Hindi

पापा वल्ल चिट्ठी

 ”पापा, इह तां कदी सुपने विच ही नहीं सी सोचिआ कि तुसीं इंझ चले जाओगे, सानूं छड्ड के। बहुत अजीब लग्गदा है, तुहाडे तों बिनां किवें रहांगे, किस कोल दौड़िआ करांगे हर गल्ल दी सलाह लैण? कौण सानूं हौसला दएगा हुण-करो जो कुझ करना चाहुंदे हो, मैं तुहाडे नाल हां!”॥।”जदों असीं छोटे-छोटे हुंदे सी, तुसीं …

पापा वल्ल चिट्ठी Read More »

मेरा पती, मेरा लेखक कुलवंत सिंघ विरक

हरबंस कौर विरक   विरक दे लिखण दा अंदाज़ आपणा ही सी। उन्हां नूं कदे कोई ख़ास जग्हा, इकल्ल दी लोड़ नहीं पैंदी सी। ना ही कदे शराब दा सहारा लैण दी लोड़ पैंदी। बच्चे रौला पाउंदे रहिण, रेडीओ चल्लदा रहे जां असीं टी।वी। देख रहे हुंदे। उह सभ कासे तों निरलेप आपणे कंम विच रुझ्झे …

मेरा पती, मेरा लेखक कुलवंत सिंघ विरक Read More »

कुलवंत सिंघ विरक(कुड़ीआं दा कहाणीकार)

हरप्रीत सिंघ प्रीत  ”सुहप्पण दा जिन्ना वाधा पिआर कुड़ी नूं बख़शदा है, मुंडे ते उस दा पासकू वी नहीं आउंदा। कुड़ी दीआं मुसकड़ीआं डुल्ल्ह-डुल्ल्ह पैंदीआं सन। भावें उस नूं इन्हां दे मुक्क जाण दा कोई डर नहीं सी तां वी इन्हां नूं ऐवें खिलारना नहीं चाहुंदी सी। इस लई दब्ब-दब्ब घुट्ट-घुट्ट के रक्खदी, पर जदों …

कुलवंत सिंघ विरक(कुड़ीआं दा कहाणीकार) Read More »

बेमिसाल कहाणीकार

वरिआम सिंघ संधू  जद वी कदे पंजाबी कहाणी दी गल्ल तुरी है तां मुड़-घिड़ के गल्ल कुलवंत सिंघ विरक ‘ते आ टिकदी रही है। की पंजाबी कहाणी विरक दी कहाणी तों अग्गे गई है जां नहीं?- इह प्रशन अकसर बहिस दा मुद्दा बणदा रिहा है। निरसंदेह, कुलवंत सिंघ विरक पंजाबी कहाणी दा आदरश सी, मापदंड सी। …

बेमिसाल कहाणीकार Read More »

मेरा हमदम रणधीर सिंघ चंद

   कुलवंत सिंघ विरक नूं मैं पिछले सतारां वर्हिआं तों जाणदा हां। भावें मेरी ते उसदी उमर विच पिओ-पुत्तर जिन्ना फ़रक है। पर कोई चौदां सालां तों मेरी उस दी आपणी किसम दी दोसती है, जिस विच कदे उतावलापन नहीं आइआ। इस सारे समें विच मैं अनुभव कीता है कि बहुत सारे लोकां तों उलट विरक …

मेरा हमदम रणधीर सिंघ चंद Read More »

विरक हुरां वरगा बंदा नहीं किसे बण जाणा मोहन भंडारी

 इक्क वेर कुलवंत सिंघ विरक मैनूं अचानक टक्कर गिआ। उह चंडीगड़्ह दे सतारां सैकटर दे इक्क सिनमे मूहरे खड़्हा छल्ली चब्ब रिहा सी। भुन्नी होई मक्की दी छल्ली। उह बाहे दाही कढ्ढे होए दाणे आपणी हथेली ‘ते निहारदा अते दबासट्ट फक्का मार लैंदा। उस समें पंजाब दे मुक्ख मंतरी दी प्रैस्स सकत्तरी अते मन्ने-दन्ने लेखक …

विरक हुरां वरगा बंदा नहीं किसे बण जाणा मोहन भंडारी Read More »

कुलवंत सिंघ विरक समकालीआं दी नज़र ‘च

 ”जो कुझ दुग्गल ने उत्तरी पंजाब दी उपभाशा दा इसतेमाल करके प्रापत कीता है, उहो विरक ने लाहौर ते उस दे आसे-पासे दी भाशा नूं वरत के कीता। भावें दुग्गल दा प्रभाव उस दीआं कहाणीआं ‘ते प्रतक्ख देखिआ जा सकदा है, पर विरक दे विशे ‘ते पातर पंजाब दे बहुत जोशीले हिस्से विचों लए गए …

कुलवंत सिंघ विरक समकालीआं दी नज़र ‘च Read More »

कुलवंत सिंघ विरक(प्रेम प्रकाश खन्नवी)

कुलवंत सिंघ विरक कोई इहो जिहा ग्रंथ नहीं जीहदा टीका करना पवे जां वाक दे बाअद ‘अरथात’ लिखणा पवे। उह इक्क खुल्ल्ही किताब है, जीहदी शैली, इमला ते इबारत बहुत ही सादी है, जिवें लोक गीत। लोक गीत वी ‘अद्धी तेरी वी मुलाहजेदारा, अद्धी हां॥।’ वरगे, जिन्हां नूं तोल-माप पूरा करके, लिशका के माडरनाईज़ नहीं …

कुलवंत सिंघ विरक(प्रेम प्रकाश खन्नवी) Read More »

विरक दी कहाणी कला प्रो। हरबंस सिंघ (पंजाबी यूनीवरसिटी, पटिआला)

आधुनिक कहाणी विशे वसतू वल्लों यथारथवादी है। इह प्रधान तौर ‘ते ‘मनुक्ख’, उस दीआं समस्सिआवां ते मुशकलां, उस दी जिंद दीआं भावनावां अते उस दीआं मानसक खिचोताणां नूं वरनण करदी है। इह मनुक्ख दे मन विच डूंघा गोता लाउंदी है। उस दे सुभाअ ते विहार-वतीरे दा अधिअन करदी है।इक्क मज़मून, जिहड़ा पंजाबी कहाणीआं विच वार-वार …

विरक दी कहाणी कला प्रो। हरबंस सिंघ (पंजाबी यूनीवरसिटी, पटिआला) Read More »

विरक दी कहाणी दा मानववाद प्रो। संत सिंघ सेखों

कुझ साल होए जदों विरक अंबाले रहिंदा सी तां दसंबर दीआं छुट्टीआं विच दुग्गल ते मैं उस पास गए होए सां। उत्थे साहित चरचा दे दौरान विच मेरा प्रिय सिधांत कि साहित विच समाजक सारथकता होणी चाहीदी है, आम आ जांदा सी ते दुग्गल ते विरक दोवें इस दी आवशकता नूं मन्नण तों झिजकदे सन। …

विरक दी कहाणी दा मानववाद प्रो। संत सिंघ सेखों Read More »