कुलवंत सिंघ विरक(प्रेम प्रकाश खन्नवी)

कुलवंत सिंघ विरक कोई इहो जिहा ग्रंथ नहीं जीहदा टीका करना पवे जां वाक दे बाअद ‘अरथात’ लिखणा पवे। उह इक्क खुल्ल्ही किताब है, जीहदी शैली, इमला ते इबारत बहुत ही सादी है, जिवें लोक गीत। लोक गीत वी ‘अद्धी तेरी वी मुलाहजेदारा, अद्धी हां॥।’ वरगे, जिन्हां नूं तोल-माप पूरा करके, लिशका के माडरनाईज़ नहीं कीता गिआ।
जदों मैं इह नहीं पड़्ही सी, सिरफ़ सुणिआ सी कि विरक मझैल, फ़ौजी अफ़सर है ते उहदी कहाणी झट्ट बुझारत वांग है, जिवें उहदी ज़िंदगी दी रोटी ‘ते सुआद दा साग पा के विचकार गड्ड देवे, जिणस दी हरी मिरच ते कव्हे, ‘बुझ्झो भला की’?
संतोख सिंघ धीर तों कुझ गल्लां सुणन बाअद मेरे साहमणे थम्हले वरगा कुलवंत सिंघ विरक आ गिआ, जिहड़ा मझ्झां दीआं जंगां वरगे बोलां ‘च हर गल्ल बाअद कहि छड्डदा ‘छड्ड सू’-‘कर चा।’
कई साल पहिलां जदों विरक जलंधर आइआ सी, उन्हां दिनां विच साडा तिघड़ा (मैं, महिरम यार ते जसवंत सिंघ विरदी) साहितक हलकिआं विच मसत, झूमदा फिरदा हुंदा सी। इह उह दिन सन, जदों असीं हर लेखक नूं तली ‘ते रक्खदे, फूक मारदे ते उडा दिंदे। विरक वी एदां ही उडिआ, पर बहुता एस लई कि पिआरा सिंघ भोगल उहदा यार सी। 
उन्हां दिनां विच किसे साहितकार नाल साडा उलट-पेच पिआ होइआ सी। विरक नूं साडे सारे पेचां नाल दिलचसपी सी। इही दिलचसपी उहनूं साडे उलट पेचीआं दे नेड़े लै आई।
इक्क संघणी शाम कंपनी बाग विच भोगल दे बराबर कोई सफ़ैद दूधीए कप्पड़िआं वाला, हौळा जिहा, निक्कीआं-निक्कीआं अक्खां वाला आदमी आ बैठा सी। जिवें किल्ले ‘ते डंगर दी पछाण आ जांदी है, मैं झट्ट जाण गिआ। वेखदिआं ही मेरे ज़हिन विचों धीर दा बणाइआ होइआ मझैल उड गिआ।
उहने झगड़े बारे पुछ्छिआ तां साडीआं फड़ाके बाज़ ज़बानां तेज़ छुरीआं कैचीआं वांग सारे केस दा पोसटमारटम करन लग्ग पईआं। असीं आज़ाद कशमीर रेडीओ दे निंदकां वांग वारी-वारी फिकरे चुसत करदे रहे ते उहदीआं निक्कीआं-निक्कीआं अक्खां टटहिणे वांग जगदीआं-बुझदीआं रहीआं।
उहनूं बड़ा तरस आइआ, हस्स-हस्स दाद दित्ती। साडी कई सुर उस दे सुरां नाल इकसुर हो गए। फेर कई वारी उह सानूं ‘ऐवरैसट’ जां ‘पलाज़ा’ मिलदा। सानूं रसमी गल्लां तों सख़त नफ़रत है, असीं खिड़णा चाहुंदे सां, पर कोई अहिसास तेज़ी नाल परछावां पा देंदा, असीं कुमला जांदे। किन्ना ही चिर असीं कलाक दे लंगर वांग ‘तूं’, ‘तुसीं’ दे विचकार लमकदे रहे। हौली-हौली उहदी दोसती दा हत्थ दराज हुंदा गिआ ते असीं उहदी पकड़ ‘च आ गए।
इस दौरान असीं उहदीआं दो किताबां वी पड़्ह लईआं सन। कई कहाणीआं तां मेरी रूह नूं जिवें चंबड़ ही गईआं। पर जदों वी विरक मिलदा, असीं उहदी भैड़ी जिही कहाणी कुक्कड़ी दे खंभ खूंभहे खोह के गोशत दा लोधड़ा बणा के मेज़ ‘ते रक्ख के कहिंदे, ‘विरक साहिब, आ रही तुहाडी कहाणी।’ उस दीआं निक्कीआं-निक्कीआं अक्खां चिलक पैंदीआं ते हस्सदे-हस्सदे हत्थ साडे मोढिआं ‘ते आ बहिंदे, जिवें कहि रिहा होवे, ‘बस, मैनूं तुहाडे वरगे चाहीदे हन।’ कई वार असीं उहनूं पी।आई।बी। दे दफ़तर मिलण टुर जांदे। मैनूं सरकारी दफ़तरां तों बहुत डर लग्गदा है, जिवें मैं किसे ग़ैर मुलक विच आ गिआ होवां, जित्थों दे मैनूं आदाब नहीं आउंदे। दफ़तर, जित्थे हर बूहे अग्गे चपड़ासी, हर मेज़ ‘ते घंटी, जित्थे दिल-दिमाग़ ते अक्खां दी हरकतां ख़ास सुरताल ‘च हुंदी, पर विरक दा वतीरा आपणे मातहितां नाल बाहला ही निघ्घा ते आज़ादाना सी।
गल्लां दा सिलसिला वधिआ तां अचानकी असीं एनीआं गूड़्हीआं ते घुलीआं पीचीआं गल्लां ‘ते आ गए कि मैनूं आपणे खन्ने दे जट्टां, राईआं ते खटीकां दे मुंडे हसना, कौडा, जैला ते शंमू याद आउण लग्ग पैंदे। मैं महिसूस करदा, जिवें मैं उन्हां छड़िआं दी ही महिफ़ल ‘च बैठा हां, जित्थे मौलवी, जट्ट, बल्ले ते चौंदे दीआं बातां पै रहीआं होण। बिलकुल ओदां दी मासूमी, ओदां दी ही शरारत।
किन्ना ही चिर असीं पुराणे महमूदां ते अयाज़ां दे किस्से छेड़ी रक्खदे। परी-रुख़ गिलमां दीआं तसवीरां उभ्भरदीआं। इशक रकाबत ते वसल दा फलसफ़ा घटदा, पुराणे किस्सिआं दीआं तसवीरां ‘च रंगां कला वसतू ते कई द्रिशटीकोणां ‘ते विचार हुंदी। फिर आपणी विचार ‘ते आप ही हस्स छड्डदे।
मैं समझ गिआ कि विरक नूं मैं पड़्ह लिआ, पर जदों पिआरा सिंघ भोगल वरगे गिआनी गुरमुख टाइप आदमी दी वी उहदे नाल गूड़्ही वेखी तां मैं सोचदा, ‘या ख़ुदा, इह काअबे ‘च कुफ़र कित्थों?’ खिआल आउंदा कि विरक वी हवाई कुक्कड़ है, हिंदां ‘च हिंद-ज़ाहदां ‘च ज़ाहद, पर इह गुत्थी होर उलझ गई, जदों मैं उहनुं किसे उरदू अख़बारी दोसत नाल लाहौरनां ते भापणां दीआं गल्लां करदिआं सुणिआ। फेर किसे सिआसी खद्दरपोश जागीरदार नाल चमारीआं ते बाज़ीगरनीआं दे इशक किस्सिआं विच उलझिआ तक्किआ।
साडे नाल उहदी हर गल्ल दी नाभ औरत हुंदी। जे किते कोई गल्ल भटक जांदी तां ‘सवेर दी भुल्ली शाम घर आणा’ वांग मुड़ औरत ‘ते आ जांदी। जिवें औरत बिजली दा वड्डा सटेशन होवे, जित्थों हज़ारां ही तारां टुरदीआं, लक्खां ही कंम संवारदीआं ने, पर आख़री बटन वड्डे सटेशन हुंदा है।
जदों असीं दो आर दीआं दो पार दीआं ‘ते आउंदे तां भोगल ज़रूर साडी लपेट विच आ जांदा। विरक हर गल्ल ‘ते मुसकरा छड्डदा-रब्ब झूठ ना बुलावे उदों उह मैनूं बहुत वड्डा फराड लग्गदा। फेर कोई कहाणी जिही करके फलसफ़ा झाड़दा होइआ एनी तेज़ी नाल बोलदा कि जे मैं उस वेले लिखदा जां लिख सकदा तां सारिआं लफ़ज़ां दे सिर अगलिआं दे हेठां वड़ जांदे। मैं हस्स छड्डदा।
विरक हमेशा तेज़ बोलदा है, जिवें टेप रिकारड दा धागा अचानक ही कोई खिच्च लवे ते उहदे बोल घुल जिहे जावण, पर उहदीआं गल्लां घुलीआं नहीं हुंदीआं। उह उन्हां ‘ते मेकअप्प नहीं करदा ते ना ही फलसफ़े दे गेहूए ‘ते सूफ़ दे बाणे पाउंदा है। उहदा फ़ैसला भार तोलण वाली मशीन दे टिकट वांग घड़िच्च बाहर आ जांदा है। मेरीआं गल्लां दे जवाब उहने इंझ दित्ते।
‘साडा पुराणा साहित?-ग्रंथ साहिब-बस।’
‘लोक-गीत?-‘तेरी-मेरी नहीं निभणी’-की ऐ?’
‘सुआद तां बस तीवीं चिऐ?’
‘मेरी कहाणी किस नूं चंगी नहीं लग्गी, ना लग्गे, बाबे दा उह जाणे’ कई वार मैनूं उहदे अंदरले जट्ट तों बड़ा डर लग्गदा।
गल्लां करदिआं उहदा समझाउण दा आपणा तरीका है। उह पहिलां द्रिशटांत पेश करदा है। फेर पुराणे बुढ्ढिआं वांग ‘सो गल्ल है भाई’ कहिण तों पहिलां ही चुप्प हो के स्रोते वल्ल तक्कदा है। पिच्छे जिहे मैं इक्क विअंगातमक लेख ‘साहितक प्रदरशनी’ लिखण बारे सोच रिहा सां, जिहदे विच सारे लेखकां दे मुक्ख टरैंडज़ पेश करने सन। विरक बारे मैं लिखिआ सी-इक्क वड्डे साईनबोरड ‘ते लिखिआ होइआ है ‘हाव-भाव कारिआला’, विच किन्नीआं ही शीशीआं वालीआं अलमारीआं ने, चीर-फाड़ दे औज़ारां नाल भरीआं होईआं। कंधां ‘ते कई इनसानी ढांचिआं दे चित्तर लमक रहे ने। अग्गे इक्क वड्डा शो-केस पिआ है। उहदे विच इक्क मशीनी कुत्ता खड़्हा है, जीहदा जिसम पारदरशी है। उस दे अग्गे इक्क हड्डी पई है। शो-केस दे पिच्छे कुलवंत सिंघ विरक खड़्हा है। सफ़ैद दूधीए कप्पड़े पाई ते मोटे शीसिआं वाली मोटी ऐनक लाई। 
उह होरां वांग कोई घंटी नहीं वजाउंदा, कोई धुतू नहीं वरतदा। जदों जीअ करदा है, बटन दबा दिंदा है ते बिजली दे ज़ोर कुत्ते विच कई टिऊबां जगदीआं ने ते हरकत करन लग्ग पैंदा है। कुत्ता हड्डी चुक्कदा है-छड्डदा है, चुक्कदा है। उहदे मूंह विचों ख़ून वगदा है, जीभ कढ्ढदा है, चट्टदा है। विरक शीशे दे तीख़े नाल दस्सदा है, ‘इह दिलख है-इह हवासे खम्मसा है-इह हिस्से मुशत्रिक हन-आह देखो की होइआ? समझे? ते बटन आफ़ कर दित्ता।
इह इक्क द्रिशटांत है ते विचली गल्ल कुझ होर-ते गल्ल शाइद इतनी डूंघी, जिवें वड्डे सारे बोहल विच बल्हद दी टल्ली लुकी होवे। विरक एदां दे ही अलंकार वरतदा, जिहड़े मैनूं बहुत पिआरे लग्गदे। पर जदों किसान ज़िंदगी तों हट के कहिंदा तां मैं ते महिरम यार उस दे घटीआ अलंकार नूं उछालदे रहिंदे। उहदीआं निक्कीआं-निक्कीआं अक्खां विच बड़ी बेचारग़ी आ जांदी।
मैनूं उहदीआं निक्कीआं-निक्कीआं अक्खां बहुत पिआरीआं लग्गदीआं ने। उह घुटदीआं फैलदीआं मौसमी तबदीली दस्सण वाले यंतर वांग रंग बदलदीआं रहिंदीआं हन। मैं उह यंतर नहीं वेखिआ, पर जे कोई मनो-विगिआनी मनुक्खी जज़बिआं दा कोई यंतर बणावे ते मैथों उहदी बणतर बारे पुच्छे तां मैं उहनूं विरक दीआं अक्खां ज़रूर दिखावां ते यंतर दा नां रक्खां मिकिआस उल्ल जज़बात।
मैं उहदे मिकिआस उल्ल जज़बात ‘चों किन्ने ही सूख़म-सथूल, दैवी दानवी रंग उघड़दे-मिटदे तक्के। तुसीं किसे फराड लेखक जां खचरी कुड़ी दी गल्ल करो, उह सुंगड़ के हस्सणगीआं ते छलक पैणगीआं। तुसीं किसे समकाली दी सिफ़त करो, उह बुझीआं-बुझीआं कबरां बण जाणगीआं। तुसीं कोई साहितक मसला छेड़ो, उह टुभीआं मार-मार सिप्प लभ्भणगीआं ते सपाट फ़ैसला तहाडे अग्गे होवेगा। 2%2=4-2+2=4-जरब=जम्हा+हासल नूं मोटी सारी गाल्ह ते किस्सा पाक।
मैं उहनूं कदे कुचलींदी श्रेणी दे रोणे रोंदिआं नहीं सुणिआ। खिआल सी कि विरक नूं दुक्ख-दरद दा कोई अहिसास नहीं, पर जदों मैं उस दी कहाणी ‘धरती हेठला बौल्हद’ पड़्ही तां मेरी रूह कंब गई।
उह इनसानीअत दा उह किस्सा है, जिहदी लूईं हत्थ लग्गिआं ही कंडिआ जांदी है। उह चंगा, बुरा जो कुझ वी है, पिआरा है, जीहनूं हर बदलदी हवा दे रुख़ दा अहिसास है। उहदा सटिथोसकोप हर वकत इनसानीअत दे दिल ‘ते रहिंदा है ते हत्थ मनोविगिआन दीआं नबज़ां ‘ते।

Leave a Comment