विरक दी कहाणी दा मानववाद प्रो। संत सिंघ सेखों

कुझ साल होए जदों विरक अंबाले रहिंदा सी तां दसंबर दीआं छुट्टीआं विच दुग्गल ते मैं उस पास गए होए सां। उत्थे साहित चरचा दे दौरान विच मेरा प्रिय सिधांत कि साहित विच समाजक सारथकता होणी चाहीदी है, आम आ जांदा सी ते दुग्गल ते विरक दोवें इस दी आवशकता नूं मन्नण तों झिजकदे सन। जिवें विरक आप आखदा है, उस ने कहाणीआं लिखीआं हन, पर इन्हां दी रचना दे सिधांतक पक्ख वल्ल बहुता धिआन नहीं दित्ता। ओदों वी विरक समाजक सारथकता दे मसले नूं मन्नण तों इनकारी सी तां उह इह वी कहिण नूं तिआर नहीं सी कि उस नूं किहड़ा सिधांत प्रवान सी। शाइद हुण वी जदों उस दी कहाणी कला ‘ते चोख़ी चरचा आए दिल हुंदी रहिंदी है, उह किसे सपशट सिधांत नूं अपनाउण तों हिचकचावे। पर कुझ चिर होइआं जदों मैं आपणे इक्क लेख ‘आधुनिक पंजाबी गलप’ विच उस नूं गलप दे समाजवादी गुट्ट ‘च ना गिण के वक्खरा जिहा ही रख्खिआ सी तां उस नूं इउं महिसूस हुंदा सी, जिवें उह किसे भांत भाईचारे विचों छेकिआ गिआ हुंदा है। आदरशवादीआं विच उह आ नहीं सी सकदा ते जिन्हां नूं मैं बाहरमुखी यथारथवादी जां उदारवादी वी कहिंदा सां, उन्हां विच गिणे जाण नूं वी उह पसंद नहीं सी करदा। मैं वी इह मन्न लिआ सी कि किसे गुट्ट विच शामल नहीं सी कीता जा सकदा। उह सारिआं तों ज़रा निवेकला ही खड़्हा सी, भावें मुबारक सिंघ ने आपणी इक्क कहाणी-चोण, ‘रिशमा’ विच उस नूं उस दी कहाणी ‘पौणा आदमी’ दे आधार ‘ते समाजवादी गुट्ट विच रख्खिआ होइआ सी।
कुझ लेखकां विच अज्ज-कल्ल्ह समाजवादीआं विच ना गिणे जाण करके इह कहिण दी वादी पई होई है कि उह किसे वाद जां गुट्ट विच नहीं। जे उन्हां दा कोई वाद है तां उह साधारन मानववाद ही है। पर बहुत करके अजिहे लेखकां दे इह दाअवे केवल अद्धे ही सच्चे हुंदे हन: अरथात उह किसे वाद दे अनुसारी नहीं हुंदे। उह साधारन ज़रूर हुंदे हन। पर मानववादी नहीं हुंदे, किउंकि मानववाद इक्क अजिही सूझ दी मंग करदा है, जो समाजवाद वल्ल नूं तांघदी हुंदी है, उन्हां वल्ल पिट्ठ करके नहीं खड़्ही हुंदी। अज्ज-कल्ल्ह मानववाद पुराणीआं कीमतां दे सिद्धा जां टेढा समरथन करन विच नहीं, इन्हां नूं उसे निरणैकारी ढंग नाल रद्द कर देण विच है, जिस नाल समाजवाद करदा है। पंदरवीं-सोल्हवीं सदी दा महान मानवादी गुरू नानक वी सवाइ इक्क सरवत्तर आदरशक शकती, वाहिगुरू दे सिधांत तों खत्तरीवाद, ब्राहमणवाद दीआं सारीआं कीमतां नूं रद्द करके इक्क नवीआं कीमतां दा तोल प्रचल्लित करदा है। इसे तर्हां जिहड़े लेखक, कलाकार अज्ज पुराणीआं खत्तरीवादी जां पूंजीवादी कीमतां नूं रद्द नहीं करदे ते कई वारी कुझ नवीआं पूंजीवादी कीमतां नूं रद्द करके, सगों उन्हां तों वी पुराणीआं खत्तरीवादी (ढइुदउल) कीमतां दा समरथन करना चाहुंदे हन। उह मानववादी नहीं कहा सकदे सी। खत्तरीवादी मतां विच मानववाद दा इक्क अंश ज़रूर सी। पर उस मानववाद दा वड्डा रूप दान सी, जिस अनुसार भुक्खे नूं रोटी खुआ देणा, नंगे नूं कप्पड़ा दे देणा, काल भीड़ समें आपणे अनुसारीआं, पिछलग्गां, नौकरां-चाकरां, कंमीआं आदि दी सहाइता करना वड्डे मानववादी करम सन। ॥। पालणा, मापिआं दी सेवा करना वी खत्तरीवाद दे ॥। करम सन। पर अज्ज-कल्ल्ह दे युग्ग विच जित्थे भली-भांत दे करम सही मानववाद दे राह विच रोक पाउण वाले करम बणे होए हन, उत्थे पिछली भांत दे करम बहुत अधूरे जिहे करम हन। दोसतां पासों कुरबानी मापिआं नूं बुढापे आदि समें विच पुत्तरां पासों सेवा आदि दी लोड़ इक्क समाजवादी प्रबंध विच उस तीबर ‘च पैंदी ही नहीं, जिस तर्हां इह खत्तरीवादी ॥। ‘च पैंदी सी। इह करम अज्ज-कल्ल्ह दे मानववाद दीआं लोड़ां विच शामल ही नहीं कीते जा सकदे।
विरक अजिहे अखाउती मानववादीआं विच शामल नहीं कीता जा सकदा ते ना ही उह इन्हां विच शामल कीता जाणा पसंद करदा है। पर उह सपशट भांत समाजवादी वी नहीं। उस दा समाजवाद नूं अपनाउण वल्लों संकोच किसों कुरुची दा परिणाम नहीं, इह वेकल इक्क भावक संकोच है उस खेतर विच जा के माली गड्डण दा, जिस दा उस ने भनी-भांत सरवेखण ते अधिअन नहीं कीता है। विरक दे सूख़म भावां ते उस दी तीबर बुद्धी ने आधुनिक पूंजीवाद-खत्तरीवाद प्रबंध दीआं कीमतां नूं घातक सिद्ध कर लिआ है, पर हाली नवीआं कीमतां बारे निरणै नहीं कीता। इस लई उस दा सिधांत समाजवादी भाव नहीं बणिआ, पर इस विच सुहिरदता दी घाट नहीं ते उस दी सूठ दे इतिहासक पक्खों तों पक्की होण करके इह सुहिरदता पिछल-मुखी परतगामी कदाचित नहीं। इह सुहिरदता सपशट रूप विच अगरगामी है, अरथात विरक दा कला सिधात अगरगामी मानववाद है।
कई लोक बहुत वारी इह कहिंदे सुणे जांदे हन कि साहित जां कला नूं वादां विच जकड़न दी कोई लोड़ नहीं, इन्हां नूं माण के इन्हां नूं उत्तम जां घटीआ कहि देणा ही काफ़ी है। पर इह गल्ल इस तर्हां कहिण दे तुल है कि भोजन नूं खा लैण दी ही लोड़ है, इस दे सुभाअ बारे निरणा करन दी लोड़ नहीं। शाइद विरक आप वी आपणे सिधांतक विशिआं वल्लों संकोच दे अधीन कुझ इन्हां निरणिआं नूं बेलोड़ा ही समझे। पर अज्ज-कल्ल्ह दे समें किसे वसत दा निरणै तों बाहर रहि जाणा संभव नहीं, जे उस वसत दी कोई कीमत है।
इह उस दी अगरगामता दा माण है कि विरक दी कहाणी विच कोई प्रचल्लित भांत दा नाइक नहीं हुंदा। उस दी कहाणी दा प्रधान विअकती केवल इक्क सुहिरद मनुक्ख हुंदा है। कई वारी इह सुहरिद मनुक्ख पुराणे मनुक्ख दी पैदाइश हुंदा है, जिवें ‘उजाड़’ दा आला सिंघ ते ‘तूड़ी दी पंड’ दा बहादर सिंघ। पर इह मनुक्ख राजवादी भावना वाले विअकती नहीं। इन्हां दी पावना आपणे भाईचरे वल्ल सुहिरदता दी भावना है, जो राजावादी प्रबंध विच इक्क सीमत जिहे खेतर दा लोकवाद सी। आला सिंघ नूं निराशा हुंदी है, जदों उस दा इह कहिणा प्रवान नहीं हुंदा कि जे पिछलीआं कई वारां तों ‘शेरे की बरारदी’ विचों कोई डिसट्रिकट बोरड दा मैंबर लइआ जांदा रहिआ है ता ऐतकां टल्ले किआं विचों ना लइआ जावे। उस नूं पारटीआं दीआं टिकटां, पालसीआं अते प्रोगरामां, चौड़े ते सौड़े द्रिशटीकोणां दीआं गल्लां नहीं आउंदीआं। पर उह चाहुंदा है कि चौधर बरादरीआं विच वंडी जावे। उस नूं मंगल सिंघ पिंडों निकल के असलों बेग़ाना हो गइआ जापदा है, उस नूं पिंड वी ‘असलों उजाड़’ लग्गदा है। उह ना एधर दा, ना उद्धर दा रहि गइआ होइआ मनुक्ख है, जिवें कोई अजिहा मानववादी भावना वाला मनुक्ख हुंदा है, जिहड़े समें दा हाणी नहीं बण सकदा। विरक दा मानववादी सुहिरदता आला सिंघ दी भावना दे समरथन विच नहीं वधांदी, इह उस ‘ते पुत्तर भाव नाल मुसकरा देण विच है, जिस नाल असीं आपणे पुरातन-भावी मापिआं, दादे-दादीआं ना एधर दीआं, ना उद्धर दीआं गल्लां ‘ते हस्स देंदे हां। असीं जाणो आख रहे हुंदे हां, तुहाडा कहिणा तां ठीक है, पर ज़माना बहुत बदल चुक्का है, हुण तुहाडीआं शुभ भावनावां इस विच मिच नहीं सकदीआं। इह ही सलूक विरक बहादर सिंघ नाल करदा है, जिस नूं उस दा माण-मत्ता भाईचारा हुण तूड़ी दी पंड वाकर खिंडदा प्रतीत हो रहिआ है। विरक उस बज़ुरग नूं कहिंदा जपादा है, ‘बहादर सिआंह, इह तेरा पुराणा भाईचारा ठीक ही तूड़ी दी पंड है, तूं इस नूं हुण होर नहीं चुक्की फिर। आवुण वाले मशीनी युग्ग विच तूड़ी दी पंड चुक्क के सांभण दी लोड़ नहीं रहेगी।’
आपणीआं पहिलीआं कहाणीआं ‘छाह वेला’ विच विरक आपणे इस मानववाद दे झलकारे ही दे सकिआ सी। उत्थे बहुत ज़ोर उस दा आपणी जवानी दे अत्रिपत भावां नूं सुहिरद जेहे हासे नाल संतुशट करन ‘ते लग्गिआ होइआ सी। वेखण वाली गल्ल है कि उत्थे उह उस समाज ‘ते कोई टीका-टिप्पणी नहीं करदा, जो इन्हां अत्रिपत भावां नूं दबाई रक्खदा है, किउंकि जो इह अत्रिपत भाव दे दबाण जोगे नहीं तां खुल्ल्हां देण जोगे वी नहीं। इन्हां ‘ते अंकुश लग्गणे आवशक हन, केवल इन्हां अंकुशां नूं बदलण दी लोड़ है। विरक इन्हां अत्रिपत भावां लई खुल्ल्ह नहीं मंगदा, सगों इन्हां ‘ते हलके इहो कटाख़स नाल मुसकराउंदा है, जिवें ‘गजरे’ दी कुड़ी ‘ते जां ‘पाशो’ ‘ते जां ‘मुकतसर’ वाले विरक दी हउमैं ‘ते। पर अग्गों ‘धरती ते आकाश’, ‘एकस के हम बारिक’ ते ‘दुद्ध दा छप्पड़’ विच उस दा मानववाद जित्थे इह पहिलां वाकर कटाख़मई ज़रूर है, वधेरे निरमाणकारी बण गइआ है। इन्हां विच बहुतीआं कहाणीआं ‘च उह पुराणी तरज दे जीवन ‘ते मुसकरांदा है। जिवें ‘बैरिसटर साहिब’ दे सबंधी, जट्ट, जट्टीआं ‘ते जिन्हां विच बैरिसटर साहिब मिच नहीं सकदे। जित्थों तक्क कि उन्हां आपणी मां भावें उन्हां दे दुखदे सिर नूं घुट्ट रहे है, पर उस दा दिल आपणे सुभाअ मेल दीआं उन्हां इसतरीआं वल्ल है। नाल दे कमरे विच पिंड दीआं, उत्थों दीआं बिमारीआं, जवीज़ां, सादचारी आदि दीआं गल्लां कर रहीआं हन ते उन्हां दे मुकाबले विच उस नूं आपणा पुत्तर बैरिसटर पराइआ प्रतीत हुंदा है। इसे तर्हां ‘कुड़ी दा दाज’ विच उह अल्ला रक्खे दी वहुटी ‘ते हस्सदा है, जो उजाड़े दी मारी सरकारी टरक्कां ‘ते कैंपां नूं जा रही वी उस ‘गागर ते वलटो’ ही नूं नहीं भुल्लदी, जो उस ने धी दे दाज लई रक्खीआं होईआं हन। 
बहुतीआं कहाणीआं विच विरक होर मनुक्ख कमज़ोरीआं ‘ते केवल मुसकरा छड्डदा है। उस दी सुहिरदता इत्थे इह है कि इन्हां कमज़ोरीआं नूं दुखांतर रूप विच पेश नहीं करदा। जिवें ‘घोड़ी’, ‘मैनूं जाणनै’ आदि विच। असल ‘च मानववाद दुखांतक घटना तों सदा पासा मोड़ी रक्खदा है। साहित विच दुखांतक घटना किसे नीती दे अधीन ही लिआईदी है, किउंकि इस विच भाग अथवा संसार दे आदरशक कलप दी कठोरता जां मनुक्ख दे आचरणक औगुण जां समाज दे प्रबंध दी कुविधता ‘ते ज़ोर दित्ता गिआ हुंदा है, जिस दा आधार सपशट ही कोई आचरणक, धारमिक जां समाजक नीती हुंदी है, मानववाद किसे सिद्ध नीती ‘ते आधारत नहीं हुंदा।
कुझ कहाणीआं, जिवें ‘चाचा’, ‘छाह वेला’ आदि विच अत्रिपत भाव नूं कलपना जां निक्कीआं-निक्कीआं छोहां राहीं संतुशट करन दे यतनां दा वरनण है, द्रिशटी उह ही इन्हां लोकां ‘ते मुसकरा छड्डण वाली है। ‘दो आने दा घाह’, ‘मिन्नी दी सलेट’ मद्ध श्रेणी जीवन ‘ते रल के विंग हन। 
पाकिसतान ते भारत दी आज़ादी तों पिच्छों होए उजाड़िआं ते अत्तिआचारां बारे जिहड़ीआं कहाणीआं विरक ने लिखीआं हन, उन्हां दी इक्क ख़ूबी इह है कि उन्हां विच गुस्से जां रोह दा अंश तक्क नहीं। सरहद्द दे दोहीं पासे लोकां ने इस भिअंकर समें नूं आपणी लिखत विच चितरन दे यतन कीते हन, जिन्हां विच सुआदर हसन मिंटो ते क्रिशन चंदर जेहे उसताद वी शामल हन। पर इन्हां विचों कोई पक्खवाद तों, गुस्से ते क्रोध तों सक्खणा नहीं रहि सकिआ। पर विरक नूं मनुक्ख ‘ते क्रोध नहीं आउंदा। उस नूं यारनी बुरी नहीं लग्गदी, डाकू बुरे नहीं लग्गदे, तों ना उस नूं पाकिसतानी जां हिंदुसतानी लोक बटवारे समें दे आधार ‘ते पागल बणाए होए बुरे लग्गे हन। इस क्रो रहित अवसथा नूं मैं विरक दे सुहिरद मानववाद दा इक्क होर अतुट्ट प्रमाण समझदा है। इन्हां विच सभ तों दुखदाई शाइद ‘खब्बल’ है। पर विरक ने इस कहाणी दा नां चुणन समें ही जाणो इस दे पड़्हन तों उपजण वाले दुक्ख नूं घटाण लई इस नूं इह निरमाण जिहा नां दे दित्ता है। उह इक्क भारती अफ़सर, इक्क सिक्ख उधाली होई इसतरे दे पास बैठा है। इह उस दा आपदा क्रोध रहित वतीरा ही होवेगा, जिस ने उस उधाली होई, बिमार ते रज्जे घर तों इक्क ग़रीब घर विच सुट्टी होई इसतरी नूं रोह विच, क्रोध विच, वेग विच भर के फुट्ट-फुट्ट रोण तों बचाई रख्खिआ होवेगा। कोई होर हुंदा तां उस नूं आखदा, बीबी, तूं हौसला रक्ख, असीं तैनूं एथों हुण लै जावांगे भारत विच तैनूं तेरा घर दर, माण-आदर सभ फिर प्रापत हो जाणगे। उह हालत विच इसतरी ने इउं नहीं आखणा सी, ‘तूं मेरा सिक्ख भरा एं, मैं वी कदे सिक्ख हुंदी सी। हुण ते मैं मुसलमान हो गईआं, एस वेले मेरा एस दुनीआ विच कोई नहीओं। मैं बड़ी औखी आं, तूं मेरी बांह फूड़। मेरी इक्क ननाण एं निक्की। रुड़्ह गए यारां चक्क वाले लै गए होए नीं। उस दिन हमले विच सभ तों वड्डी धाड़ उन्हां दा सी ते उह ई उहनूं लै गए नीं। तेरी ऐस वेले मैनूं बड़ी चौधर जापदी ए। तूं उहनूं एथे मेरे कोल लिआ दे॥। मैं उहदी वड्डी भरजाई आं, मैं उहनूं हत्थीं पालिआ ए, मां बरोबर आं। उह मेरे कोल आवेगी। मैं आप आपणीं हत्थीं उहनूं किसे लड़ लावांगी। मेरी सांझ वधेगी, मेरीआं बाहां बनणगीआं। मैं किसे नूं आपणा आखण वालडी बणांगी।’
विरक उस इसतरी दी जीवन लई चाह नूं खब्बल दे वाह वढ्ढी के फिर उग्ग पैण ते फैल जाण नाल तुलना देंदा है ते इह उह निरदाइता नाल नहीं करदा। उस दे मन विच उस इसतरी लई दइआ दी घाट नहीं। असीं कहाणी दे रुख़ तों समझ सकदे हां कि उह उस इसतरी ते उस दी ननाण दोवां नूं छुडा लिआइआ होवेगा। उप्पर उह इस विवसथा विच दोश, दंड जां प्रसंसा आदि नहीं वंड रिहा। उस पास केवल मानवी सुहिरदता है, जिस दा पल्ला मनुक्ख नूं घोर तों घोर अवसथा विच वी सहाई हुंदा है, जिवें इह उस इसतरी नूं सहाई हो रिहा है। इह वक्खरी गल्ल है कि उस इसतरी नूं मनुक्खी दइआ शाइद किसे वधेरे सारथक रूप विच मिल गई होवेगी, पर जे ना वी मिली होवे तां विरक पाठक नूं इह तसल्ली दे रिहा है कि उस इसतरी लई वी जीवन इक्क भांत दी आस आपणे विच लई बैठा है।
विरक दीआं कुझ कहाणीआं ‘च इक्क भांत दी सूरमताई वी उस दे पातरां विच आ जांदी है। अजिहा इक्क पातर विंकी है। विंकी दे मापे सुदीप नाल उस दा विआह करना मन्न गए हन, पर सुदीप दे मापे नहीं मन्नदे। इस लई उह विंकी लई इक्क होर वर ढूंड लैंदे हन। पर विंकी इस नूं आप नहीं मन्नदी, समझौते दे रूप विच उस नूं सलाह दित्ती जांदी है कि उह सुदीप नूं इस दूजी थां मंगणी दा डरावा देवे तां जो उह आपणे मापिआं ‘ते ज़ोर पा के उन्हां नूं मनावे। पर विंकी इह झूठा डरावा देण नूं वी तिआर नहीं, किउंकि जद उस ने कदाचित दूजे वर नूं मन्नणा नहीं तां उह इस गल्ल दा डरावा किउं देवे, इसे भांत दा ही सूरमा ‘धरती हेठला बल्हद’ विच मर गए सिपाही करम सिंघ दा बुढा बाप है, जिहड़ा आपणे मोए पुत्तर दे मित्तर मान सिंघ नूं, जो करम सिंघ दी मौत तों अगिआत आपणी छुट्टी विच करम सिंघ दे घर दिआं दी ख़बर लैण आइआ है, करम सिंघ दी मौत बारे दस्स के उस दी छुी्ी दा रस नहीं मारना चाहुंदा।
‘पती’ कहाणी विच नाइका इक्क होर भात दी सूरमा इसतरी है, जिहड़ी सभ तर्हां दीआं बेवफ़ाईआं दे बावजूद आपणे पती जिही हमदरदी शाइद किसे होर नाल नहीं रक्ख सकदी।
विअंग विरक दीआं कहाणीआं दा सरवथा सुभाव है। पर इह विअंग सुहिरदता दे पल्लड़े नूं भारा हो के उप-भावकता बण जाण तों बचाण लई वरतिआ गिआ। इक्क ढंग है नाले इह ही उह ख़ाद है, जो सुहिरदता दी उतपती नूं लै वधांदी है। जे विरक मनुक्खां नूं विअंगमई बुद्धी नाल अंञाणिआ दे रूप विच ना वेखे तां इह उस दी हमदरदी किस तर्हां प्रापत कर सकदे हन? उपभावकता दा अंश तां उस दे किधरे वरते शबदां वाकर विरक दी लिखत विच किधरे मांह दे दाणे विच सफ़ैदी नालों वधेरे मिती विच नहीं मिलदी अते इह वी विरक दी कला दा इक्क नरोआ गहिणा है। इस नकश उसे तर्हां हीरे वरगे सख़त ते सुहणे रहिंदे हन, जिस तर्हां विरक दे आपणे नैण-नकश हुंदे हन।
इस सरवथा विअंग तों उपरंत विरक दी लिखत विच थाउं पर थाउं बौधिक कटाख़ नाल भरे वाक मिलणगे, जिहड़े सुआदी पदारथां दे थाल विच इक्क विशेश सुगंधित कर जांदे हन, जिवें ‘घोड़ी’ विच उह निआणिआं दे कप्पड़िआं बारे आखदा है, गल पाण लई ते कोई वी ना लभ्भदा ते धोण वेले ढेरां दे ढेर हुंदे।’ जां ‘जे रब्ब दा बंदे नूं बनाण तों कोई ख़ास मनोरथ सी तां पारवती दी वेरी उह असफ़ल रिहा सी ते फिर, ‘जे इक्क ने बाहर जा के उलामा लिआंदा सी तां जिहड़े घर रहे सन, उन्हां किहड़ा सुक्ख दित्ता सी।’ इसे तर्हां ‘दो झाकीआं’ विच किहा सुहणा अलंकार है: ‘डूंघे तों डूंघे बिआन विचों उस दी ज़ुबान इस तर्हां फिर जांदी, जिवें मच्छी पाणी विचों’ जां ‘बहुत नेड़े-बहुत दूर’ विच ‘कोई गल्ल करन दी थां उस लई हस्स छड्डणा सौखा सी। जित्थे हस्स छड्डिआं गुज़ारा हो जावे, उत्थे उह आपणे दिमाग़ विचों फरोल के गल्ल कढ्ढण दी खेचल कदी ना करदा।’
इस भांत दे विअंगमई, पर सुआद देण वाले वाक विरक दी लिखत विच थाउं पर थाउं मिलदे हन, जो उस नूं इक्क विशेश शैली दा सुआमी वी बणांदे हन। 


Leave a Comment