह हर लिखत नूं बड़ी बरीकी नाल घोख़दा सी अते निग्गर सुझाअ दिंदा सी। उस यूनीवरसिटी दे किसानां लई छपण वालीआं किताबां दा मूंह-मत्था सवारिआ। अंगरेज़ी तों चंगे विअकतीआं पासों पंजाबी विच उन्हां दा अनुवाद करवाइआ। वधीआ छपाई नवयुग्ग प्रैस्स तों करवाई, जिस सदका किसानां विच पड़्हन दी रुची वधी। असीं किसानां लई डाक राहीं सिख्खिआ कोरस शुरू कीते। इक्क कोरस किसान सुआणीआं लई वी शुरू कीता। उन्हां साडीआं तिआर कीतीआं पाठ लड़ीआं पड़्हीआं। उन्हां किहा, रणजीत मैं चाहुंदा हां कि असीं इन्हां नूं संचार केंदर वल्लों यूनीवरसिटी बुलिटन दे रूप विच छापीए। पर उस दी ख़ाहिश पूरी ना हो सकी, किउंकि डाक राहीं सिख्खिआ दा मंतव कुझ होर सी। पर जदों वी उस पंजाबी विच कोई विशेश किताबड़ी छापणी हुंदी तां उस दी संपादना दा मेरे नाम हुकम जारी करवा दिंदा। किसान औरतां दे कोरस दा नां असीं किसान सुआणीआं लई कोरस रख्खिआ। उह आप चल्ल के मेरे कोल आए अते आखण लग्गे, बई ‘सुआणीआं’ शबद ठीक नहीं है, तुसीं किसान बीबीआं लिखो। उदों तों असीं किसान बीबीआं शबद दी वरतों शुरू कर दित्ती। 
इक्क सफ़ल कहाणीकार वजों उस नूं आपणे-आप ‘ते बहुत माण सी। उस दा आखणा सी, ”नौकरी तां मैं रोटी लई करदा हां। इस लई कई वार मैं हालात नाल समझौता वी कर लैंदा हां, पर बतौर लेखक मैं कदे समझौता नहीं कर सकदा।” इक्क वार बालग सिख्खिआ प्रोगराम अधीन मैं ते कशमीरी लाल ज़ाकिर ने लेखकां दी इक्क वरकशाप कीती। असीं विरक नूं उदघाटन समारोह विच आउण दा सद्दा दित्ता। असल विच असीं उदघाटन ही उस तों कराउणा सी। उह ना आइआ। मैं टैलीफ़ोन ‘ते गिला कीता तां उस किहा, ”बुरा ना मनाईं, मैं बतौर जाइंट डाइरैकटर आ सकदा सां, पर बतौर लेखक जित्थे मेरा मन ना मन्ने, मैं कदे नहीं जांदा।”
उस नूं पेंडू जीवन बारे डाढी जाणकारी सी। असल विच उह शहिरी जीवन अनुसार आपणे-आप नूं ढाल ही नहीं सके। पेंडू जीवन दी जाणकारी सदका उस ने डा। रंधावा दी पेंडू जीवन दा अजाइब घर बणाउण विच बड़ी सहाइता कीती। विरक मसत अते बेप्रवाह सी। उह खुल्ल्हा ख़रच करदा सी अते कदे कोई हिसाब-किताब नहीं सी रक्खदा। जदों उस दा हत्थ तंग हुंदा तां उह आपणे वड्डे भरा नूं चिट्ठी लिख दिंदा। उस दा वड्डा भरा उस नाल इन्ना पिआर करदा सी कि उह मंगे होइआं पैसिआं तों वी वद्ध रकम लै के हाज़र हो जांदा। उह हर किसे ‘ते विशवास कर लैंदा सी। कईआं ने इस दा नाजाइज़ फ़ाइदा वी उठाइआ, पर उस कदे प्रवाह नहीं कीती। उस आपणे सटैनो नूं खाली चैक्क बुक्क दसतख़त करके दित्ती होई सी ते कदे उस तों हिसाब नहीं मंगिआ। उह यारां दा यार सी। मनुक्ख दी परख़ कर सकदा सी। उह बहुत घट्ट लोकां दे नेड़े होइआ, पर जिन्हां दे नेड़े होइआ तां रिशतिआं नूं तोड़ निभाइआ। उस दी तमन्ना सी कि आपणे पेंडू जीवन बारे नावल लिखे। उह जदों वी मिलदा, मैं इहो पुच्छदा, ‘नावल शुरू हो गिआ? तां उह आखदा, ‘बस शुरू होण ही वाला है।’
-डा। रणजीत सिंघ
पंजाबी कहाणी विच कुलवंत सिंघ विरक दा सथान असलों ही निवेकला है। उस दी बोली, उस दे पातर, उस दी सोचधारा, उस दे आपणे लोकां नाल असलों ही नेड़िओं जुड़े होण दे प्रतीक हन। कहाणी कला विच उस दी गोंद कमाल दी है-इह सभ ते होर किन्ना कुझ उस निघ्घे, सादा दिल इनसान बारे होर लोक लिखणगे, जिहड़े मेरे नालों इस खेतर विच अगेत रक्खदे हन।
अज्ज जदों लाइलपुर खालसा कालज दे पंजाबी विभाग दे उद्दम नाल मां बोली नूं विरक दी देण दा असीं थोड़्हा कु रिण चुका रहे हां, मैं उस बारे की लिखां? उहो, जिस दा सिरफ़ मैनूं पता है।
गल्लां तां बहुत हन, पर सिरफ़ इक्क गल्ल दा ज़िकर करांगा। उदर-पूरना लई विरक ने कई नौकरीआं बदलीआं ते कई अहिम ज़िंमेवारीआं पूरी सुचज्जता नाल निभाईआं। हर दौर विच उस नाल मेल हुंदा रिहा। पर इह गल्ल पंजाहविआं दे पिछले अद्ध दे उन्हां दिनां दी है, जिन्हां दिनां विच उह जलंधर दे प्रैस्स इनफरमेशन बिऊरो दा डिपटी अफ़सर हुंदा सी अते पंजाबी अख़बारां ‘ते निगाहबानी रक्खणी उस दे ज़िंमे सी। 
मैं उन्हीं दिनीं ‘नवां ज़माना’ दा संपादकी नितनेम वांग लिखदा सां अते इह छपदा वी मेरे नां हेठ सी। कदे-कदाईं लोर नाल लिखदा तां रंग चोख़ा चड़्ह जांदा। उस दिन विरक फ़ोन ज़रूर करदा। इक्क दिन आखण लग्गा, ”दलील विच तां बहुत ज़ोर है, पर डाढे नूं ढाडा लिखिआं इह वध तां नहीं जांदा।”
मैनूं मां बोली दे शबद भंडार ‘ते गथ दा वी चोख़ा माण सी अते हिजिआं दे मामले विच वी सोहण सिंघ जोश दा चंडिआ होइआ सां। इस भुल्ल नाल जिहड़ी मेरे चेते विच आउंदी, इक्को-इक्क भुल्ल है, भौंचक के रहि गिआ। मैं आखिआ, ”विरक तूं बड़ी ही नीझ ला के पड़्हदा एं, मैं फड़िआ गिआ।”
उस दा उत्तर सी, ”हिजिआं नूं ही नहीं भावां नूं वी ते उठाण नूं वी। तैनूं इक्क गल्ल दस्सां-तेरी सिआसी लिखत विच साहितक रंग है। जे जुगाली करनी सिक्ख जाए तां तूं चंगा कहाणीकार बण सकदा एं!”
”मैं ते कहाणीकार?” मैनूं उस दी गल्ल बड़ी अलोकार लग्गी सी।
”हां, तेरे संपादकी कदे-कदे छोहले-पैरीं लिखिआ साहित हो निब्बड़दे हन। पर साहित रचना दा पत्तरकारी नालों वड्डा भेद ई इह है कि तूं वापरी घटना दा प्रतीकरम तुरत-फुरत उलीकणा हुंदा है ते कहाणीकार पहिलां गल्ल नूं अंदर लंघा लैंदे हन ते फेर हौली-हौली उस दी जुगाली करदे रहिंदे हन। पर तेरी भाजड़ भरी ज़िंदगी विच जुगाली दी विहल कित्थे?”
विरक दी गल्ल उस पल तां इक्क रीझ जिही मन दे चित्तर पट्ट ‘ते लिशका गई, पर प्रापती तों इह कोहां दूर जापदी सी।
फिर जदों ‘आरसी’ विच विरक दे आखे तों कोई तिन्न दहाके पिच्छों चेते दी चंगेर विचों कुझ फुल्ल भेट करने शुरू कीते अते सतिआरथी वरगे हंढे-परते पारख़ू नूं उन्हां विचों किसे साहितक परारोती दी झलक पई, विरक बहुत चेते आइआ।
पर उदों तां उह सरीरक रोग विरुद्ध घोल दे आख़री पड़ाअ विच पहुंच चुक्का सी, नहीं तां उस वल्लों प्रसंसा दी पाओ पहिलां आउणी सी। 
मुड़-मुड़ मन विच आउंदा है-विरक दी वेखण वाली अक्ख किन्नी बरीक सी। जे वेले सिर उस दी गल्ल ‘ते कन्न धरदा, किन्ना कुझ होर मां बोली दी झोली विच पा सकदा!
(6।2।1989)
-जगजीत सिंघ आनंद
कुलवंत सिंघ विरक इक्क सुहिरद मनुक्ख अते डूंघी मानवी सोच वाला चेतन्न कहाणीकार सी। उस ने जीवन दीआं बहुपरती ते बहुदिशावी विआखिआवां पेश करन वालीआं कहाणीआं दुआरा अजोके मनुक्ख दी होणी नूं उजागर कीता है। विरक ने आपणी मात भूमी नाल अति निकटवरती सांझ पा के पंजाबी विवहार नूं पूरी सुहिरदता, सुहज ते सत्त रूप विच प्रगट कीता है। उह हर वरग दे पाठक नूं संतुशट करदा है, किउंकि उह उन्हां दी आतमा दी गल्ल करदा है।
-रणधीर सिंघ चंद
कुलवंत सिंघ विरक इक्क इकल्ला अजिहा कहाणीकार है, जिस ने प्रगतीवाद दे झक्खड़ां विच खुल्ल्ह-दिले मानववाद दे आसरे मनोरथवाद तों निरलेप रहिण विच सफ़लता प्रापत कीती है। सेखों तों पिच्छों उस दी कहाणी विच साधारन मनुक्ख दी साधारनता इनकलाबी उपभावुकता जां मनोरथवाद तों बेलग प्रगट हुंदी रही है।

-डा। अतर सिंघ

Leave a Comment