विरक दी कहाणी कला प्रो। हरबंस सिंघ (पंजाबी यूनीवरसिटी, पटिआला)

आधुनिक कहाणी विशे वसतू वल्लों यथारथवादी है। इह प्रधान तौर ‘ते ‘मनुक्ख’, उस दीआं समस्सिआवां ते मुशकलां, उस दी जिंद दीआं भावनावां अते उस दीआं मानसक खिचोताणां नूं वरनण करदी है। इह मनुक्ख दे मन विच डूंघा गोता लाउंदी है। उस दे सुभाअ ते विहार-वतीरे दा अधिअन करदी है।
इक्क मज़मून, जिहड़ा पंजाबी कहाणीआं विच वार-वार उभ्भरदा है ते जिहड़ा पंजाबी लेखकां दी सिहतमंद द्रिशटी ते उसारू रुची दा लखाइक है, उह भिआनक तबाही है, जिहड़ी पंजाबीआं नूं देश वंड दे फलसरूप झल्लणी पई। वंड बारे विरक दीआं कहाणीआं पड़्ह के इह प्रभाव पैंदा है कि विरक उहो कुझ पूरे सति रूप विच कहि रिहा है, जो उस ने सच्चमुक्ख वापरदिआं देखिआ। उस नूं साडे देश दी वंड दा पूरा-पूरा अनुभव प्रापत है। इन्हां दिनां विच मनुक्ख दी रूह अते उस दे आले-दुआले विच जिहड़ी फिक, कुड़त्तण ते निरासता घुल गई सी, उस नूं पेश करन विच उस दी कहाणी ‘उलाहमा’ सभ तों वधीआ कहाणीआं विचों इक्क है। पर विरक नूं मनुक्ख दी सुहिरदता विच विशवास है। इसे करके पिंड दे मुसलमान लोक अजे वी बालक सिंघ नूं जो हुण शरनारथी बण के शरनारथी कैंपां विच आ चुक्का है, आपणा मित्तर अते आगू समझदे हन। आपणी बेमिसाल कहाणी ‘खब्बल’ विच विरक दुग्गल वांग ही मनुक्ख दी रूह दा ‘घोर तों घोर हालात विच आउण वाले चंगे दिनां बारे भरोसा’ पेश करदा है। जिवें खब्ब जड़्हां तों पुट्ट दिओ, फेर वी दूजे थां उग्ग आउंदा है, तिवें ही दुखांत ते घल्लूघारिआं विच मनुक्ख दीआं सुभावक उमंगां ते आसां मरदीआं नहीं, मुड़ फुट्टदीआं हन।
विरक नूं पातर उसारी दी बड़ी तिक्खी सोझी है। उह आपणे पातरां नूं सहिज सुभाअ जिउंदे-जागदे मनुक्ख बणा सकदा है। ‘आला सिंघ’, ‘चाचा’ ते ‘भोला नाथ’ पंजाबी गलप दे सदा जिउंदे रहिण वाले पातर हन। उन्हां दी पातर उसारी विच किन्नी निग्गरता, किन्नी जान है ते इह यथारथक जीवन दा किन्ना सही रूप हन। आला सिंघ विरक-टपे दा चंगा जब्हेदार ते कहिंदा-कहाउंदा बिरध है, जिस ने ज़िंदगी विच चंगा-चोख़ा खाधा हंढाइआ है ते आपणे दिन वाहवा लंघाए हन। उस ने बड़े कंम कीते हन, पिंड विच डाकख़ाना तक्क आपणे रसूख़ नाल खुल्ल्हवाइआ है। पर जदों अंतली उमर विच आधुनिक समाज दीआं गल्लां ते समस्सिआवां उहदे साहमणे आउंदीआं हन तां उहदी रूह बेचैन हो जांदी है। नवीं पीड़्ही उस दी धौळी दाड़्ही ते सिआणी उमर दे बावजूद उस दा उना आदर-सतिकार नहीं करदी, जो पहिली उमर विच हुंदा उह देख चुक्का सी। चोणां वरगे मामलिआं ‘ते उस दीआं रावां हासो-हीणी हद्द तक्क सिद्धीआं-सादीआं हन। ‘पिछलीवार मैंबर शेर की पत्ती दा चुणिआ गिआ सी, ऐतकीं साडा बंदा जावेगा।’ पर इह दलील नवीं पीड़्ही दे लोकां नूं प्रभावत नहीं करदी, जो राजनीतक ते आरथक प्रोगरामां अते ‘पारटी टिकटां’ नूं मुक्ख रक्ख के चोणां विच हुण भाग लैणा चाहुंदे हन। आज़ाद हिंद फ़ौजी ते दूजे की कहिंदे हन, उह नहीं समझदा। उह बड़ा हैरान है। पर उदों तक्क उस नूं आपणा आला-दुआला ते आपणी हालत समझ नहीं आउंदा, जदों तक्क कि उह इक्क बुढ्ढा ढग्गा नहीं देख लैंदा, जिहड़ा आपणी देह ‘ते आ बैठे इक्क कां नूं वी उडा देण जोगी समरत्था तों हीणा हो गिआ है।
चाचा इक्क होर बुढ्ढा है, जिस दा सारी उमर विआह नहीं हो सकिआ। विआह दा इक्क मौका, जो उस दी ज़िंदगी विच आइआ सी, उहदे हत्थों ऐवें निकल गिआ सी। चाचे नूं इह दलील बिलकुल जचदी नहीं सी कि हिंदुसतान विच औरतां-मरदां नालों घट्ट हन, इस लई कुझ बंदिआं नूं छड़ा रहिणा पवेगा। उंझ उह सदा फ़रज़ कीती रक्खदा है कि उस दा विआह हो चुक्का है। जदों उह मेले जांदा है तां उह आपणे ‘बच्चिआं’ लई खिडौणे ज़रूर खरीद लिआउंदा है। उह कहिंदा है कि मैं आपणी वहुटी नाल फलाणे थां गिआ सी अते आपणे सहुरे घर जा आउण बारे दोसतां नूं आपणे तजरबे पूरे जोश नाल दस्सदा है।
विरक दे चौथे कहाणी संग्रहि ‘दुद्ध दा छप्पड़’ दीआं कहाणीआं विच वधेरे बल ते वहा आ गिआ है ते उस दीआं कहाणीआं विच पहिले पड़ाअ ‘च जिहड़ा ‘सकैच्च’ होण दा कदे-कदे प्रभाव पैंदा सी, उह दोश हुण दूर हो गिआ है। विरक दी शैली, जिहड़ी सदा ही बड़ी तराशवी ते चुसत रही है, हुण बड़ी सरल हो गई है। ते उस दीआं सहिज भाअ वरनण कीतीआं सचाईआं अते साकार कीते पातर वधेरे उघ्घड़वें, टुंबणशील अते भावपूरत हो गए हन। 
उह भिन्न-भिन्न अवसथावां पैदा करके मनुक्खी सबंधां दा वरनण करदा है। नज़र आउंदीआं विरोधतावां अते उन्हां पिच्छे कंम कर रहे मनुक्खां नूं बहुत सपशट, पर सुभावक ते दिल खिच्चवें ढंग नाल पेश करदा है। मनुक्खां अते उन्हां दे अमलां बारे बहुत वधीआ टिप्पणीआं इन्हां कहाणीआं विचों तुसीं इकत्तर कर सकदे हो ते इह टिप्पणीआं दस्सदीआं हन कि लेखक मनुक्खी मन दीआं डूंघीआं तहिआं तक्क जाण दी योगता रक्खदा है ते बड़े बारीक तत्त (गइनइरउलसिउटोिन) कढ्ढ सकदा है।
पती-पतनी दे रिशते बारे विरक कहाणी लिखे तां आस रक्खो बड़ीआं संभावनावां हन, उह बड़ा कुझ कहि सकदा है। ‘प्रोफ़ैसर साहिब’ नां दी कहाणी विच, जिहड़ी कि अनजोड़ दंपती जीवन दी कहाणी है, पती-पतनी निगूणीआं जिहड़ीआं गल्लां ‘ते लड़दे हन। असल कारन सपशट है, पती दी बेइतबारी ते गल्ल-गल्ल ‘ते झगड़ा करन दी रुची है। निज्जी वक्कार दी भावना पती-पतनी दोवां ही गल्ल-गल्ल ‘ते संकोच पैदा करदी है। पर समाजक ते घरोगी मजबूरीआं ते पतनी दी पर-निरभरता दी सूझ उन्हां दे रिशते नूं टुट्टण नहीं दिंदी। 
‘दुद्ध दा छप्पड़’ कहाणी दा विशा महान है। चाचे-ताए दे पुत्तर भरा दिआल अते लाल आपो विच काफ़ी समां खेती दी भाईवाली करके वक्ख-वक्ख हो जांदे हन। पिच्छों कई वार अजिहे मौके बणदे हन, जदों इन्हां विचकार लड़ाई हो सकदी है, पर दोवें किसे ना किसे ढंग नाल लड़ाई टाल दिंदे हन। कारन है इन्हां दे अंदर इक्क-दूजे लई डूंघा लुकिआ पिआ सनेह। अंतली घटना बड़ी महत्तव भरी है। पतनी दी शिकाइत है कि इक्क भरा दूजे तों दबक के रहिंदा है। पती नूं पतनी दा इह मिहणा बड़ा वंगारदा है। इस लई उह मझ्झ चो लैण वाली गल्ल दस्स के आपणा रहिंदा रोहब वी गवा नहीं लैणा चाहुंदा। पर दूजे पासे उह इक्क किरसान दी अमली सूझ नाल इह वी जाणदा है कि उस नूं अज्ज आपणे भरा नूं ललकारना नहीं चाहीदा, किउंकि उस दे जुआन साले आए होए हन। सो, उह लड़ाई तों वी बचे रहिण लई ते नाल ही आपणी पतनी दीआं नज़रां विच हीणा ना होण लई मझ्झ दे थणां विचों निकलिआ थोड़्हा जिहा दुद्ध मींह नाल गिल्ली होई धरती ‘ते डोल्ह दिंदा है। इह थोड़्हा डुल्लि्हआ दुद्ध गिल्ली धरती ‘ते दुद्ध दा छप्पड़ लग्गदा है। ‘दुद्ध दा छप्पड़’ पंजाबी दीआं बहुत सोहणीआं कहाणीआं विचों इक्क है। इस विचला खिआल बहुत टुंबण वाला है। इह पेंडू जीवन नूं प्रभावशाली ढंग नाल उघाड़दा है ते इस दा बिआन बड़ा सुथरा है।
विरक दीआं कहाणीआं कलमी चिहरे (फोरटरउटिस) हन, जिन्हां नूं विचले कहाणीकार-फ़ोटोग्राफर ने इक्क बझ्झवें फोकस राहीं खिच्चिआ है। उस दे पातर बड़े सपशट रूप विच इक्क-दूजे नालों निक्खड़वें ते आपणा-आपणा विअकतितव रक्खण वाले हन। उह निक्कीआं-निक्कीआं चौगिरदे वापरदीआं घटनावां विचों आपणे मज़मून चुणदा है अते उस दीआं कहाणीआं तराशीआं इक्क नुकते वल्ल संकेत करदीआं अते बड़ी सफ़ाई नाल उसारीआं मनुक्खी विहार दा तीख़ण ते पिछोकड़ ‘ते आधारत विशलेशण करदीआं हन अते इन्हां पिच्छे कंम कर रहीआं मनोबिरतीआं लोड़ां अते थोड़ां दस्सदीआं हन। 

Leave a Comment