असतबाज़ी

शराब मुकदी जा रही सी पर अजे तीक गल्ल कोई चंगी तर्हां टुरी नहीं सी। कई वार इस तर्हां हो जांदा है। बैठो रहो, पींदे रहो, विचों कुझ वी नहीं निकलदा। इहो जही कोई गल्ल ही नहीं हिलदी जिहड़ी कोल बैठे दे मन विच उतर के उस दी सोच जां भाव नूं जगावे ते उस विचों वी अगांह कोई नवीं गल्ल उछाल लिआवे। गल्लां बस इहो जहीआं हो रहीआं सन जिहो जहीआं मेले तों मुड़ के आउंदे लोक करदे हन, मेले नूं जांदे लोक नहीं।

”तूं कदी पिंड दे किसे वड्डे विआह विच असतबाज़ी चलदी वेखी ए?” मेरे दोसत ने किहा।

”पिंड सुत्ता सुत्ता हुंदा ए। वद्ध तों वद्ध तंदूरां, भट्ठीआं जां चुल्हां विचों धूंआं निकलदा ए। फिर अन्हेरे पए जंञ आउंदी ए, हवाईआं अध-असमान नूं चड़्हदीआं ने ते उथे पटाका मार के सारे असमान नूं चानण चानण कर दिंदीआं ने। फिर होर तर्हां दे पटाके गोल चकरां वांग चलदे ने, रंग बरंगे लिशकारे निकलदे ने। ते उह पिंड दे अन्हेरे नूं लिशकदे रंगां नाल भरी जांदे हन।

”रोज़ हल वाहुण वाला, पट्ठे वढण वाला, गोडीआं करन वाला पिंड अक्खां तों उहले हो के किधरे गवाच जांदा ए। चारे पासे चानण ते लिशक पसर जांदी ए। ते तुसीं हैरान हुंदे हो कि कुदरत ने तुहाडे लई किन्ना कुझ बणाइआ ए।”
”इस वेले हुण किस दी जंञ आउण लगी ए?” मैं पुछ्छिआ।
”जंञ ते कोई नहीं आउण लगी,” उस ने कुझ सोच के किहा। ”मेरा मतलब इह है कि जिस तर्हां पिंड दी काइआ पलट गई लगदी है, इसे तर्हां बंदिआं नाल वी हो जांदा है कि जदों जी करे मन अंदर जगमग कर लओ।”

”हुण विखाओ वी ना कोई झलकारा, पंडत जी,” मैं मखौल कीता, ”इह ते निरी पंडताई है। कोई मतलब दसो तां पता लगे।”
”ऐवें इक गल्ल याद आई सी, कई साल पुराणी। होइआ की सी? कुझ वी नहीं। पर नशा अजे तक्क नहीं जांदा। उस ने किहा, ”हनेरे जहे होए इक दोसत अचानक मिल गई। कहिण लगी : ‘गल्लां ते बहुत करनीआं ने, पर हुण मैं घर जाणा ए। सवेरे किथे मिलेंगा?’

”मैं चांदनी चौंक विच इक थां दसी। इह उस दे घर दे नेड़े पैंदा सी। उस ने किहा, ‘ठीक है पर बहुत सवेरे आउणा पवेगा। सरदी वी बहुत है। दस वजे मैं कालज पड़्हाण वी जाणा है। उह नहीं खुंझा सकदी।’

”सवेरे सवेरे जदों असीं मिले तां सोचिआ चांदनी चौक एडा मशहूर बाज़ार है। किसे होटल विच बैठ के गल्लां करांगे। ते नाले कुझ खा पी के निघ्घे होवांगे।
”इक होटल दा बूहा खोल्हिआ तां उह भां भां कर रिहा सी। दो सोफिआं उते पुराणीआं जहीआं रजाईआं विच वल्हेटी दो आदमी सुत्ते पए सन। उथे बैठण दा कुझ सवाद नहीं हो सकदा सी ना कुझ खाण नूं मिलण दी आस। असीं बाहर निकल आए।
इक होर होटल दा बूहा खोल्हिआ तां इक आदमी फरश उते पोची दे रिहा सी। गिल्ल नुं सुकाण लई उस ने उतों पक्खा वी चलाइआ होइआ सी। इह ते पूरा बरफखाना बणिआहोइआ सी। इस नालों ते किधरे बाहर ही बैठ जाणा ठीक है, असां सोचिआ। ते गल्लां करदे राजघाट वल्ल टुर गए। थोड़ी थोड़ी धुप्प वी निकल आई सी।”

”इह ते बड़ा करड़ा दिन चड़्हिआ तुहाडे लई” मैं हमदरदी जताई।
असां दोहां सवैटर कोट पाए होए सन पर हवा विचों दी चीरदी जा रही सी। राज घाट दीआं गराऊंडां विच असां इक सीमिंट दा बणिआ बैंच लभिआ। पर रात दी तरेल नाल उह इस तर्हां गिल्ला होइआ होइआ सी जिवें कोई हुणे ही उस उते पाणी डोहल के गिआ होवे। बहिण नाल पैंट हेठों गिल्ली हो जाणी सी! पर इस उते बहिण तों बिनां कोई चारा वी नहीं सी। हुण होर असीं किथे जांदे? टुरदे रहिण नूं साडा जी नहीं सी।

”मैं बहिण ही लगा सां कि उस कुड़ी ने रोक लिआ। कहिंदी ए, ”इक मिंट ठहिर जा।’ मैं गिल्ले बैंच तों नज़र चुक के उस वल वेखिआ। उह आपणा कोट लाह रही सी। फिर उस हेठों आपणा सवैटर लाहिआ ते गिल्ले थां उते मेरे लई विछा दित्ता।

”हुण बहि जा” उस ने किहा। मैं बैठ गिआ ते उह कोट पा के मेरे कोल बैठ गई। बैंच दी गिल्ल ते ठंड सवैटर हेठां दब गई सी। मैं नरम ते निघ्घे थां उते बैठा सां।”
फिर मेरे मित्तर ने कुझ सोच के किहा, ”मैनूं इंगलैंड दे पिआर इतिहास विचों कोई चार सौ साल पहिलां दी इक गल्ल याद आ गई। कहिंदे ने इक वार मलिका इलिज़बैथ आपणे देश दे वड्डे वड्डे सरदारां नाल सैर कर रही सी कि उस दे साहमणे वाली थां चिक्कड़ आ गिआ। मलिका अजे सोच ही रही सी कि इस नूं किवें पार करां कि इक सरदार ने झट पट अगे आ के आपणा कोट लाह के उस चिक्कड़ उते विछा दित्ता। मलिका कोट उते पैर रक्ख के चिक्कड़ लंघ गई। इस शरधा सदका उस सरदार दी, जिस नूं अरल आफ लाईसैसटर आखदे सन, मलिका दे दिल विच सदा खास थां रही।

”उमर लंघ जांदी है। होर गल्लां भुल्ल जांदीआं ने। पर इहो जिहे दिल विचों इक दम फुट्टे, झलकारे नहीं भुलदे। इन्हां लोकां दा देणा पता नहीं कदों दिआंगे!”
मैं आपणे मित्तर दीआं अक्खां वल वेखिआ। उथे हंझू कोई नहीं सन। चंगा ही सी किउंकि जिहड़ी गल्ल मैं उस नूं सुनाणी चाहुंदा सां उह याद करके वी मैनूं कदी हंझू नहीं आए सन। सगों दिल वड्डा वड्डा लगदा सी। ”इहो जिही इक गल्ल मैनूं वी याद है,” मैं उस नूं दस्सिआ। ”देश दी वंड वेले दी गल्ल है। पंजाब विच ते उबाल कुझ मट्ठा हो गिआ सी पर दिल्ली विच अजे शुरू ही होइआ सी। मैं कुझ चिर लई पंजाब तों दिल्ली आइआ होइआ सां। कहिंदे सन इह कंम, बहुता, संघणीआं बसतीआं विच हुंदा है जिवें पहाड़ गंज, करोल बाग जां तुरकमान गेट दे अंदर। इन्हां बसतीआं विच मेरा आउण जाण नहीं सी। मेरा डेरा ते कनाट पलेस दे नेड़े इक कोठी विच सी जिथे हवा वक्खरी सी।

”मूंह हनेरा हो गिआ सी। मैं फिरदा फिरांदा इरवन हसपताल दे साहमणे दी सड़क तों कनाट पलेस वल नूं जा रिहा सी। सड़क दे कंढे उते इक कुड़ी खलोती सी, दस बारां साल दी। मैनूं आउंदा वेख के उस ने उरदू विच किहा, ”मैनूं सड़क पार करन तों डर लगदा है, तुसीं मैनूं सड़क पार करवा दिओ।”
मैं उस दा हत्थ फड़ के कारां तों बचदा बचांदा उस नूं सड़क तों पार लै गिआ। पर सड़क दे पार कोई बाज़ार जां होर वसों नहीं सी। उजाड़ सी ते हनेरा वी। टीऊबां अजे निकलीआं नहीं सन ते बलबां दा बहुता चानण नहीं हुंदा। आसिफ अली रोड अजे बणी नहीं सी। उस नूं उथे छडणा उस नाल कोई नेकी नहीं सी। पर्हां तुरकमान गेट दे अंदर बाज़ार विच बत्तीआं जग रहीआं सन। मैं किहा इस नूं उथों तक्क छड्ड आउंदा हां। मेरे इस उदम उते उह बहुत खुश होई।

”जदों असीं गेट दे अंदर वड़े तां चानण विच मैं वेखिआ कि उस दे मूंह उते अजे वी बहुत घबराहट सी। आपणे घर दे नेड़े पहुंच के इह किउं? ना उस मेरा हत्थ छड्डिआ ते ना ही उह किसे पासे नूं पैर पुट्ट रही सी।”

”हुण तूं आपणे घर पहुंच जावेंगी?” मैं उस तों पुछ्छिआ। उस दे मूंहो कोई शबद ना निकलिआ ते ना ही उस मेरा हत्थ छड्डिआ।
”इह कुड़ी ते असलों गवाची होई सी। इथों वी उस नूं आपणे घर दा राह नहीं आउंदा सी। जे उस दा घर, एथे नहीं सी तां फिर अग्हां ही होवेगा। मैं उस नूं नाल लै के अग्हां टुर पिआ। बाज़ार विचों लंघण वालिआं दी जां दुकानदारां दी, जिस किसे दी वी साडे उते नज़र पैंदी, उथे ही टिक जांदी। छोटे बच्चे ता मुड़ के पिछां झाकण दे थां पिछां मुड़ के खलो जांदे ते साडे वल्ल वेखी ही जांदे। उन्हां बच्चिआं कदी घट्ट वद्ध ही कोई सिक्ख उथे फिरदा वेखिआ सी। वड्डे वी सच्चे सन। इह सारा इलाका मुसलमानां दा सी। इक मुसलमान कुड़ी दा भावें उह छोटी उमर दी सी, इक सिक्ख मुंडे नाल हत्थ फड़ के टुरना उह किवें अणगौलिआं कर सकदे सन!
इह बहुत खतरे वाला कंम सी। मैं फिर उहनूं पुछ्छिआ, ”तैनूं आपणे घर दे रसते दा कुझ थहु लगा ए?” उस ने नांह विच सिर हिलाइआ। इह जगमग जगमग करदा बाज़ार उहो जिहा नहीं सी जिस विचों तरकालां पैण तों पहिलां उह लंघ के गई सी। इह उस लई हुण बिलकुल नवीं थां बण गिआ सी। उस नूं रसते दी कुझ समझ नहीं आ रही सी। टुरदे रहिण दा इक फाइदा सी कि लोक साडे दुवाले इकट्ठे हो के झुरमट नहीं पा सकदे सन ते ना ही साडा रसता रोक रहे सन। इस नाल खतरा बहुत घट जांदा है। पर गोली ते किसे पासिओं आ ही सकदी सी। मैं पाकिसतान बनण दे सारे चक्कर विचों लंघ के आइआ होइआ सां। मैनूं डर आउंदा। फिर उस दे हक्क दी पकड़ दा ज़ोर वध जांदा। इस नाल मेरा डर लहि जांदा।

”इक मोड़ उते आ के अगला बाज़ार भीड़ा ते घट्ट रौणक वाला हो गिआ पर खब्बे पासे मुड़दा बाज़ार बहुत चमक वाला ते चौड़ा सी। सिद्धे जाईए कि खब्बे हत्थ मुड़ जाईए? ठीक राह तों खुंझ के पता नहीं किथे दे किथे जा निकलीए! कुझ समझ नहीं आ रही सी। किसे नूं पुछ लैणा ही ठीक रहेगा। मोड़ उते इक सिगरटां दी दुकान उते कुझ आदमी खड़े सन। उह सारे हैरान हो के साडे वल वेखण लग पए।

”इन्हां नूं ही पुछ लैंदा हां, मैं सोचिआ। उन्हां कोल जा के मैं सारी गल्ल समझाई। भागां नूं उन्हां विचों इक ने उस कुड़ी नूं पछाण लिआ। कहिण लग्गा, ‘खैर दीन दे घर जिहड़े पराहुणे आए होए ने उन्हां दी लकी है। मैं इस नू ंघर अपड़ा दिंदा हां, तुसीं जाओ।

”मैं शुकर कीता कि कुड़ी दा थां टिकाणा लभिआ है ते उस नूं उथों तक्क अपड़ान वाला वी। पर जदों मैं कुड़ी तों हत्थ छुडाण लग्गा तां उस ने आपणी पकड़ होर कस्स लई। उस दे हत्थ दी इह कस्स इक अजीब टैलीफोन सी जिस राहीं उह आपणे दिल दा पूरा भरोसा मेरे तीक अपड़ांदी सी। भाव साफ सी। मेरे बगैर उस नूं किसे उते वी भरोसा नहीं सी ते मैथों बिनां उह किसे होर नाल इक पैर वी नहीं टुरेगी, भावें उह मुसलमान ही होवे। उस दी इह हुकम वरगी अरजोई सी कि मैं उस नुं घर अपड़ाए बगैर उस दा हत्थ ना छड्डां। मैं उस आदमी नूं सुभावक जिहा किहा, ‘चलो मैं वी नाल ही चलदा हां।’

”असीं फिर टुर पए। कुझ ही कदम अग्गे जा के उह घर गिआ। घर पछाण के उस ने मेरा हत्थ छड्ड दित्ता ते दरवाज़े वल टुर पई। फिर उस पिछां भौं के इक भरवीं नज़र मेरे वल वेखिआ ते बोरी दा परदा चुक के अंदर वड़ गई।

”इस गल्ल नूं हुण बहुत साल हो गए ने। पर हुण वी जदों आला दुआला खिंडिआ खिंडिआ जापदा है, हवा विच कुड़त्तण लगदी है तां मैनूं उस बच्ची दे हत्थ दी पकड़ याद आउंदी है, जिहड़ी मेरे हत्थ छुडा जाण दे डर तों होर तकड़ी हो जांदी सी। फिर मेरा आपणे आप विच विशवास वध जांदा है।”

Leave a Comment