ऐतवार सवेरे

ऐतवार सवेरे सूदां दा टब्बर कोठी दे बाहर धुप्पे बैठा सी। 
सारिआं वासते ‘बैठे’ कहिणा, शाइद ठीक ना होवे किउंकि बच्चे ते सारे खेड रहे सन। केवल सूद साहिब ते उन्हां दी पतनी ही धुप विच बैठे सन। वड्डा विनोद पर्हां विकटां गड के साहमणे बैट लै के खड़ा सी ते इक गवांढीआं दा मुंडा उस नूं बाल दे रिहा सी। उस तों छोटी सुशमा आपणी सहेली नाल कोठी दे अंदर ही सटापू खेड रही सी। कोठी वड्डी ते थां खुल्हा होण करके आंढ गुआंढ दे बच्चे खेडण लई एथे ही आ जांदे। सभ तों छोटी नीलू कोठी दे बाहरले लोहे दे गेट उते चड़्ही होई सी ते उस दी आपणी उमर दी इक सहेली गेट नूं कदी बंद कर के ते कदी खोल्ह के उस नूं हूटे दे रही सी। झट कु पिछों इस सहेली दी हूटे लैण दी वारी आ जांदी। नीलू तों वड्डा पप्पू निक्कर दीआं जेबां विच हत्थ पा के विनोद दे कोल खलोता क्रिकट वेख रिहा सी।

निघ्घी धुप्प विच बैठिआं सूद साहिब ने भज्जदे दुड़्हकदे आपणे चारां बच्चिआं ते झाती मारी ते उन्हां दे अंदर वी निघ्घ आ गिआ, जिस तर्हां उह कहि रहे होण ”दुनीआं विच सभ ठीक है। इक नवीं कार वांग इह बड़े आराम नाल ते वधीआ चल रही है।” 

कोल बैठी उन्हां दी पतनी तों उन्हां दा अंदरला निघ्घ किस तर्हां लुकिआ रहि सकदा सी। जदों बच्चे किसे पिउ दा मन नशिआ रहे होण तां मां झट बुझ्झ लैंदी है, पिउ भावें कुझ वी ना बोले। 

गेट ते हूटे लैंदी नीलू नूं इक होर खेड फुरी। उस ने दौड़ के आ के पलाट विच घाह खांदे ख़रगोश नूं चुक लिआ। ”ओए तूं किथे भज्जिआ फिरदा एं। लिआ मैं तैनूं घाह खवावां।” उस दी सहेली ने घाह खोह के दिता, पर उस दी झोली विच चुकिआ चिट्टा ख़रगोश बहुत सोहणा लगदा सी जिवें कोई वड्डा सारा खिडौणा होवे। 
”जी रातीं बड़े मज़ेदार गल्ल होई” इक सरूर विच जिवें श्रीमती सूद दीआं यादां नूं फुल्ल लग्ग पए होण। ”मैं बैठी ‘वीकली’ पड़्ह रही सां, नीलू कोल खड़ी सी। पिछले सफ़े ते बंबई दी किसे ज़ेवरां वाली दुकान दा इशतिहार सी। तसवीर विच इक औरत दे गल विच इक बड़ा सोहणा हार पाइआ होइआ सी। नीलू मेरे अगे झोली कर के रोण लग्ग पई, आखे इह एथे पा दे। मैं ‘वीकली’ इहदी झोली वल कीती, पर इह पुवावे ना ते रोई जावे। मैं समझिआ इकल्ली तसवीर मंगदी ए। मैं इशतिहार वाली तसवीर पाड़ के वी इहदी झोली विच पाणी चाही। इह उह वी ना पाण देवे, ते रोई जावे। मैं किहा मूंह नाल दस्स, की चाहुन्नी एं? कहिंदी ए मैं इह हार लैणा ए, इस तसवीर दे गलों लाह के मेरी झोली विच पा दे। मेरीआं ते हस्स हस्स के वक्खीआं पीड़ करन लग्ग पईआं, पर इह झोली कर के रोई जावे। फिर मैं किहा : ”इह जनानी हार लाहुण नहीं देंदी। इहनूं मारांगे ते तैनूं नवां हार बाज़ारों लै दिआंगे।” 

”बई वाह, कुड़ीआं बड़ीआं अजीब हुंदीआं ने।” सूद साहिब ने हस्सदे हस्सदे किहा। ”मुंडा ते विनोद बहुत सिआणा एं।” उन्हां वड्डे मुंडे दा ज़िकर छेड़िआ। इहदी मैं तैनूं इक गल्ल सुणानां। दंद डिग्ग रहे ने इहदे अज्ज कल्ह ते नवें उग रहे ने। जदों पहिले दो हेठले दंद नवें उग्गे तां बड़ा हैरान होइआ। मैनूं कहिंदा : ”पापा जी बंदा वी अजीब चीज़ बणाई ए रब्ब ने।” मैं किहा ”किओं?” कहिंदे ”आपे दंद डिगदे जांदे ने, आपे नवें उग्गी जांदे ने।”
बाहर क्रिकट खेडदे विनोद दा बाल कोठी दे अंदर रिड़्ह आइआ। पप्पू जिहड़ा कोल खलोता वेख रिहा सी, दौड़दा होइआ अंदर आइआ। आपणे माता पिता वल ते उस वेखिआ वी ना ते बाल फड़ के सिद्धा बाहर भज्ज गिआ। पप्पू वलों इस तर्हां गौले ना जाण ते दोवें जीअ मुसकराए। ”बच्चे आपणी खेड दे बड़े सक्के हुंदे ने”, श्रीमती सूद ने किहा।

सड़क ते बच्चिआं दीआं चीज़ां वेचण वालिआं नूं वी पता सी कि अज्ज ऐतवार ए ते बच्चिआं ने सकूल नहीं जाणा। चीज़ां लै के देण वाले उन्हां दे मापे वी घरे ही ने। इक बुढ्ढा छाबे विच मिट्टी दे खिडौणे सिर ते रक्खी ओधर आ निकलिआ। बच्चे खेडदे वेख के उस टोकरी सिर तों लाह के हेठ रख दिती। सुशमा जिहड़ी बाहर सड़क ते सटापू खेड रही सी, वेखदिआं सार ही रीझ गई ते भज्जी भज्जी आपणी मां कोल आई। 

”बच्ची, की करने ऐं मिट्टी दे खिडौणे। हुणे टुट जाणे ने।”
”नहीं मंमी चल के वेखो ते सही किड्डे सोहणे ने।” 
”जे मैं ओथे गई तां तुसां सारिआं ही ओथे मैनूं घेर लैणा ए।” उस ने जाण दी अद्धी सलाह बणांदिआं होइआ किहा। 
”नहीं, नहीं, सारिआं नूं लै दे। बहुत सुहणीआं हुंदीआं ने मिट्टी दीआं बाज़ीआं। होर किसे देश विच ते इह किसे मुल्ल वी ना मिलण। किसे नूं बणानीआं ही नहीं आउंदीआं। जो पहिलीआं विच उथे किसे नूं आउंदीआं सन तां हुण विसर चुक्कीआं ने।” सूद साहिब ने उतशाह दित्ता ते झट कु पिछों हर इक दी झोली मिट्टी दे कुकड़ां, मोरां, शेरां, ख़रबूज़िआं, गुजरीआं, बुढ्ढीआं ते बुढ्ढिआं नाल भरी होई सी। ते उह इक दूजे दे नेड़े आपणे खिडौणे सजा रहे सन। 
सूद साहिब नूं खिडौणिआं विच मसत बच्चिआं दा इह नज़ारा बहुत पिआरा लग्गा। चुप चाप उह अंदरों कैमरा कढ लिआए। इक पासे जिहे हो के ते बिनां बच्चिआं नूं पता लग्गण देण दे उन्हां बच्चिआं दे कई फ़ोटो लाहे।

ते उह फिर आ के श्रीमती सूद कोल बैठ गए। छोटी नीलू दूजे बच्चिआं नूं कहि रही सी : ”जी जिहड़ी मैनूं कल्ल्ह सकूलों मठिआई मिलेगी उह मैं लिआ के आपणी गुजरी नूं खुवावांगी।” 
एने नूं इक वडेरी जिही जनानी कोठी विच आई ते सूद साहिब तों संगदी सिद्धी रसोई वल्ल नूं चली गई। उस नूं पता सी कि बीबी ने वेख ते लिआ ही है, आपे आ के गल्ल पुछ लवेगी। 

”इह बच्चिआं दे मासटर दी मां ए” श्रीमती सूद ने उहदे लंघ जाण पिछों किहा। ”मैं जा के पुछनी आं की कहिंदी ए, दो तिन्न दिनां तों उह आइआ नहीं।” 
सूद साहिब दा सवेर दा अख़बार पड़्हन वाला पिआ सी। उह अख़बार लै के बैठ गए, पर बहुता धिआन उन्हां दा मासटर ते उस दी मां विच सी।
मासटर नूं रखिआ ते श्रीमती सूद ने सी ते दस्स इसे उस दी मां ने पाई सी, पर सूद साहिब वी उस नूं रोज़ घर वेखदे सन। जदों उह दफ़तरों आउंदे तां बच्चे ते उह इक मेज़ दवाले बैठे पड़्ह रहे हुंदे। सूद साहिब बिनां उस नूं पता लग्गण देण दे पैर दब्ब के लंघ जांदे। किउंकि जे उन्हां दे आउण दा खड़ाक सुण जांदा तां उह उठ के खलो जांदा, नमसते करदा ते उन्ना चिर खड़ा ही रहिंदा, जिन्ना चिर सूद साहिब अक्खों उहले ना हो जांदे। सूद साहिब उस तों हर रोज़ ऐवें वाधू दी नमसते नहीं करवाणा चाहुंदे सन। जां शाइद उहनां नूं उस कोलों संग आउंदी सी। उह ना ते एना वड्डा सी कि उहनां दा हाणी बण सके ते ना एना छोटा कि उन्हां दा बच्चा। उमर दे एने कु फ़रक विच गल्ल करनी औखी हो जांदी है। उस तर्हां सूद साहिब नूं उस नाल बड़ी हमदरदी सी। उन्हां नूं अफ़सोस सी कि उस दी आपणी पड़्हाई रुक गई सी।

”इह आप किउं नहीं पड़्हदा?” इक दिन सूद साहिब ने आपणी पतनी तों पुछिआ सी। ”पड़्हे किवें? इक आप वे ते इक निक्का भरा ते इक भैण ते इक मां। इस तर्हां अंजाणे पड़्ह के सारिआं दा गुज़ारा टोरदा ए। होर कमाण वाला कोई नहीं। आप पड़्हन लग्ग जाए तां टब्बर दा डंग किवें टुरे?”
श्रीमती सूद ते उह बुढ्ढी दोवें इकट्ठीआं ही बाहर आ गईआं। श्रीमती सूद ते आ के आपणी पहिली थां ते बैठ गई ते उह बुढ्ढी बाहर निकल गई। श्रीमती सूद दा चिहरा लत्था होइआ सी। 

”की गल्ल सी?” सूद साहिब ने पुछिआ। बिनां ख़ास कंम दे जनानीआं ऐतवार किसे दे घर घट्ट ही जांदीआं ने। 
”गल्ल की होई ए। विचारी दा मुंडा बीमार ए। मुहरका ताप चड़्ह गिआ सू। रोंदी सी विचारी। आंहदी सी, किवें खांवां गे ते दवा किथों करांगे। मैं बणदी तनख़ाह दे दित्ती ए, दस रुपईए होर दिते ने, पर दसां नाल बीमारी विच की बणदा ए? टब्बर वी होइआ खाण वाला। मैं आखिआ ए फेर आवीं होर दिआंगी। पर किन्ने कु दे सकदा ए कोई। सक्खणा घर ते जिहड़ी भोरा आमदन सी उह वी रुक गई।”

साहमणे बच्चे खिडौणिआं नाल खेड रहे सन। धुप निघ्घी ते सुआदी सी। सूद साहिब अते श्रीमती सूद कोलों कोल बैठे सन। पर कोई गल्ल नहीं हो सकदी सी। रस मारिआ गिआ सी। उन्हां दे मन ते उस बेआसरा टब्बर दा परछावां सी जिस विचों इक मुंडा रोज़ उन्हां दे घर आ के बैठदा हुंदा सी, ते उन्हां दे बच्चिआं नूं पड़्हाउंदा सी। 

Leave a Comment