अली बाबा ते कासिम

”पर मासटर जी तुहानूं अली बाबे दी कहाणी पसंद किउं नहीं? मैनूं ते एडी सोहणी लगदी ए।” निंदी आपणे मासटर नाल कहाणीआं बारे कहि सुण रही सी।
”कहाणी ते बड़ी चंगी ए, पर इस विच इक गल्ल माड़ी ए जिहड़ी मुंडे कुड़ीआं दे कन्नां विच नहीं पैणी चाहीदी। कासिम दा गार विच खज़ाना वेख के ठर जाणा ते आपणी सुरत मार लैणा मैनूं बहुत भैड़ा लगदा ए। इहो जिहे मौके अमल दे हुंदे ने, ना कि दिल विच ठंडे हो जाण दे।”

हर मौके उते, हर गल्ल विच मासटर जी अमल दी उसतत करदे। असल विच मासटर जी दा जीवन साकार अमल सी। ते इसे अमल विचों ही उन्हां नूं मासटरी लभी सी। सकूल विच जद उह इक जमात पास कर लैंदे तां हेठली जमात दे मुंडिआं दीआं टिऊशनां रक्ख लैंदे ते इस तर्हां आपणा खरच टोरदे। जे मासटर जी किसे पौड़ी ते ढिल्ल जां संग करदे तां नावीं दसवीं दीआं कुड़ीआं नूं उन्हां दे घरां विच टिऊशनां पड़्हान दी थां अज्ज आपणी थोड़ी जिही भोएं विच ढग्गे कुट्टदे हुंदे जां पिंड विच लड़ भिड़ के किधरे जेल विच बंदे हुंदे। इस लई मासटर जी दे दिल विच अमल अते उद्दम दी बड़ी कदर सी।

निंदी अली बाबे दी कहाणी नूं इस नज़र नाल नहीं वेखदी सी। उस नूं कासिम दा अथाह माइआ वेख के घबरा जाणा बड़ा पिआरा लगदा सी। उस तर्हां वी जे अली बाबे दी कहाणी विचों कासिम दा माइआ वेख के घबराण वाला हिस्सा कढ देईए तां कहाणी दे विच रहि वी की जांदा है? अली बाबे ने मुहरां नाल खोते लद्द के घर भर लिआ ते कासिम ने वी भर लैणा सी। पर पाठकां नूं कोई सवाद नहीं सी आउणा ते ना इस कहाणी ने एने लोकां दे दिमागां विच घुरना बणाना सी।

अली बाबे दी कहाणी बारे इह ओपरी जिही राए रक्खण करके मासटर जी निंदी नूं कुझ माड़े नहीं सन लगदे। मासटर जी दा रंग गोरा नहीं सी ते ना ही उन्हां दीआं लंमीआं खिलरवीआं मुच्छां उन्हां दे चिहरे दी सुंदरता वधांदीआं सन पर मासटर जी ते आखर मासटर जी सन- हड्ड चंम ते निघ्घा मास। उन्हां दा रंग जां मुच्छां खराब होण नाल की फरक पैंदा सी? उन्हां दीआं निक्कीआं निक्कीआं गल्लां निंदी नूं पोला पोला उन्हां वल खिचदीआं रहिंदीआं। हर मौका मिलण ते मासटर जी आपदे दिल दी गल्ल उस अग्गे रखदे, आपणीआं हड्ड बीतीआं उस ते साहमणे खिलारदे रहिंदे। जे निंदी नूं ‘साडा घर’ ते लेख लिखण नूं कहिंदे तां आपणे पुराणे घर दीआं गल्लां छेड़ दिंदे। ‘साडे घर विच तिन्न कच्चे कोठे सन,’ उह निंदी नूं दस्सदे। ‘हर इक कोने दा घर नूं मुकंमल बणान विच आपणा हिस्सा सी। इक कमरे विच असीं सारीआं मोटीआं जिनसां पांदे। शुरू साल विच छोले पांदे। ते फिर कपाह आउण तक कणक छोले मुक जांदे जां थोड़े जिहे रहि जांदे। उन्हां नूं इक पासे करके इस कोठे विच असीं कपाह भर दिंदे। फिर गुड़ आउण तों पहिलां पहिलां कपाह नूं वेच दिंदे।’

इक कमरे दी झाकी विखा के मासटर जी दूसरे कमरे वल होए। कीली होई निंदी जिवें हत्थ पा के उन्हां दे नाल नाल जा रही सी। ‘दूसरे कोठे विच असीं छोटीआं छोटीआं जिनसां पा दिंदे। किसे गुट्ठे छल्लीआं, किसे पासे तारा मीरा, किधरे जवार जां बाजरे दा सी। शक्कर ते कक्कों घड़िआं विच पा के इक पासे पाल लाई हुंदी। इक मंजी थंमीआं उते टंग के उस उते गरमीआं विच सारीआं रज़ाईआं रखदे। ते इस मंजी थले इक होर मंजी हुंदी जिस उते असीं रोज़ सौण वाले खेस चादरां रक्ख छडदे। इस कमरे दी इक होर वडी सिफत इह सी घर विच पैदा होण वाला हर बच्चा इस कमरे विच ही जंमदा। मेरे सारे भरावां भैणां ते भतीजे भतीजिआं दा जनम इसे कमरे विच ही होइआ। कई वेर मैनूं इह खिआल आउंदा ए कि जे साडे विचों दो जणे मशहूर हो जाण तां इक दा जनम असथान ते उस कमरे वाली थां ते बण जावेगा पर दूसरे दा किथे बणेगा? हर नवें विआहे जोड़े नूं वी पहिले दो तिन्न साल इसे कमरे विच ही सुआइआ जांदा सी।

इथे पहुंच के मासटर जी ने इक कुचज्जी जिही मुसकराहट नाल निंदी वल वेखिआ ते निंदी दा जीअ कीता कि उह आपणी पख्खिआं वाली कोठी विच रहिण दी थां इसे रंगीले घर विच रहिंदी हुंदी।


आपणी गल्ल दे सवाद विच गड़ुच्च मासटर जी अग्हां टुरे। ‘तीसरा कोठा साडा डराइंग रूम, डरैसिंग रूम, बैड्ड रूम ते पेंटरी सभ कुझ सी। इस विच सभ तों पिआरी थां कंध विच कढिआ होइआ इक आला सी, जिस विच घिओ, मक्खण, सगनां प्रीठिआं दे आए लड्डू, मठिआईआं ते पतासे रखे जांदे। जिस दा हत्थ इस आले नूं पै गिआ बस उह तर गिआ। इक पासे इक पड़छत्ती ते तेल दा कुज्जा, लक्कड़ दी कंघी, अग्ग बालण वाली डब्बी ते विआहां मेलिआं ते पा के जाण वालीआं जुत्तीआं पईआं रहिंदीआं। इक थड़्हे उते पित्तल दे भांदे इक दूजे दे उते पालां विच रखे हुंदे। इह वड्डे वड्डे भांडे कदी कदाईं ही वरतों विच आउंदे। इन्हां विचों किसे विच दाल, किसे विच खंड ते किसे विच कौडीआं पईआं रहिंदीआं ते जदों किसे दे घर विआह हुंदा तां लोकीं इन्हां चीज़ां नूं भुंजे ढेरी कर के भांडे लै जांदे।’

मासटर जी दी गल्ल मुकण उते निंदी ने लंमा सारा साह खिचिआ। शाइद उह मासटर जी दे घर नूं साह घुट के वेखदी रही सी।
जे उस ने मासटर जी दे घर नूं इन्ना धिआन दित्ता सी तां हो सकदा है कि उस दे दिल विच मासटर जी बारे इक अद्ध प्रेम भरिआ खिआल वी आइआ होवे। पर मासटर जी दीआं सद्धरां ने कदी इन्नी उच्ची उडारी नहीं मारी सी। उह आपणे आप नूं निंदी लई कोई सरीरक खिच्च रक्खण दे योग नहीं गिणदे सन। उस दे साहमणे तां उह कक्खों हौले सन। हुण तां रोज़ दिहाड़ी दी गल्ल होण करके मासटर जी कुझ दिल धर आए सन। पर पहिले दिन जद निंदी चिट्टी सलवार कमीज़ ते चिट्टी चुन्नी लई हौले हौले पैरीं तुरदी अंदरों बाहर आई सी तां मासटर जी नूं इउं लगा सी जिवें कहाणीआं वालीआं परीआं विचों कोई परी उन्हां वल वध रही होवे। सारे इनसान बराबर जां हर बंदा ईशवर दा रूप होण वालीआं दलीलां दे के जे कोई मासटर जी नूं निंदी दे पद्धर उते लिआउण दी कोशश करदा तां मासटर जी शाइद इह दलीलां मन्नणों नांह कर दिंदे। उह तां उस दे साहमणे कोई कीड़ा मकौड़ा सन। जद उह उस नाल गल्लां करदे हुंदे तां इस तर्हां अनुभव करदे जिवें कोई बच्चा इक गुपत ताकत मिल जाण करके इक डूेंघ दरिआ विच तर रिहा होवे। जां कोई शेरनी किसे बक्करे नूं आपणे दवाले टपोसीआं मारन दी आगिआ दे रही होवे।
मौके सिर डट के अमल करन तों बिनां मासटर जी दे कुझ होर वी पक्के विचार सन। इक इह कि जे इसतरी ने दुपट्टा सिर उते ना लैणा होवे तां उस नूं वाधू नाल धरूणा नहीं चाहीदा, सगों लाह के रक्ख देणा चाहीदा है। मासटर जी दे इस असूल साहमणे निंदी सदा सिर झुका दिंदी। ते जदों उस दा नंगा सिर वेख के उह उस नूं चुन्नी अंदर रक्ख आउण नूं कहिंदे तां उह झट सिर कज्ज लैंदी।

अज्ज फिर चुन्नी निंदी दे सिर तों लहि के उस दे पैरा विच आ पई सी। मासटर जी नूं आपणा असूल याद आ गिआ।
”जे इह चुन्नी तूं सिर ते नहीं लैणी तां इस नूं लाह के अंदर रख आ,” उन्हां याद कराइआ।
”नहीं, मासटर जी! चुन्नी गल विच पई वी सुहणी लगदी ए।”

शाइद निंदी मासटर जी नूं एना कु आपणा समझण लग पई सी कि आपणी इक अद्ध गल्ल उन्हां तों मन्नवा लवे।
”नहीं, नहीं। इथे कोई फाइदा नहीं।” ते मासटर जी ने चुन्नी खोहण लई उस दा इक लड़ फड़ लिआ! निंदी ने झट दूजा लड़ दोहां हत्थां विच घुड़ के फड़ लिआ।
मासटर जी चुन्नी नूं इक पासिओं खिच रहे सन ते निंदी दूजे पासिओं। खिचदिआं खिचदिआं निंदी ने मासटर जी वल कुझ इस तर्हां वेखिआ कि मासटर जी दी धरती सोना हो गई।

इस तों पिछों निंदी दी पड़्हाई ते कुझ होर ही चाशनी चड़्ह गई। बोल चाल ते तक्कणी वी वखरी हो गई। निंदी मासटर जी दी हो चुक्की सी।
अंदरों कुंडी मारी मासटर जी ते निंदी इको मंजी उते लेटे होए सन। पर अमल अमल दी रट लाण वाले मासटर जी तों अमल इन्नी दूर सी जिन्ना मस्सिआ दी रात तों चन्न। असल विच निंदी दे सरीर दा जोबन मासटर जी तों झल्लिआ नहीं जांदा सी। गार दी अथाह दौलत ने गरीब कासिम दे मन नूं फेह सुट्टिआ सी।
अली बाबे दी कहाणी आखर सच्ची ही सी।

कोई होर गल्ल ना अहुड़ण करके निंदी ”मासटर जी कुंडी खोल्ह दिउ।,” ”खोल्ह दिओ मासटर जी” दी रट लाई जांदी सी।
”आह, खोल्ह दित्ती कुंडी,” मासटर जी ने उठ के कुंडी खोल्हदिआं होइआ किहा। ”कुंडी खोल्ह दिओ, कुंडी खोल्ह दिओ, करी जांदी ए।”

Leave a Comment